Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 May 2023 · 2 min read

जब सांझ ढले तुम आती हो

1- “जब सांझ ढले तुम आती हो “

जब सांझ ढले तुम आती हो

आती है तब इक मंद बयार
छेड़े गए हों जैसे मन के तार
झंकृत होता है ज्यों अंतर्मन
जैसे दूर कहीं रहा हो कीर्तन
जैसे कोई अधखिली कली धूप में
ज्यों मंद -मंद मुस्काती हो
जब सांझ ढले तुम आती हो

दुनिया –जहान की उलझन मन पर मेरे
यूँ तो रहती है मुझको हर दम घेरे
तब बस इक उम्मीद ही मीते
तुम्हारी
मेरे हर दुख पर पड़ती है भारी
कोई राग मन में नया मेरे जैसे
तुम हँस -हँस के
छेड़ जाती हो
जब शाम ढले तुम आती हो

आहत होता मन, निष्फल उम्मीदें
जब पूरे दिन मुझे हराती रहती हैं
तब प्रेम की लौ तुम्हारी, इक प्रत्याशा है मन में लाती

पछुआ में जैसे जूझ रहे हों,
इक साथ दिया और बाती
इक उम्मीद मेरे हारे मन में
तुम न जाने कैसे भर जाती हो
जब शाम ढले तुम आती हो

ये धूप -छांव ही है मितवा अपने जीवन का खेल

संभव ही नहीं लगता है संध्या और प्रभात का मेल

नाउम्मीद मैं बहुत पहले से हूँ
फिर भी ना जाने क्यों एक उम्मीद ,तुम्हारी उम्मीद जगाती है

जब सांझ ढले तुम आती हो

हम इसी उम्मीद के सहारे मितवा, किसी तरह जी लेंगे

जीवन रस कितना भी कड़वा हो
मन मार के किसी तरह पी लेंगे
जब मन के सारे दुख मेरे
बारी -बारी से बोलेंगे
तब तुमसे ही तो अपने मन की सारी गाठें खोलेंगे ,
मेरे इस सुख -दुख को सुनकर मीते
तुम अनायास क्यों मुस्काती हो
जब शाम ढले तुम आती हो।
समाप्त

Language: Hindi
214 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सम्मान करे नारी
सम्मान करे नारी
Dr fauzia Naseem shad
इश्क
इश्क
Neeraj Mishra " नीर "
मैं उन लोगों से उम्मीद भी नहीं रखता हूं जो केवल मतलब के लिए
मैं उन लोगों से उम्मीद भी नहीं रखता हूं जो केवल मतलब के लिए
Ranjeet kumar patre
If you ever need to choose between Love & Career
If you ever need to choose between Love & Career
पूर्वार्थ
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
चल अंदर
चल अंदर
Satish Srijan
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
जिंदगी तुझको सलाम
जिंदगी तुझको सलाम
gurudeenverma198
तू दूरबीन से न कभी ढूँढ ख़ामियाँ
तू दूरबीन से न कभी ढूँढ ख़ामियाँ
Johnny Ahmed 'क़ैस'
ये न सोच के मुझे बस जरा -जरा पता है
ये न सोच के मुझे बस जरा -जरा पता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
संवेदना सुप्त हैं
संवेदना सुप्त हैं
Namrata Sona
"लिहाज"
Dr. Kishan tandon kranti
💐प्रेम कौतुक-563💐
💐प्रेम कौतुक-563💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कुछ इस तरह से खेला
कुछ इस तरह से खेला
Dheerja Sharma
2671.*पूर्णिका*
2671.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Destiny
Destiny
Sukoon
फितरत
फितरत
Dr. Seema Varma
मुक्तक
मुक्तक
anupma vaani
कहाँ अब पहले जैसी सादगी है
कहाँ अब पहले जैसी सादगी है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नेता जी शोध लेख
नेता जी शोध लेख
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
సంస్థ అంటే సేవ
సంస్థ అంటే సేవ
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
सफ़र ए जिंदगी
सफ़र ए जिंदगी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
"मैं एक पिता हूँ"
Pushpraj Anant
ऐ आसमां ना इतरा खुद पर
ऐ आसमां ना इतरा खुद पर
शिव प्रताप लोधी
देश और जनता~
देश और जनता~
दिनेश एल० "जैहिंद"
छोड़ दूं क्या.....
छोड़ दूं क्या.....
Ravi Ghayal
*बेचारे पति जानते, महिमा अपरंपार (हास्य कुंडलिया)*
*बेचारे पति जानते, महिमा अपरंपार (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मारे ऊँची धाक,कहे मैं पंडित ऊँँचा
मारे ऊँची धाक,कहे मैं पंडित ऊँँचा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
तेरी
तेरी
Naushaba Suriya
Loading...