Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Feb 2024 · 1 min read

जीवन

जीवन दो दिनों का मेला है,
फिर लोग क्यों अपनों से करता झमेला हैं ।१।

दुःख तो सभी को मिला है,
फिर सुख में किस बात की रेला है ।२।

अपने कर्मों का फल सभी को मिला है,
फिर लोगों की भीड में क्यो हमेशा ठेलम–ठेला है ।३।

कष्ट किसने नही झेला है,
फिर निराश होने का क्यो झमेला है ।४।

#दिनेश_यादव, काठमाण्डू (नेपाल)

Language: Hindi
1 Like · 85 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
View all
You may also like:
आश्रय
आश्रय
goutam shaw
जमाना तो डरता है, डराता है।
जमाना तो डरता है, डराता है।
Priya princess panwar
बगिया* का पेड़ और भिखारिन बुढ़िया / MUSAFIR BAITHA
बगिया* का पेड़ और भिखारिन बुढ़िया / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
#तन्ज़िया_शेर...
#तन्ज़िया_शेर...
*Author प्रणय प्रभात*
होली (विरह)
होली (विरह)
लक्ष्मी सिंह
"आखिरी निशानी"
Dr. Kishan tandon kranti
मुझे  बखूबी याद है,
मुझे बखूबी याद है,
Sandeep Mishra
रे ! मेरे मन-मीत !!
रे ! मेरे मन-मीत !!
Ramswaroop Dinkar
*प्रीति के जो हैं धागे, न टूटें कभी (मुक्तक)*
*प्रीति के जो हैं धागे, न टूटें कभी (मुक्तक)*
Ravi Prakash
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"दीप जले"
Shashi kala vyas
फेर रहे हैं आंख
फेर रहे हैं आंख
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
फिर से
फिर से
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
यादों का सफ़र...
यादों का सफ़र...
Santosh Soni
आज हम जा रहे थे, और वह आ रही थी।
आज हम जा रहे थे, और वह आ रही थी।
SPK Sachin Lodhi
2477.पूर्णिका
2477.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
गुस्सा सातवें आसमान पर था
गुस्सा सातवें आसमान पर था
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जो चाहने वाले होते हैं ना
जो चाहने वाले होते हैं ना
पूर्वार्थ
शिक्षित बनो शिक्षा से
शिक्षित बनो शिक्षा से
gurudeenverma198
चिड़िया बैठी सोच में, तिनका-तिनका जोड़।
चिड़िया बैठी सोच में, तिनका-तिनका जोड़।
डॉ.सीमा अग्रवाल
" मुझमें फिर से बहार न आयेगी "
Aarti sirsat
चिंतन और अनुप्रिया
चिंतन और अनुप्रिया
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
सफ़ारी सूट
सफ़ारी सूट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
गरीबी
गरीबी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दौलत
दौलत
Neeraj Agarwal
फागुन में.....
फागुन में.....
Awadhesh Kumar Singh
क्या सीत्कार से पैदा हुए चीत्कार का नाम हिंदीग़ज़ल है?
क्या सीत्कार से पैदा हुए चीत्कार का नाम हिंदीग़ज़ल है?
कवि रमेशराज
अपना गाँव
अपना गाँव
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
हम गैरो से एकतरफा रिश्ता निभाते रहे #गजल
हम गैरो से एकतरफा रिश्ता निभाते रहे #गजल
Ravi singh bharati
Loading...