Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Nov 2022 · 1 min read

जज़्बातों की धुंध, जब दिलों को देगा देती है, मेरे कलम की क़िस्मत को, शब्दों की दुआ देती है।

वो लहरें जो किनारों से मिल, खुद को मौत की सज़ा देती हैं,
कभी-कभी सागर का साथ पा, साहिलों को डूबा देती हैं।
नींद की आगोश, जो हर दर्द को मिटा देती है,
वही सपनों के जरिये, सौ दर्दों को जगा देती है।
ज़िन्दगी कच्चे धागों से, रिश्तों को जोड़ देती है,
उन्हीं बिखरे रिश्तों की कसक, ज़िन्दगी को तोड़ देती है।
बंज़र धरती, जिस बारिश की दुआ देती है,
वो भी तो बादलों का साथ पा, सैलाब की सदा देती है।
फूलों की खुशबू, बागों की सुबह सजा देती है,
बढ़ते वक़्त की बेला, उन्हीं फूलों को दरख़्तों से गिरा देती है।
ये हवाएं जिन शब्दों को, ख़ामोशियों में दबा देती हैं,
वादियों में फ़ैली खामोशियाँ, उन्हीं बातों को ज़हन में जगा देती हैं।
यादों की कतार पलों में हीं, कितने किस्से सुना देती हैं,
फिर होठों पर फ़ैली मुस्कराहट को आंसुओं में बहा देती है।
मुसाफिर को मंज़िलों से, जो सफ़र मिला देती है,
खुद की नाकामियों से, ऊँचा उठना सीखा देती है।
जज़्बातों की धुंध, जब दिलों को देगा देती है,
मेरे कलम की क़िस्मत को, शब्दों की दुआ देती है।

4 Likes · 4 Comments · 220 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
"धरती की कोख में"
Dr. Kishan tandon kranti
*
*"कार्तिक मास"*
Shashi kala vyas
अपने आमाल पे
अपने आमाल पे
Dr fauzia Naseem shad
■ भारत और पाकिस्तान
■ भारत और पाकिस्तान
*Author प्रणय प्रभात*
गीत... (आ गया जो भी यहाँ )
गीत... (आ गया जो भी यहाँ )
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
2558.पूर्णिका
2558.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कर न चर्चा हसीन ख्वाबों का।
कर न चर्चा हसीन ख्वाबों का।
सत्य कुमार प्रेमी
ओ मुसाफिर, जिंदगी से इश्क कर
ओ मुसाफिर, जिंदगी से इश्क कर
Rajeev Dutta
जीवन उत्साह
जीवन उत्साह
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
किस्मत
किस्मत
Vandna thakur
सोच की अय्याशीया
सोच की अय्याशीया
Sandeep Pande
क्या हुआ गर तू है अकेला इस जहां में
क्या हुआ गर तू है अकेला इस जहां में
gurudeenverma198
बोलती आँखे....
बोलती आँखे....
Santosh Soni
संघर्ष से‌ लड़ती
संघर्ष से‌ लड़ती
Arti Bhadauria
💐प्रेम कौतुक-436💐
💐प्रेम कौतुक-436💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
राम
राम
Suraj Mehra
जख्म भरता है इसी बहाने से
जख्म भरता है इसी बहाने से
Anil Mishra Prahari
रंगीला बचपन
रंगीला बचपन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रामपुर का इतिहास (पुस्तक समीक्षा)
रामपुर का इतिहास (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
The Saga Of That Unforgettable Pain
The Saga Of That Unforgettable Pain
Manisha Manjari
मुद्दत से तेरे शहर में आना नहीं हुआ
मुद्दत से तेरे शहर में आना नहीं हुआ
Shweta Soni
परोपकारी धर्म
परोपकारी धर्म
Shekhar Chandra Mitra
सफाई कामगारों के हक और अधिकारों की दास्तां को बयां करती हुई कविता 'आखिर कब तक'
सफाई कामगारों के हक और अधिकारों की दास्तां को बयां करती हुई कविता 'आखिर कब तक'
Dr. Narendra Valmiki
Sometimes we feel like a colourless wall,
Sometimes we feel like a colourless wall,
Sakshi Tripathi
राम नाम अतिसुंदर पथ है।
राम नाम अतिसुंदर पथ है।
Vijay kumar Pandey
Maturity is not when we start observing , judging or critici
Maturity is not when we start observing , judging or critici
Leena Anand
चोट शब्द की न जब सही जाए
चोट शब्द की न जब सही जाए
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
फोन नंबर
फोन नंबर
पूर्वार्थ
पिरामिड -यथार्थ के रंग
पिरामिड -यथार्थ के रंग
sushil sarna
भूख
भूख
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
Loading...