Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Oct 2022 · 1 min read

चाहे जितनी देर लगे।

कण-कण का कल्याण करे,
रोम-रोम में होता है बसा,
ऐसी है निराकार की कथा,
देता है वह अंत में स्वतः,
करता है जो भक्ति सदा।
चाहे जितनी देर लगे……।1।

मन में वह यदि रमता है,
ह्रदय में जब भी बसता है,
ओठों से जो नाम है जापे,
हाथोंं से जो करें सेवा,
रखता है वह ध्यान सदा।
चाहे जितनी देर लगे……।2।

करता है वह अपनी कृपा,
चलता है वह संग सदा,
याद करें जो हर पल उसकी,
बाँटे है जो ज्ञान उसकी,
करता है उसका ही भला।
चाहे जितनी देर लगे……।3।

रूप न उसका कोई जाने,
आँखों से कोई न पहचाने,।
वो तो खोजे प्रेम का सागर,
प्रेम की नदिया मिलती जहाँ आकर,
भरता है जो प्रेम का गागर ।
चाहे जितनी देर लगे।……।4।

आँसू देख वहीं है पोछे,
जिसका आँसू कोई न पोछे,
कैसे रोने देगा भक्तों को,
श्रद्धा से पाया है उनको,
मिलन तो होना है एक रोज।
चाहे जितनी देर लगे……..।5।

रचनाकार ✍🏼
बुद्ध प्रकाश,
मौदहा हमीरपुर।

4 Likes · 2 Comments · 247 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
दिल का मौसम सादा है
दिल का मौसम सादा है
Shweta Soni
प्रियतम तुम हमको मिले ,अहोभाग्य शत बार(कुंडलिया)
प्रियतम तुम हमको मिले ,अहोभाग्य शत बार(कुंडलिया)
Ravi Prakash
" मैं कांटा हूँ, तूं है गुलाब सा "
Aarti sirsat
**आजकल के रिश्ते*
**आजकल के रिश्ते*
Harminder Kaur
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गैरों से जायदा इंसान ,
गैरों से जायदा इंसान ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
3324.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3324.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
रसों में रस बनारस है !
रसों में रस बनारस है !
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
"ऐनक"
Dr. Kishan tandon kranti
मां के आँचल में
मां के आँचल में
Satish Srijan
राष्ट्र हित में मतदान
राष्ट्र हित में मतदान
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
राखी रे दिन आज मूं , मांगू यही मारा बीरा
राखी रे दिन आज मूं , मांगू यही मारा बीरा
gurudeenverma198
तन्हा तन्हा ही चलना होगा
तन्हा तन्हा ही चलना होगा
AMRESH KUMAR VERMA
राहों में
राहों में
हिमांशु Kulshrestha
गणतंत्र का जश्न
गणतंत्र का जश्न
Kanchan Khanna
इंसान बनने के लिए
इंसान बनने के लिए
Mamta Singh Devaa
मीठा गान
मीठा गान
rekha mohan
मैं कवि हूं
मैं कवि हूं
Shyam Sundar Subramanian
लोकतंत्र बस चीख रहा है
लोकतंत्र बस चीख रहा है
अनिल कुमार निश्छल
मंजिल तो  मिल जाने दो,
मंजिल तो मिल जाने दो,
Jay Dewangan
*** मुंह लटकाए क्यों खड़ा है ***
*** मुंह लटकाए क्यों खड़ा है ***
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
😢शर्मनाक😢
😢शर्मनाक😢
*प्रणय प्रभात*
सबक
सबक
manjula chauhan
आकाश के सितारों के साथ हैं
आकाश के सितारों के साथ हैं
Neeraj Agarwal
सारे जग को मानवता का पाठ पढ़ाकर चले गए...
सारे जग को मानवता का पाठ पढ़ाकर चले गए...
Sunil Suman
फितरत
फितरत
Awadhesh Kumar Singh
कन्या
कन्या
Bodhisatva kastooriya
कुछ पंक्तियाँ
कुछ पंक्तियाँ
आकांक्षा राय
आकुल बसंत!
आकुल बसंत!
Neelam Sharma
The Saga Of That Unforgettable Pain
The Saga Of That Unforgettable Pain
Manisha Manjari
Loading...