Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jul 2016 · 1 min read

गज़ल (कुदरत)

गज़ल (कुदरत)

क्या सच्चा है क्या है झूठा अंतर करना नामुमकिन है.
हमने खुद को पाया है बस खुदगर्जी के घेरे में ..

एक जमी बक्शी थी कुदरत ने हमको यारो लेकिन
हमने सब कुछ बाट दिया मेरे में और तेरे में

आज नजर आती मायूसी मानबता के चहेरे पर
अपराधी को सरण मिली है आज पुलिस के डेरे में

बीरो की क़ुरबानी का कुछ भी असर नहीं दीखता है
जिसे देखिये चला रहा है सारे तीर अँधेरे में

जीवन बदला भाषा बदली सब कुछ अपना बदल गया है
अनजानापन लगता है अब खुद के आज बसेरे में

गज़ल (कुदरत)
मदन मोहन सक्सेना

406 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हर हाल में बढ़ना पथिक का कर्म है।
हर हाल में बढ़ना पथिक का कर्म है।
Anil Mishra Prahari
सच के सिपाही
सच के सिपाही
Shekhar Chandra Mitra
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
Seema gupta,Alwar
रमेशराज की 11 तेवरियाँ
रमेशराज की 11 तेवरियाँ
कवि रमेशराज
2360.पूर्णिका
2360.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
करी लाडू
करी लाडू
Ranjeet kumar patre
गज़रा
गज़रा
Alok Saxena
"अपेक्षा"
Dr. Kishan tandon kranti
#संशोधित_बाल_कविता
#संशोधित_बाल_कविता
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
शातिरपने की गुत्थियां
शातिरपने की गुत्थियां
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*जहां जिसका दाना पानी लिखा रहता है,समय उसे वहां पे बुलाता है
*जहां जिसका दाना पानी लिखा रहता है,समय उसे वहां पे बुलाता है
Shashi kala vyas
बस चार ही है कंधे
बस चार ही है कंधे
Rituraj shivem verma
RATHOD SRAVAN WAS GREAT HONORED
RATHOD SRAVAN WAS GREAT HONORED
राठौड़ श्रावण लेखक, प्रध्यापक
जिंदगी और उलझनें, सॅंग सॅंग चलेंगी दोस्तों।
जिंदगी और उलझनें, सॅंग सॅंग चलेंगी दोस्तों।
सत्य कुमार प्रेमी
करीब हो तुम किसी के भी,
करीब हो तुम किसी के भी,
manjula chauhan
पति पत्नी में परस्पर हो प्यार और सम्मान,
पति पत्नी में परस्पर हो प्यार और सम्मान,
ओनिका सेतिया 'अनु '
Exhibition
Exhibition
Bikram Kumar
जनेऊधारी,
जनेऊधारी,
Satish Srijan
शीर्षक - कुदरत के रंग...... एक सच
शीर्षक - कुदरत के रंग...... एक सच
Neeraj Agarwal
पग बढ़ाते चलो
पग बढ़ाते चलो
surenderpal vaidya
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet kumar Shukla
नज़र
नज़र
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
मंज़र
मंज़र
अखिलेश 'अखिल'
लत / MUSAFIR BAITHA
लत / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
लम्हा भर है जिंदगी
लम्हा भर है जिंदगी
Dr. Sunita Singh
दुख है दर्द भी है मगर मरहम नहीं है
दुख है दर्द भी है मगर मरहम नहीं है
कवि दीपक बवेजा
*आओ सब स्वागत करें, मधुमय चैत महान (कुंडलिया)*
*आओ सब स्वागत करें, मधुमय चैत महान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
#justareminderekabodhbalak
#justareminderekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
किधर चले हो यूं मोड़कर मुँह मुझे सनम तुम न अब सताओ
किधर चले हो यूं मोड़कर मुँह मुझे सनम तुम न अब सताओ
Dr Archana Gupta
Loading...