Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

गज़ल (बहुत मुश्किल )

गज़ल (बहुत मुश्किल )

अँधेरे में रहा करता है साया साथ अपने पर
बिना जोखिम उजाले में है रह पाना बहुत मुश्किल

ख्वाबों और यादों की गली में उम्र गुजारी है
समय के साथ दुनिया में है रह पाना बहुत मुश्किल

कहने को तो कह लेते है अपनी बात सबसे हम
जुबां से दिल की बातों को है कह पाना बहुत मुश्किल

ज़माने से मिली ठोकर तो अपना हौसला बढता
अपनों से मिली ठोकर तो सह पाना बहुत मुश्किल

कुछ पाने की तमन्ना में हम खो देते बहुत कुछ है
क्या खोया और क्या पाया कह पाना बहुत मुश्किल

गज़ल (बहुत मुश्किल )

मदन मोहन सक्सेना

163 Views
You may also like:
सपना आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
# पिता ...
Chinta netam " मन "
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
कैसे मैं याद करूं
Anamika Singh
शहीदों का यशगान
शेख़ जाफ़र खान
सोलह शृंगार
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
हमें क़िस्मत ने आज़माया है ।
Dr fauzia Naseem shad
कोई खामोशियां नहीं सुनता
Dr fauzia Naseem shad
रिश्तों में बढ रही है दुरियाँ
Anamika Singh
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
कमर तोड़ता करधन
शेख़ जाफ़र खान
दर्द इतने बुरे नहीं होते
Dr fauzia Naseem shad
जीवन की दुर्दशा
Dr fauzia Naseem shad
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
माखन चोर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️वो इंसा ही क्या ✍️
Vaishnavi Gupta
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
तुम साथ अगर देते नाकाम नहीं होता
Dr Archana Gupta
भगवान जगन्नाथ की आरती (०१
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरे पिता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
अपनी आदत में
Dr fauzia Naseem shad
✍️गलतफहमियां ✍️
Vaishnavi Gupta
आज तन्हा है हर कोई
Anamika Singh
"समय का पहिया"
Ajit Kumar "Karn"
बेजुबां जीव
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
ऐ ज़िन्दगी तुझे
Dr fauzia Naseem shad
Loading...