Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Nov 2022 · 1 min read

जज़्बातों की धुंध, जब दिलों को देगा देती है, मेरे कलम की क़िस्मत को, शब्दों की दुआ देती है।

वो लहरें जो किनारों से मिल, खुद को मौत की सज़ा देती हैं,
कभी-कभी सागर का साथ पा, साहिलों को डूबा देती हैं।
नींद की आगोश, जो हर दर्द को मिटा देती है,
वही सपनों के जरिये, सौ दर्दों को जगा देती है।
ज़िन्दगी कच्चे धागों से, रिश्तों को जोड़ देती है,
उन्हीं बिखरे रिश्तों की कसक, ज़िन्दगी को तोड़ देती है।
बंज़र धरती, जिस बारिश की दुआ देती है,
वो भी तो बादलों का साथ पा, सैलाब की सदा देती है।
फूलों की खुशबू, बागों की सुबह सजा देती है,
बढ़ते वक़्त की बेला, उन्हीं फूलों को दरख़्तों से गिरा देती है।
ये हवाएं जिन शब्दों को, ख़ामोशियों में दबा देती हैं,
वादियों में फ़ैली खामोशियाँ, उन्हीं बातों को ज़हन में जगा देती हैं।
यादों की कतार पलों में हीं, कितने किस्से सुना देती हैं,
फिर होठों पर फ़ैली मुस्कराहट को आंसुओं में बहा देती है।
मुसाफिर को मंज़िलों से, जो सफ़र मिला देती है,
खुद की नाकामियों से, ऊँचा उठना सीखा देती है।
जज़्बातों की धुंध, जब दिलों को देगा देती है,
मेरे कलम की क़िस्मत को, शब्दों की दुआ देती है।

4 Likes · 4 Comments · 65 Views
You may also like:
मौसम मौसम बदल गया
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
आखरी उत्तराधिकारी
Prabhudayal Raniwal
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
🏠कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"नजीबुल्लाह: एक महान राष्ट्रपति का दुखदाई अन्त"
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*दौड़ (अतुकान्त कविता)*
Ravi Prakash
🙏स्कंदमाता🙏
पंकज कुमार कर्ण
जब गुलशन ही नहीं है तो गुलाब किस काम का...
लवकुश यादव "अज़ल"
आधुनिकता
पीयूष धामी
💐रे मनुष्य💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
भारत की स्वतंत्रता का इतिहास
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
गुरुवर
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
नारी हूँ मैं
Kamal Deependra Singh
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तेरे ख़त
Kaur Surinder
घर की रानी
Kanchan Khanna
✍️प्रेम खेळ नाही बाहुल्यांचा✍️
'अशांत' शेखर
भटकता चाँद
Alok Saxena
ताजा समाचार है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
भूख
Sushil chauhan
त्याग
श्री रमण 'श्रीपद्'
दोष दृष्टि क्या है ?
Shivkumar Bilagrami
यह तुमने क्या किया है
gurudeenverma198
भोक
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
हमारी नींदें
Dr fauzia Naseem shad
सदियों की गुलामी
Shekhar Chandra Mitra
मैं आखिरी सफर पे हूँ
VINOD KUMAR CHAUHAN
नहीं हूँ देवता पर पाँव की ठोकर नहीं बनता
Anis Shah
जिंदगी फिर भी हंसीन
shabina. Naaz
Loading...