Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2023 · 1 min read

झील किनारे

पलो से किये है तैयार लम्हे तुम्हारे लिए
एक दिन आना तुम ख्वाब में हमारे लिए
तुम को अपनी प्यारी दुनिया में ले जाएंगे
कुछ नगमे जो लिखे हैं झील सी आंखों पर
झील किनारे तुम को सुनाएंगे
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज)

2 Likes · 259 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
View all
You may also like:
"फसाद की जड़"
Dr. Kishan tandon kranti
जन्नत का हरेक रास्ता, तेरा ही पता है
जन्नत का हरेक रास्ता, तेरा ही पता है
Dr. Rashmi Jha
2585.पूर्णिका
2585.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
आओ करें हम अर्चन वंदन वीरों के बलिदान को
आओ करें हम अर्चन वंदन वीरों के बलिदान को
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
स्त्री चेतन
स्त्री चेतन
Astuti Kumari
सुस्त हवाओं की उदासी, दिल को भारी कर जाती है।
सुस्त हवाओं की उदासी, दिल को भारी कर जाती है।
Manisha Manjari
यह सुहाना सफर अभी जारी रख
यह सुहाना सफर अभी जारी रख
Anil Mishra Prahari
राष्ट्र निर्माता गुरु
राष्ट्र निर्माता गुरु
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*Each moment again I save*
*Each moment again I save*
Poonam Matia
■ आत्मावलोकन।
■ आत्मावलोकन।
*प्रणय प्रभात*
*ख़ुद मझधार में होकर भी...*
*ख़ुद मझधार में होकर भी...*
Rituraj shivem verma
........,!
........,!
शेखर सिंह
आईना बोला मुझसे
आईना बोला मुझसे
Kanchan Advaita
*सिरफिरा (लघुकथा)*
*सिरफिरा (लघुकथा)*
Ravi Prakash
अंतरात्मा की आवाज
अंतरात्मा की आवाज
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सीढ़ियों को दूर से देखने की बजाय नजदीक आकर सीढ़ी पर चढ़ने का
सीढ़ियों को दूर से देखने की बजाय नजदीक आकर सीढ़ी पर चढ़ने का
Paras Nath Jha
......मंजिल का रास्ता....
......मंजिल का रास्ता....
Naushaba Suriya
गज़ल सी कविता
गज़ल सी कविता
Kanchan Khanna
Mai pahado ki darak se bahti hu,
Mai pahado ki darak se bahti hu,
Sakshi Tripathi
नाम उल्फत में तेरे जिंदगी कर जाएंगे।
नाम उल्फत में तेरे जिंदगी कर जाएंगे।
Phool gufran
जिंदगी के रंगों को छू लेने की,
जिंदगी के रंगों को छू लेने की,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"मुझे हक सही से जताना नहीं आता
पूर्वार्थ
माँ-बाप
माँ-बाप
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
न्याय यात्रा
न्याय यात्रा
Bodhisatva kastooriya
मनका छंद ....
मनका छंद ....
sushil sarna
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
Maroof aalam
दीपक इसलिए वंदनीय है क्योंकि वह दूसरों के लिए जलता है दूसरो
दीपक इसलिए वंदनीय है क्योंकि वह दूसरों के लिए जलता है दूसरो
Ranjeet kumar patre
नौ वर्ष(नव वर्ष)
नौ वर्ष(नव वर्ष)
Satish Srijan
मंगल मय हो यह वसुंधरा
मंगल मय हो यह वसुंधरा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
साकार आकार
साकार आकार
Dr. Rajeev Jain
Loading...