Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jul 2023 · 1 min read

” तिलिस्मी जादूगर “

” तिलिस्मी जादूगर ”
जादू से सबको रहस्यमयी बनाता
बच्चों के मन में उत्साह भर देता
कभी मानव को हवा में उड़ा देता
बूढ़ा कभी तो खुद बच्चा बन जाता,
जादुई नोटों से कभी बरसात करता
खरगोश को कभी कबूतर बना देता
एक छतरी से निकाले अनेकों छाते
रुमाल से कभी तिरंगा झंडा बना देता,
खाली भगोने से ये निकालता पानी
वाटर ऑफ इंडिया ख़तम नहीं होता
झोले से निकालता बर्तन और मिठाई
बिना बटन के रेडियो से संगीत बजाता,
कोरे कागज को जलाकर पैसे बनाता
राख में से ये पुष्प गुच्छ निकाल लाता
बच्चों के बाल मुख से टोटके बुलवाता
ताली बजा बजा फिर सबको हंसाता,
रस्सी से कस कर खुद को बांध लेता
आग से बचकर फिर भी निकल जाता
छोटे बॉक्स में लड़की को कैद करता
चारों ओर बॉक्स में तलवार डालता,
अपने जादू का पिटारा जब खोलता
सबके मुखारविंद से वाह निकलता
जादूगर की अपनी अलग ही दुनिया
हर वर्ग को हर्षो उल्लास से भर देता,
विज्ञान की मदद से ये खेल दिखाता
तिलिस्मी दुनिया का है ये महाराजा
स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी को गायब करता
तभी तो तिलिस्मी जादूगर कहलाता।

Language: Hindi
1 Like · 424 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Meenu Poonia
View all
You may also like:
आज ही का वो दिन था....
आज ही का वो दिन था....
Srishty Bansal
आँसू छलके आँख से,
आँसू छलके आँख से,
sushil sarna
जंग अहम की
जंग अहम की
Mamta Singh Devaa
मैया तेरा लाडला ये हमको सताता है
मैया तेरा लाडला ये हमको सताता है
कृष्णकांत गुर्जर
अनपढ़ दिखे समाज, बोलिए क्या स्वतंत्र हम
अनपढ़ दिखे समाज, बोलिए क्या स्वतंत्र हम
Pt. Brajesh Kumar Nayak
आजादी दिवस
आजादी दिवस
लक्ष्मी सिंह
कविता -
कविता - "सर्दी की रातें"
Anand Sharma
बस्ती जलते हाथ में खंजर देखा है,
बस्ती जलते हाथ में खंजर देखा है,
ज़ैद बलियावी
*तेरे इंतज़ार में*
*तेरे इंतज़ार में*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
होली
होली
Madhavi Srivastava
कहती जो तू प्यार से
कहती जो तू प्यार से
The_dk_poetry
वापस लौट आते हैं मेरे कदम
वापस लौट आते हैं मेरे कदम
gurudeenverma198
*नेता बेचारा फॅंसा, कभी जेल है बेल (कुंडलिया)*
*नेता बेचारा फॅंसा, कभी जेल है बेल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
नश्वर संसार
नश्वर संसार
Shyam Sundar Subramanian
दूसरों के अधिकारों
दूसरों के अधिकारों
Dr.Rashmi Mishra
जीवन
जीवन
Bodhisatva kastooriya
नारी का सम्मान 🙏
नारी का सम्मान 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
#विषय --रक्षा बंधन
#विषय --रक्षा बंधन
rekha mohan
हम तुम्हारे हुए
हम तुम्हारे हुए
नेताम आर सी
"सिलसिला"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल _ क्या हुआ मुस्कुराने लगे हम ।
ग़ज़ल _ क्या हुआ मुस्कुराने लगे हम ।
Neelofar Khan
■ एक मिसाल...
■ एक मिसाल...
*प्रणय प्रभात*
जहां प्रगटे अवधपुरी श्रीराम
जहां प्रगटे अवधपुरी श्रीराम
Mohan Pandey
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
Dr. Man Mohan Krishna
सुनो ये मौहब्बत हुई जब से तुमसे ।
सुनो ये मौहब्बत हुई जब से तुमसे ।
Phool gufran
3055.*पूर्णिका*
3055.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मउगी चला देले कुछउ उठा के
मउगी चला देले कुछउ उठा के
आकाश महेशपुरी
शिक्षा सकेचन है व्यक्तित्व का,पैसा अधिरूप है संरचना का
शिक्षा सकेचन है व्यक्तित्व का,पैसा अधिरूप है संरचना का
पूर्वार्थ
मैने वक्त को कहा
मैने वक्त को कहा
हिमांशु Kulshrestha
आज का अभिमन्यु
आज का अभिमन्यु
विजय कुमार अग्रवाल
Loading...