Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Oct 2023 · 1 min read

ज़रूरी है…!!!!

ज़िंदगियों के बाज़ार में….
टूटना भी है, बिखरना भी है, लेकिन फिर ज़िंदगी को ज़िंदगी के लिए सवाँरना ज़रूरी है,
किसी की जीत के लिए किसी का हारना जरूरी है।।
इमारत का एक दिन ढहना ज़रूरी है….
गर मोहब्बत हो एकतरफ़ा तो दर्दों को सहना जरूरी है।।
रोशन चिरागों के तले अंधेरा होना ज़रूरी है….
अंधेरी रातों का सवेरा होना जरूरी है।।
कभी-कभी दो दिलों के दरमियाँ फ़ासलें का मंज़र होना ज़रूरी है….
जब अंतर्मन में तूफान उठ रहा हो तो आंखों का समंदर होना ज़रूरी है।।
ज़िंदगी में ज़िंदगी जीने के लिए वजह होना ज़रूरी है….
मोहब्बत हो तो दिल में उसके लिए जगह होना ज़रूरी है।।
आफताब(रौशनी) और निशा(अंधकार) की जंग होना ज़रूरी है….
चांद का रात के संग होना ज़रूरी है।।
जहां पैगाम- ए- इश्क की बात आए तो बातों ही बातों में उसका ज़िकर आना ज़रूरी है….
जब ख्वाब टूट कर बिखर जाए तो दिल को सच्चाई से रूबरू कराना ज़रूरी है।।
मोहब्बत का पैगाम देते हैं जो महफ़िल में, उस मोहब्बत का अनंत होना ज़रूरी है….
रिश्तो को निभाने के लिए उनका जीवन्त होना ज़रूरी है….
एक सफ़र की शुरुआत होकर उसका अंत होना जरूरी है।।
परिंदों का शाम होते ही शाखों पर आना ज़रूरी है….
और ज़िंदगी है रब का खूबसूरत- सा तोहफ़ा इसीलिए जिंदगी में जिंदगी भर मुस्कुराना ज़रूरी है….!!!!!
-ज्योति खारी

3 Likes · 188 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरे कान्हा
मेरे कान्हा
umesh mehra
ठंडा - वंडा,  काफ़ी - वाफी
ठंडा - वंडा, काफ़ी - वाफी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
यूँ तो हम अपने दुश्मनों का भी सम्मान करते हैं
यूँ तो हम अपने दुश्मनों का भी सम्मान करते हैं
ruby kumari
*य से यज्ञ (बाल कविता)*
*य से यज्ञ (बाल कविता)*
Ravi Prakash
शिष्टाचार
शिष्टाचार
लक्ष्मी सिंह
मेरे मित्र के प्रेम अनुभव के लिए कुछ लिखा है  जब उसकी प्रेमि
मेरे मित्र के प्रेम अनुभव के लिए कुछ लिखा है जब उसकी प्रेमि
पूर्वार्थ
दर्द-ए-सितम
दर्द-ए-सितम
Dr. Sunita Singh
सब पर सब भारी ✍️
सब पर सब भारी ✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
तुमने कितनो के दिल को तोड़ा है
तुमने कितनो के दिल को तोड़ा है
Madhuyanka Raj
उदास हो गयी धूप ......
उदास हो गयी धूप ......
sushil sarna
पंचायती राज दिवस
पंचायती राज दिवस
Bodhisatva kastooriya
जिंदगी और रेलगाड़ी
जिंदगी और रेलगाड़ी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*Khus khvab hai ye jindagi khus gam ki dava hai ye jindagi h
*Khus khvab hai ye jindagi khus gam ki dava hai ye jindagi h
Vicky Purohit
हिंदी दिवस
हिंदी दिवस
Akash Yadav
तड़के जब आँखें खुलीं, उपजा एक विचार।
तड़के जब आँखें खुलीं, उपजा एक विचार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मातृ रूप
मातृ रूप
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
अलगौझा
अलगौझा
भवानी सिंह धानका "भूधर"
जीवन का मुस्कान
जीवन का मुस्कान
Awadhesh Kumar Singh
#दोहा-
#दोहा-
*Author प्रणय प्रभात*
इतनी जल्दी क्यूं जाते हो,बैठो तो
इतनी जल्दी क्यूं जाते हो,बैठो तो
Shweta Soni
मृतशेष
मृतशेष
AJAY AMITABH SUMAN
माँ सरस्वती-वंदना
माँ सरस्वती-वंदना
Kanchan Khanna
2319.पूर्णिका
2319.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
तुम ही रहते सदा ख्यालों में
तुम ही रहते सदा ख्यालों में
Dr Archana Gupta
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
कलयुगी की रिश्ते है साहब
कलयुगी की रिश्ते है साहब
Harminder Kaur
आज़ाद जयंती
आज़ाद जयंती
Satish Srijan
आत्मीय मुलाकात -
आत्मीय मुलाकात -
Seema gupta,Alwar
तूं मुझे एक वक्त बता दें....
तूं मुझे एक वक्त बता दें....
Keshav kishor Kumar
एक बेहतर जिंदगी का ख्वाब लिए जी रहे हैं सब
एक बेहतर जिंदगी का ख्वाब लिए जी रहे हैं सब
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...