Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 May 2024 · 2 min read

चन्द्रयान मिशन

धरती मॉ :-
बेटा चॉद! ऐसे क्यों तू रूठ गया
दर पे तेरे सम्पर्क क्यों टूट गया ।

कवि तो कब के पहुंचे तेरे दर पर
विज्ञान को भी आने दो सतह पर ।

बेटा चॉद :-
सॉरी मॉ, सॉरी इंडिया, सॉरी इसरो
सफल होंगे ही कल नही तो परसो ।

ग्रहण लगने पर मैं भी रूकता नही
विफल होने पर कभी झुकता नही ।

खुश था मैं जब प्रज्ञान दूर नही था
अफसोस! नियति को मंजूर नही था ।

अटूट संकल्प और विराट है फैसले
मॉ तेरे लालों के तो बुलन्द है हौसले ।

फिर से मॉ-बेटे का वे मिलन करायेंगे
चंद्रयान-३ से बस जल्दी ही आयेंगे ।

देश :-
नई उपलब्धि,नया आत्मविश्वास है जागा
लैंडिंग भी होने से होता सोने पे सुहागा ।

देश के वैज्ञानिकों पर गर्व और है नाज
पहुंच कर दर पे, दीदार का है आगाज ।

अब तो और भी पक्के हो गये है इरादे
सच करके ही रहेंगे सारे सपने और वादे ।

ये हमारे बच्चों के प्यारे चंदा मामा है
मामा के घर जाने को किसने थामा है ।

दीवाली न सही होली पर चले जायेंगे
अभी देख आये है फिर रूक भी जायेंगे ।
~०~
सभी भारतवासियों और वैज्ञानिकों को
इस अभूतपूर्व मिशन की उपलब्धियों और
प्रयासों के लिए बधाई और शुभकामनाएं ।
©जीवनसवारो.२२ जुलाई,२०१९.

चन्द्रयान-३ (आज)
*********
लो आ ही गए फिर पूरी तैयारी से
मामा के घर चंद्रयान की सवारी से ।

बिक्रम, प्रज्ञान ने भी पक्की है ठानी
अब वैज्ञानिकों की हर बात है मानी ।

लेकर चले हैं डेढ सौ करोड़ आशाएं
है पूरी करनी गगनचुम्बी आकांक्षाए ।

बांध न सके भारत को कोई बांधाए
रोक नही सकती हमारी सफलताएं ।

अब अंतरिक्ष में तिरंगे ही फहराएंगे
ग्रह-ग्रह,नक्षत्र-नक्षत्र,ऊंचे ये लहरायेगे ।

अब विश्व ही नही ब्रह्मांड है दृष्टि में
खोलेंगे रहस्य हैं जितने इस सृष्टि में ।
~०~
मौलिक एवं स्वरचित: कविता प्रतियोगिता
रचना संख्या-१६: मई २०२४.©जीवनसवारो.

Language: Hindi
1 Like · 18 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
View all
You may also like:
आरजू
आरजू
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
परिंदा हूं आसमां का
परिंदा हूं आसमां का
Praveen Sain
!! दर्द भरी ख़बरें !!
!! दर्द भरी ख़बरें !!
Chunnu Lal Gupta
2818. *पूर्णिका*
2818. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
घर आ जाओ अब महारानी (उपालंभ गीत)
घर आ जाओ अब महारानी (उपालंभ गीत)
गुमनाम 'बाबा'
𑒧𑒻𑒟𑒱𑒪𑒲 𑒦𑒰𑒭𑒰 𑒮𑒧𑓂𑒣𑒴𑒩𑓂𑒝 𑒠𑒹𑒯𑒏 𑒩𑒏𑓂𑒞 𑒧𑒹 𑒣𑓂𑒩𑒫𑒰𑒯𑒱𑒞 𑒦 𑒩𑒯𑒪 𑒁𑒕𑒱 ! 𑒖𑒞𑒻𑒏
𑒧𑒻𑒟𑒱𑒪𑒲 𑒦𑒰𑒭𑒰 𑒮𑒧𑓂𑒣𑒴𑒩𑓂𑒝 𑒠𑒹𑒯𑒏 𑒩𑒏𑓂𑒞 𑒧𑒹 𑒣𑓂𑒩𑒫𑒰𑒯𑒱𑒞 𑒦 𑒩𑒯𑒪 𑒁𑒕𑒱 ! 𑒖𑒞𑒻𑒏
DrLakshman Jha Parimal
"कलाकार"
Dr. Kishan tandon kranti
चांदनी न मानती।
चांदनी न मानती।
Kuldeep mishra (KD)
फालतू की शान औ'र रुतबे में तू पागल न हो।
फालतू की शान औ'र रुतबे में तू पागल न हो।
सत्य कुमार प्रेमी
#drarunkumarshastri♥️❤️
#drarunkumarshastri♥️❤️
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हां....वो बदल गया
हां....वो बदल गया
Neeraj Agarwal
* पावन धरा *
* पावन धरा *
surenderpal vaidya
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
*पशु से भिन्न दिखने वाला .... !*
*पशु से भिन्न दिखने वाला .... !*
नेताम आर सी
अभिमान  करे काया का , काया काँच समान।
अभिमान करे काया का , काया काँच समान।
Anil chobisa
जीवन का एक और बसंत
जीवन का एक और बसंत
नवीन जोशी 'नवल'
साझ
साझ
Bodhisatva kastooriya
सब तमाशा है ।
सब तमाशा है ।
Neelam Sharma
"" *माँ की ममता* ""
सुनीलानंद महंत
सच नहीं है कुछ भी, मैने किया है
सच नहीं है कुछ भी, मैने किया है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
अरर मरर के झोपरा / MUSAFIR BAITHA
अरर मरर के झोपरा / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
घर के आंगन में
घर के आंगन में
Shivkumar Bilagrami
*नाम है इनका, राजीव तरारा*
*नाम है इनका, राजीव तरारा*
Dushyant Kumar
वैशाख की धूप
वैशाख की धूप
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
अभाव और कमियाँ ही हमें जिन्दा रखती हैं।
अभाव और कमियाँ ही हमें जिन्दा रखती हैं।
पूर्वार्थ
आविष्कार एक स्वर्णिम अवसर की तलाश है।
आविष्कार एक स्वर्णिम अवसर की तलाश है।
Rj Anand Prajapati
दुआ को असर चाहिए।
दुआ को असर चाहिए।
Taj Mohammad
शाम ढलते ही
शाम ढलते ही
Davina Amar Thakral
*तेरा इंतज़ार*
*तेरा इंतज़ार*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...