Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

गज़ल (कुदरत)

गज़ल (कुदरत)

क्या सच्चा है क्या है झूठा अंतर करना नामुमकिन है.
हमने खुद को पाया है बस खुदगर्जी के घेरे में ..

एक जमी बक्शी थी कुदरत ने हमको यारो लेकिन
हमने सब कुछ बाट दिया मेरे में और तेरे में

आज नजर आती मायूसी मानबता के चहेरे पर
अपराधी को सरण मिली है आज पुलिस के डेरे में

बीरो की क़ुरबानी का कुछ भी असर नहीं दीखता है
जिसे देखिये चला रहा है सारे तीर अँधेरे में

जीवन बदला भाषा बदली सब कुछ अपना बदल गया है
अनजानापन लगता है अब खुद के आज बसेरे में

गज़ल (कुदरत)
मदन मोहन सक्सेना

249 Views
You may also like:
बदलते हुए लोग
kausikigupta315
इंसानियत का एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
ठनक रहे माथे गर्मीले / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Forest Queen 'The Waterfall'
Buddha Prakash
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
✍️वो इंसा ही क्या ✍️
Vaishnavi Gupta
दर्द ख़ामोशियां
Dr fauzia Naseem shad
दर्द इतने बुरे नहीं होते
Dr fauzia Naseem shad
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Shiva Gouri tiwari
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
# पिता ...
Chinta netam " मन "
पंचशील गीत
Buddha Prakash
थोड़ी सी कसक
Dr fauzia Naseem shad
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
अनामिका के विचार
Anamika Singh
यकीन कैसा है
Dr fauzia Naseem shad
बेरोज़गारों का कब आएगा वसंत
Anamika Singh
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
संविदा की नौकरी का दर्द
आकाश महेशपुरी
रिश्तों में बढ रही है दुरियाँ
Anamika Singh
कौन था वो ?...
मनोज कर्ण
श्री राम स्तुति
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
प्यार
Anamika Singh
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गंगा दशहरा
श्री रमण 'श्रीपद्'
चोट गहरी थी मेरे ज़ख़्मों की
Dr fauzia Naseem shad
आदमी कितना नादान है
Ram Krishan Rastogi
पिता की नसीहत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पिता
Kanchan Khanna
Loading...