Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jan 2024 · 1 min read

जा रहा हु…

जा रहा हूं

आया था कुछ सीखने
सिख के जा रहा हूं
नई साथी के तलाश
नई उम्मीद के आश मे l

तूने बहुत कुछ दिया है मुझे
मैं तेरा कर्ज कैसे चुकाउंगा
समय मिले तो याद कर लेना
चेहरे पर मुस्कान बन जावुगा

मुश्किलों में साथ दिया आपने
गिरते हुए को हाथ दिया आपने
मुझ जैसे नासमझ को बहुत
कुछ सिखा दिया आपने

तेरा मेरा साथ यही तक है
दोनों का राज यही तक है
मेरे हर राज की गहराई में
हमेशा डूब के रह जाऊंगा

मिले तो सुख दुःख बता देना
हाथ मिलाके अपना लेना
जहग छोड़ के जा रहा हु
जहा छोड़ के नहीं l

रंजीत कुमार पात्रे
कोटा बिलासपुर छत्तीसगढ़

Language: Hindi
1 Like · 82 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यादों की तुरपाई कर दें
यादों की तुरपाई कर दें
Shweta Soni
अच्छा रहता
अच्छा रहता
Pratibha Pandey
देश- विरोधी तत्व
देश- विरोधी तत्व
लक्ष्मी सिंह
*चिंता चिता समान है*
*चिंता चिता समान है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अपने और पराए
अपने और पराए
Sushil chauhan
माँ i love you ❤ 🤰
माँ i love you ❤ 🤰
Swara Kumari arya
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मैनें प्रत्येक प्रकार का हर दर्द सहा,
मैनें प्रत्येक प्रकार का हर दर्द सहा,
Aarti sirsat
यूँ ही ऐसा ही बने रहो, बिन कहे सब कुछ कहते रहो…
यूँ ही ऐसा ही बने रहो, बिन कहे सब कुछ कहते रहो…
Anand Kumar
*बहस का अर्थ केवल यह, बहस करिए विचारों से  【मुक्तक】*
*बहस का अर्थ केवल यह, बहस करिए विचारों से 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
2319.पूर्णिका
2319.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हां मैंने ख़ुद से दोस्ती की है
हां मैंने ख़ुद से दोस्ती की है
Sonam Puneet Dubey
"दीप जले"
Shashi kala vyas
एक ही पक्ष में जीवन जीना अलग बात है। एक बार ही सही अपने आयाम
एक ही पक्ष में जीवन जीना अलग बात है। एक बार ही सही अपने आयाम
पूर्वार्थ
वक्त आने पर भ्रम टूट ही जाता है कि कितने अपने साथ है कितने न
वक्त आने पर भ्रम टूट ही जाता है कि कितने अपने साथ है कितने न
Ranjeet kumar patre
अल्फाज़
अल्फाज़
हिमांशु Kulshrestha
कतौता
कतौता
डॉ० रोहित कौशिक
"लहर"
Dr. Kishan tandon kranti
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
जिंदगी हमने जी कब,
जिंदगी हमने जी कब,
Umender kumar
अरमान
अरमान
Kanchan Khanna
#जी_का_जंजाल
#जी_का_जंजाल
*Author प्रणय प्रभात*
सत्य की खोज
सत्य की खोज
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मैं तो महज नीर हूँ
मैं तो महज नीर हूँ
VINOD CHAUHAN
घर वापसी
घर वापसी
Aman Sinha
** मुक्तक **
** मुक्तक **
surenderpal vaidya
"श्रृंगारिका"
Ekta chitrangini
महोब्बत करो तो सावले रंग से करना गुरु
महोब्बत करो तो सावले रंग से करना गुरु
शेखर सिंह
नवरात्रि के इस पावन मौके पर, मां दुर्गा के आगमन का खुशियों स
नवरात्रि के इस पावन मौके पर, मां दुर्गा के आगमन का खुशियों स
Sahil Ahmad
Loading...