Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2017 · 1 min read

जुल्म की इन्तहा

“ जुल्म की इन्तहा ” करके “ जहाँ ” में वो वफ़ा की उम्मीद करते ,
खुशियाँ छीनकर “जग के मालिक” से खुशियों की उम्मीद करते I

प्यार के गुलशन में “गुनाह” करके वो जरा भी “उफ” नहीं करते ,
हम अगर “उफ” भी करते हैं , तो उसे वो “गुनाह” का नाम देते ,
गुलशन में आग लगाकर “ प्यार के फूलों ” की उम्मीद करते ,
इंसानियत को तार-2 करके जग में अच्छाइयों की उम्मीद करते ,

“ जुल्म की इन्तहा ” “जहाँ ” में करके वो वफ़ा की उम्मीद करते ,
खुशियाँ छीनकर “जग के मालिक” से खुशियों की उम्मीद करते I

बहन-बेटियों की आबरू से खेलकर तुझे क्या मिलेगा ?
नफरत की दीवाल से घरोंदा सजाकर तुझे क्या मिलेगा ?
“भारत के आँगन ” में कांटे बिछाकर तुझे क्या मिलेगा ?
जीवन के खाते में गुनाहों को बढ़ाकर तुझे क्या मिलेगा ?

“ जुल्म की इन्तहा ” “जहाँ ” में करके वो वफ़ा की उम्मीद करते ,
खुशियाँ छीनकर “जग के मालिक” से खुशियों की उम्मीद करते I

“समझ –ए नादान इंसान” जग में फिर दुबारा मौका न मिलेगा ,
“ प्यार के फूल ” खिला दे जग में फिर दुबारा मौका न मिलेगा ,
“इंसानियत का दीपक” जला दे जग में फिर दुबारा मौका न मिलेगा ,
“राज” डर उस “जग के रखवाले ” से फिर दुबारा मौका न मिलेगा ,

“ जुल्म की इन्तहा ” “जहाँ ” में करके वो वफ़ा की उम्मीद करते ,
खुशियाँ छीनकर “जग के मालिक” से खुशियों की उम्मीद करते I

देशराज “राज”
कानपुर

1 Like · 2 Comments · 2292 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सुविचार
सुविचार
Neeraj Agarwal
पिता
पिता
Kanchan Khanna
मौसम ने भी ली अँगड़ाई, छेड़ रहा है राग।
मौसम ने भी ली अँगड़ाई, छेड़ रहा है राग।
डॉ.सीमा अग्रवाल
जीवन से पहले या जीवन के बाद
जीवन से पहले या जीवन के बाद
Mamta Singh Devaa
हम बात अपनी सादगी से ही रखें ,शालीनता और शिष्टता कलम में हम
हम बात अपनी सादगी से ही रखें ,शालीनता और शिष्टता कलम में हम
DrLakshman Jha Parimal
कविता: सजना है साजन के लिए
कविता: सजना है साजन के लिए
Rajesh Kumar Arjun
2857.*पूर्णिका*
2857.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
स्वयं से सवाल
स्वयं से सवाल
आनन्द मिश्र
महामोदकारी छंद (क्रीड़ाचक्र छंद ) (18 वर्ण)
महामोदकारी छंद (क्रीड़ाचक्र छंद ) (18 वर्ण)
Subhash Singhai
When life  serves you with surprises your planning sits at b
When life serves you with surprises your planning sits at b
Nupur Pathak
संत पुरुष रहते सदा राग-द्वेष से दूर।
संत पुरुष रहते सदा राग-द्वेष से दूर।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
"सूत्र"
Dr. Kishan tandon kranti
हमे यार देशी पिला दो किसी दिन।
हमे यार देशी पिला दो किसी दिन।
विजय कुमार नामदेव
तेरा इश्क मेरे दिल की दवा है।
तेरा इश्क मेरे दिल की दवा है।
Rj Anand Prajapati
*कुकर्मी पुजारी*
*कुकर्मी पुजारी*
Dushyant Kumar
स्वयं का न उपहास करो तुम , स्वाभिमान की राह वरो तुम
स्वयं का न उपहास करो तुम , स्वाभिमान की राह वरो तुम
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जीवन का अंत है, पर संभावनाएं अनंत हैं
जीवन का अंत है, पर संभावनाएं अनंत हैं
Pankaj Sen
ये जो समुद्र है कि बड़े अकड़ में रहता है
ये जो समुद्र है कि बड़े अकड़ में रहता है
कवि दीपक बवेजा
*राम अर्थ है भवसागर से, तरने वाले नाम का (मुक्तक)*
*राम अर्थ है भवसागर से, तरने वाले नाम का (मुक्तक)*
Ravi Prakash
स्वभाव
स्वभाव
अखिलेश 'अखिल'
आलस्य का शिकार
आलस्य का शिकार
Paras Nath Jha
माॅ प्रकृति
माॅ प्रकृति
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
एक मीठा सा एहसास
एक मीठा सा एहसास
हिमांशु Kulshrestha
सांप्रदायिक उन्माद
सांप्रदायिक उन्माद
Shekhar Chandra Mitra
नारी
नारी
विजय कुमार अग्रवाल
!! मुरली की चाह‌ !!
!! मुरली की चाह‌ !!
Chunnu Lal Gupta
गुरु श्रेष्ठ
गुरु श्रेष्ठ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मोर
मोर
Manu Vashistha
सरकारी नौकरी
सरकारी नौकरी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दोहे
दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...