Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Mar 2024 · 1 min read

*चुनावी कुंडलिया*

चुनावी कुंडलिया
🍂🍂🍂🍃🍃
नंबर दो का चल रहा, गजब चुनावी खेल (कुंडलिया)
______________________
नंबर दो का चल रहा, गजब चुनावी खेल
काले धन का इस तरह, लोकतंत्र से मेल
लोकतंत्र से मेल, लड़ा काले से जाता
काले जिस पर नोट, चुनावों में इतराता
कहते रवि कविराय, महा यह एक स्वयंवर
काला धन बलवान, चुनौती है दो नंबर
————————————
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615451

47 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
बॉर्डर पर जवान खड़ा है।
बॉर्डर पर जवान खड़ा है।
Kuldeep mishra (KD)
तेवरी
तेवरी
कवि रमेशराज
नारी शक्ति
नारी शक्ति
भरत कुमार सोलंकी
साल को बीतता देखना।
साल को बीतता देखना।
Brijpal Singh
3283.*पूर्णिका*
3283.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
संसद के नए भवन से
संसद के नए भवन से
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
वक्त-वक्त की बात है
वक्त-वक्त की बात है
Pratibha Pandey
कैसी
कैसी
manjula chauhan
डर
डर
Neeraj Agarwal
बहुत फ़र्क होता है जरूरी और जरूरत में...
बहुत फ़र्क होता है जरूरी और जरूरत में...
Jogendar singh
राज्याभिषेक
राज्याभिषेक
Paras Nath Jha
बचपन
बचपन
लक्ष्मी सिंह
Sometimes a thought comes
Sometimes a thought comes
Bidyadhar Mantry
पुस्तकों की पुस्तकों में सैर
पुस्तकों की पुस्तकों में सैर
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
ऐसे रूठे हमसे कि कभी फिर मुड़कर भी नहीं देखा,
ऐसे रूठे हमसे कि कभी फिर मुड़कर भी नहीं देखा,
Kanchan verma
क्रिकेट
क्रिकेट
SHAMA PARVEEN
प्रेम का प्रदर्शन, प्रेम का अपमान है...!
प्रेम का प्रदर्शन, प्रेम का अपमान है...!
Aarti sirsat
फितरत जग में एक आईना🔥🌿🙏
फितरत जग में एक आईना🔥🌿🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अनचाहे अपराध व प्रायश्चित
अनचाहे अपराध व प्रायश्चित
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
खुद को रखती हूं मैं
खुद को रखती हूं मैं
Dr fauzia Naseem shad
*आदित्य एल-1मिशन*
*आदित्य एल-1मिशन*
Dr. Priya Gupta
कुपमंडुक
कुपमंडुक
Rajeev Dutta
" बोलियाँ "
Dr. Kishan tandon kranti
*सब दल एक समान (हास्य दोहे)*
*सब दल एक समान (हास्य दोहे)*
Ravi Prakash
World Hypertension Day
World Hypertension Day
Tushar Jagawat
उठ जाग मेरे मानस
उठ जाग मेरे मानस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मैं मित्र समझता हूं, वो भगवान समझता है।
मैं मित्र समझता हूं, वो भगवान समझता है।
Sanjay ' शून्य'
"गरीबों की दिवाली"
Yogendra Chaturwedi
,,
,,
Sonit Parjapati
छोटी कहानी- 'सोनम गुप्ता बेवफ़ा है' -प्रतिभा सुमन शर्मा
छोटी कहानी- 'सोनम गुप्ता बेवफ़ा है' -प्रतिभा सुमन शर्मा
Pratibhasharma
Loading...