Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Apr 2024 · 1 min read

घन की धमक

जेठ की उतरन में
रात के तीसरे पहर से
दूसरे दिन सूर्यास्त तक
चलती घन की धमक
तेज साँसों का हुँकारा
देवदूत की मानिन्द
चमकता श्यामू का चेहरा
सैकड़ों घोड़ों की ताकत से
घन उठ-उठ कर
रक्त-तप्त लोहे पर गिरता,
पसीने की बूँदें
पड़-पड़ कर लोहा पकता।

तब सम्भव ही न था
बिन श्यामू के कोई लोहा
और बिना लोहा के अन्न,
मगर अब हो चुका है
वो इतिहास में दफन।

प्रकाशित काव्य-कृति : ‘उड़ रहा गॉंव’ में
संकलित “घन की धमक”
शीर्षक रचना की चन्द पंक्तियाँ।

डॉ. किशन टण्डन क्रान्ति
साहित्य वाचस्पति
टैलेंट आइकॉन 2022-23

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 63 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
दूसरों के अधिकारों
दूसरों के अधिकारों
Dr.Rashmi Mishra
एक जहाँ हम हैं
एक जहाँ हम हैं
Dr fauzia Naseem shad
खर्च हो रही है ज़िन्दगी।
खर्च हो रही है ज़िन्दगी।
Taj Mohammad
चीर हरण ही सोचते,
चीर हरण ही सोचते,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जरूरत से ज्यादा मुहब्बत
जरूरत से ज्यादा मुहब्बत
shabina. Naaz
अमरत्व
अमरत्व
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
प्रतिभाशाली बाल कवयित्री *सुकृति अग्रवाल* को ध्यान लगाते हुए
प्रतिभाशाली बाल कवयित्री *सुकृति अग्रवाल* को ध्यान लगाते हुए
Ravi Prakash
कान खोलकर सुन लो
कान खोलकर सुन लो
Shekhar Chandra Mitra
23/96.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/96.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कभी-कभी
कभी-कभी
Ragini Kumari
इंद्रदेव की बेरुखी
इंद्रदेव की बेरुखी
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आसमान में बादल छाए
आसमान में बादल छाए
Neeraj Agarwal
सोनपुर के पनिया में का अईसन बाऽ हो - का
सोनपुर के पनिया में का अईसन बाऽ हो - का
जय लगन कुमार हैप्पी
News
News
बुलंद न्यूज़ news
Let your thoughts
Let your thoughts
Dhriti Mishra
बेशर्मी से ... (क्षणिका )
बेशर्मी से ... (क्षणिका )
sushil sarna
क्रव्याद
क्रव्याद
Mandar Gangal
बाबा साहेब अम्बेडकर / मुसाफ़िर बैठा
बाबा साहेब अम्बेडकर / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
देखिए अगर आज मंहगाई का ओलंपिक हो तो
देखिए अगर आज मंहगाई का ओलंपिक हो तो
शेखर सिंह
रखो कितनी भी शराफत वफा सादगी
रखो कितनी भी शराफत वफा सादगी
Mahesh Tiwari 'Ayan'
मैं अपने बिस्तर पर
मैं अपने बिस्तर पर
Shweta Soni
युग युवा
युग युवा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
देखकर प्यारा सवेरा
देखकर प्यारा सवेरा
surenderpal vaidya
*सत्य*
*सत्य*
Shashi kala vyas
मेरी माँ
मेरी माँ
Pooja Singh
काश - दीपक नील पदम्
काश - दीपक नील पदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
गुब्बारा
गुब्बारा
लक्ष्मी सिंह
जंग के भरे मैदानों में शमशीर बदलती देखी हैं
जंग के भरे मैदानों में शमशीर बदलती देखी हैं
Ajad Mandori
करना था यदि ऐसा तुम्हें मेरे संग में
करना था यदि ऐसा तुम्हें मेरे संग में
gurudeenverma198
■ तस्वीर काल्पनिक, शेर सच्चा।
■ तस्वीर काल्पनिक, शेर सच्चा।
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...