Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 May 2023 · 1 min read

गिला,रंजिशे नाराजगी, होश मैं सब रखते है ,

गिला,रंजिशे नाराजगी, होश मैं सब रखते है ,
बेखुदी मैं पर हम बस,अब आपके ख्याल भर रखते है //
नहीं है काबू मैं धड़कने,और ज़ज्वात मेरे ,
मत पूछो, सामने आपके कैसे इन्हें संभालकर रखते है //
बेचैनियाँ,घबराहट पूछने लगी ,मुझसे
क्या अब इन पर आप इख्तियार रखते है //
फैसला आपका हर मंज़ूर होगा,
इतना तो हक आप “रत्न” पर सरकार रखते है //
दिल चाहे जहाँ ,आपका वहां ले चलियें,
औरो का नहीं पता “हम आप पर पूरा एतबार रखते है”//
बेखुदी -होश न होना ,जब दिमाग काम करना बंद करे //
गिला-शिकायते .रंजिशे -मतभेद या लड़ाई //
इख्तियार -अधिकार या नियत्रण (control)
एतबार-भरोसा

108 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गुप्तरत्न
View all
You may also like:
भूले से हमने उनसे
भूले से हमने उनसे
Sunil Suman
ফুলডুংরি পাহাড় ভ্রমণ
ফুলডুংরি পাহাড় ভ্রমণ
Arghyadeep Chakraborty
लौटना पड़ा वहाँ से वापस
लौटना पड़ा वहाँ से वापस
gurudeenverma198
बस यूं बहक जाते हैं तुझे हर-सम्त देखकर,
बस यूं बहक जाते हैं तुझे हर-सम्त देखकर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सफर सफर की बात है ।
सफर सफर की बात है ।
Yogendra Chaturwedi
कविता: एक राखी मुझे भेज दो, रक्षाबंधन आने वाला है।
कविता: एक राखी मुझे भेज दो, रक्षाबंधन आने वाला है।
Rajesh Kumar Arjun
प्यार की चंद पन्नों की किताब में
प्यार की चंद पन्नों की किताब में
Mangilal 713
कुंडलिया
कुंडलिया
sushil sarna
वतन
वतन
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
🪸 *मजलूम* 🪸
🪸 *मजलूम* 🪸
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
फितरत
फितरत
Dr. Seema Varma
चांद चेहरा मुझे क़ुबूल नहीं - संदीप ठाकुर
चांद चेहरा मुझे क़ुबूल नहीं - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
ग़ज़ल/नज़्म - शाम का ये आसमांँ आज कुछ धुंधलाया है
ग़ज़ल/नज़्म - शाम का ये आसमांँ आज कुछ धुंधलाया है
अनिल कुमार
अपना - पराया
अपना - पराया
Neeraj Agarwal
समय के खेल में
समय के खेल में
Dr. Mulla Adam Ali
रस का सम्बन्ध विचार से
रस का सम्बन्ध विचार से
कवि रमेशराज
याद आते हैं
याद आते हैं
Juhi Grover
■ आई बात समझ में...?
■ आई बात समझ में...?
*प्रणय प्रभात*
*भीड़ से बचकर रहो, एकांत के वासी बनो ( मुक्तक )*
*भीड़ से बचकर रहो, एकांत के वासी बनो ( मुक्तक )*
Ravi Prakash
ऐसे न देख पगली प्यार हो जायेगा ..
ऐसे न देख पगली प्यार हो जायेगा ..
Yash mehra
अनंतनाग में शहीद हुए
अनंतनाग में शहीद हुए
Harminder Kaur
*बुंदेली दोहा-चिनार-पहचान*
*बुंदेली दोहा-चिनार-पहचान*
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मुक्तक
मुक्तक
पंकज कुमार कर्ण
जीवन पथ
जीवन पथ
Dr. Rajeev Jain
आप हमें याद आ गएँ नई ग़ज़ल लेखक विनीत सिंह शायर
आप हमें याद आ गएँ नई ग़ज़ल लेखक विनीत सिंह शायर
Vinit kumar
छायावाद के गीतिकाव्य (पुस्तक समीक्षा)
छायावाद के गीतिकाव्य (पुस्तक समीक्षा)
गुमनाम 'बाबा'
ले चल मुझे उस पार
ले चल मुझे उस पार
Satish Srijan
फागुन में.....
फागुन में.....
Awadhesh Kumar Singh
.......अधूरी........
.......अधूरी........
Naushaba Suriya
*** सिमटती जिंदगी और बिखरता पल...! ***
*** सिमटती जिंदगी और बिखरता पल...! ***
VEDANTA PATEL
Loading...