Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Mar 2023 · 1 min read

चलो निकट से जाकर,मैया के दर्शन कर आएँ (देवी-गीत)

चलो निकट से जाकर,मैया के दर्शन कर आएँ (देवी-गीत)
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
चलो निकट से जाकर, मैया के दर्शन कर आएँ
(1)
एक हाथ में है त्रिशूल, जिससे महिषासुर मारा
गदा और तलवार सुशोभित, जिससे राक्षस हारा
धनुष-बाण इनका चलता है, पाकर तनिक इशारा
दूर-दूर तक चक्र कर रहा, दुष्ट- रहित जग सारा
अस्त्र शस्त्र हैं यह मैया के, दुष्ट देख डर जाएँ
(2)
हम भोले-भाले बच्चे, माँ हमको शंख सुनातीं
हमें कमल की पंखुड़ियों से, छू-छूकर सहलातीं
सदा-सदा आशीष हमारे, ऊपर माँ बरसातीं
वरद-हस्त माँ का जब तक, बाधाएँ नहीं सतातीं
माँगें माँ से माँ अपना प्रिय, बालक हमें बनाएँ
चलो निकट से जाकर, मैया के दर्शन कर आएँ
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
रचयिताः रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

1213 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
आजाद पंछी
आजाद पंछी
Ritu Asooja
हंसवाहिनी दो मुझे, बस इतना वरदान।
हंसवाहिनी दो मुझे, बस इतना वरदान।
Jatashankar Prajapati
" माँ "
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी बच्ची - दीपक नीलपदम्
मेरी बच्ची - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कर ले प्यार हरि से
कर ले प्यार हरि से
Satish Srijan
मैं सरिता अभिलाषी
मैं सरिता अभिलाषी
Pratibha Pandey
3096.*पूर्णिका*
3096.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सदा बढ़ता है,वह 'नायक' अमल बन ताज ठुकराता।
सदा बढ़ता है,वह 'नायक' अमल बन ताज ठुकराता।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*रिमझिम-रिमझिम बारिश यह, कितनी भोली-भाली है (हिंदी गजल)*
*रिमझिम-रिमझिम बारिश यह, कितनी भोली-भाली है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
आखिर क्या कमी है मुझमें......??
आखिर क्या कमी है मुझमें......??
Keshav kishor Kumar
तेरे शहर में आया हूँ, नाम तो सुन ही लिया होगा..
तेरे शहर में आया हूँ, नाम तो सुन ही लिया होगा..
Ravi Betulwala
कोई पागल हो गया,
कोई पागल हो गया,
sushil sarna
दिलो को जला दे ,लफ्ज़ो मैं हम वो आग रखते है ll
दिलो को जला दे ,लफ्ज़ो मैं हम वो आग रखते है ll
गुप्तरत्न
चुनावी घनाक्षरी
चुनावी घनाक्षरी
Suryakant Dwivedi
ईव्हीएम को रोने वाले अब वेलेट पेपर से भी नहीं जीत सकते। मतपत
ईव्हीएम को रोने वाले अब वेलेट पेपर से भी नहीं जीत सकते। मतपत
*प्रणय प्रभात*
हम ऐसी मौहब्बत हजार बार करेंगे।
हम ऐसी मौहब्बत हजार बार करेंगे।
Phool gufran
कब तक अंधेरा रहेगा
कब तक अंधेरा रहेगा
Vaishaligoel
मुर्दे भी मोहित हुए
मुर्दे भी मोहित हुए
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
हर वो दिन खुशी का दिन है
हर वो दिन खुशी का दिन है
shabina. Naaz
कब तक कौन रहेगा साथी
कब तक कौन रहेगा साथी
Ramswaroop Dinkar
राम नाम  हिय राख के, लायें मन विश्वास।
राम नाम हिय राख के, लायें मन विश्वास।
Vijay kumar Pandey
सोया भाग्य जगाएं
सोया भाग्य जगाएं
महेश चन्द्र त्रिपाठी
हालातों से हारकर दर्द को लब्ज़ो की जुबां दी हैं मैंने।
हालातों से हारकर दर्द को लब्ज़ो की जुबां दी हैं मैंने।
अजहर अली (An Explorer of Life)
तलाशी लेकर मेरे हाथों की क्या पा लोगे तुम
तलाशी लेकर मेरे हाथों की क्या पा लोगे तुम
शेखर सिंह
चुनाव का मौसम
चुनाव का मौसम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रात के बाद सुबह का इंतजार रहता हैं।
रात के बाद सुबह का इंतजार रहता हैं।
Neeraj Agarwal
पागल तो मैं ही हूँ
पागल तो मैं ही हूँ
gurudeenverma198
जड़ता है सरिस बबूल के, देती संकट शूल।
जड़ता है सरिस बबूल के, देती संकट शूल।
आर.एस. 'प्रीतम'
चाहत
चाहत
Bodhisatva kastooriya
अपने किरदार में
अपने किरदार में
Dr fauzia Naseem shad
Loading...