Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Mar 2023 · 1 min read

मेरा लेख

जब मैं लिखने बैठी
अंधेरी रात से सुनहरी सुबह हो गई
काली स्याही से लिखे अक्षरों को पाठकों ने सूर्य की ललक में प्रकाशित कर दिया।।
आज जब मैं उनको पढ़ने बैठी –
शायद मैं उन सुनहरे अक्षरों की आखिरी पाठक हूं
क्योंकि वो अक्षर हर किसी के द्वारा हजारों बार पढ़े जा चुके हैं

441 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सुख- दुःख
सुख- दुःख
Dr. Upasana Pandey
आजकल लोग का घमंड भी गिरगिट के जैसा होता जा रहा है
आजकल लोग का घमंड भी गिरगिट के जैसा होता जा रहा है
शेखर सिंह
गरीबी और भूख:समाधान क्या है ?
गरीबी और भूख:समाधान क्या है ?
Dr fauzia Naseem shad
2520.पूर्णिका
2520.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रूपमाला
रूपमाला
डॉ.सीमा अग्रवाल
तरुण
तरुण
Pt. Brajesh Kumar Nayak
माँ
माँ
नन्दलाल सुथार "राही"
गलतियों को स्वीकार कर सुधार कर लेना ही सर्वोत्तम विकल्प है।
गलतियों को स्वीकार कर सुधार कर लेना ही सर्वोत्तम विकल्प है।
Paras Nath Jha
बहुत कुछ बदल गया है
बहुत कुछ बदल गया है
Davina Amar Thakral
*सर्दी-गर्मी अब कहॉं, जब तन का अवसान (कुंडलिया)*
*सर्दी-गर्मी अब कहॉं, जब तन का अवसान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
🧟☠️अमावस की रात☠️🧟
🧟☠️अमावस की रात☠️🧟
SPK Sachin Lodhi
अपने-अपने चक्कर में,
अपने-अपने चक्कर में,
Dr. Man Mohan Krishna
*Near Not Afar*
*Near Not Afar*
Poonam Matia
तू सहारा बन
तू सहारा बन
Bodhisatva kastooriya
नौ फेरे नौ वचन
नौ फेरे नौ वचन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"अलग -थलग"
DrLakshman Jha Parimal
"एक दीप जलाना चाहूँ"
Ekta chitrangini
चाँदनी रातों में बसी है ख़्वाबों का हसीं समां,
चाँदनी रातों में बसी है ख़्वाबों का हसीं समां,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जिस्म से जान जैसे जुदा हो रही है...
जिस्म से जान जैसे जुदा हो रही है...
Sunil Suman
रंग रहे उमंग रहे और आपका संग रहे
रंग रहे उमंग रहे और आपका संग रहे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सृजन और पीड़ा
सृजन और पीड़ा
Shweta Soni
बेटी की शादी
बेटी की शादी
विजय कुमार अग्रवाल
वक्त से गुज़ारिश
वक्त से गुज़ारिश
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
इन दिनों
इन दिनों
Dr. Kishan tandon kranti
दिल -ए- ज़िंदा
दिल -ए- ज़िंदा
Shyam Sundar Subramanian
थोड़ी कोशिश,थोड़ी जरूरत
थोड़ी कोशिश,थोड़ी जरूरत
Vaishaligoel
🇮🇳🇮🇳*
🇮🇳🇮🇳*"तिरंगा झंडा"* 🇮🇳🇮🇳
Shashi kala vyas
😊चमचा महात्म्य😊
😊चमचा महात्म्य😊
*प्रणय प्रभात*
कलम का क्रंदन
कलम का क्रंदन
नवीन जोशी 'नवल'
Loading...