Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Feb 22, 2017 · 1 min read

जुल्म की इन्तहा

“ जुल्म की इन्तहा ” करके “ जहाँ ” में वो वफ़ा की उम्मीद करते ,
खुशियाँ छीनकर “जग के मालिक” से खुशियों की उम्मीद करते I

प्यार के गुलशन में “गुनाह” करके वो जरा भी “उफ” नहीं करते ,
हम अगर “उफ” भी करते हैं , तो उसे वो “गुनाह” का नाम देते ,
गुलशन में आग लगाकर “ प्यार के फूलों ” की उम्मीद करते ,
इंसानियत को तार-2 करके जग में अच्छाइयों की उम्मीद करते ,

“ जुल्म की इन्तहा ” “जहाँ ” में करके वो वफ़ा की उम्मीद करते ,
खुशियाँ छीनकर “जग के मालिक” से खुशियों की उम्मीद करते I

बहन-बेटियों की आबरू से खेलकर तुझे क्या मिलेगा ?
नफरत की दीवाल से घरोंदा सजाकर तुझे क्या मिलेगा ?
“भारत के आँगन ” में कांटे बिछाकर तुझे क्या मिलेगा ?
जीवन के खाते में गुनाहों को बढ़ाकर तुझे क्या मिलेगा ?

“ जुल्म की इन्तहा ” “जहाँ ” में करके वो वफ़ा की उम्मीद करते ,
खुशियाँ छीनकर “जग के मालिक” से खुशियों की उम्मीद करते I

“समझ –ए नादान इंसान” जग में फिर दुबारा मौका न मिलेगा ,
“ प्यार के फूल ” खिला दे जग में फिर दुबारा मौका न मिलेगा ,
“इंसानियत का दीपक” जला दे जग में फिर दुबारा मौका न मिलेगा ,
“राज” डर उस “जग के रखवाले ” से फिर दुबारा मौका न मिलेगा ,

“ जुल्म की इन्तहा ” “जहाँ ” में करके वो वफ़ा की उम्मीद करते ,
खुशियाँ छीनकर “जग के मालिक” से खुशियों की उम्मीद करते I

देशराज “राज”
कानपुर

1 Like · 2 Comments · 1123 Views
You may also like:
बाबा ब्याह ना देना,,,
Taj Mohammad
मेहनत का फल
Buddha Prakash
मेरी लेखनी
Anamika Singh
रक्षाबंधन गीत
Dr Archana Gupta
इब्ने सफ़ी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
शमा से...!!!
Kanchan Khanna
Think
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मैं हैरान हूं।
Taj Mohammad
- मेरा प्रेम कागज,कलम व पुस्तक -
bharat gehlot
तीन शर्त"""'
Prabhavari Jha
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
जग का राजा सूर्य
Buddha Prakash
इनक मोतियो का
shabina. Naaz
✍️चाँद में रोटी✍️
'अशांत' शेखर
मेरे गांव में होने लगा है शामिल थोड़ा शहर:भाग:2
AJAY AMITABH SUMAN
बेजुबान जानवर अपने दोस्त
Manoj Tanan
बदरिया
Dhirendra Panchal
“ स्वप्न मे भेंट भेलीह “ मिथिला माय “
DrLakshman Jha Parimal
दर बदर।
Taj Mohammad
मेरी बेटी मेरी सहेली
लक्ष्मी सिंह
वसंत का संदेश
Anamika Singh
जिंदगी का काम  तो है उलझाना
Dr.Alpa Amin
जिन्दगी एक दरिया है
Anamika Singh
सेमल के वृक्ष...!
मनोज कर्ण
दर्दों ने घेरा।
Taj Mohammad
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
ख्वाब
Swami Ganganiya
# तेल लगा के .....
Chinta netam " मन "
मेरे हर सिम्त जो ग़म....
अश्क चिरैयाकोटी
जिसे पाया नहीं मैंने
Dr fauzia Naseem shad
Loading...