Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2023 · 1 min read

ग़ज़ल/नज़्म – फितरत-ए-इंसाँ…नदियों को खाकर वो फूला नहीं समाता है

नदियों को खाकर वो फूला नहीं समाता है,
ख़ुद खारा है मगर हंसता, नाचता, गाता है।

अपनी मिठास भले ही समा दें सारी नदियाँ उसमें,
उसकी फितरत में तो मीठा होना ही नहीं आता है।

कस्तियाँ यूँ तो बहुत सी लगती हैं पार इसमें मगर,
कितनी ज़िन्दगियों को ना जाने ये निगल जाता है।

ये समन्दर है कि नेता है या धर्म का ठेकेदार कोई,
मुझको तो सबका ही रंग-ढंग एक सा नज़र आता है।

ख़ून तेरा बहे कि मेरा बहे इन आपस के झगड़ों में,
जाति-धर्म के नाम पे लड़ाना इन्हें बखूबी आता है ।

नीति-अनीति से किसी को लेना क्या, देना क्या भला,
राजनीति में सब कुछ ही जायज बताया जाता है।

फितरत-ए-इंसाँ भी अब तो कुछ ऐसी हो गई है,
गलतियाँ हज़ार खुद करे पर उंगलियाँ औरों पे उठाता है।

दौर-ए-वक्त ने करवट बदली है कुछ इस क़दर ‘अनिल’,
जिसमें जितने ऐब हुए वो उफ़ान उतना ही खाता है।

©✍️ स्वरचित
अनिल कुमार ‘अनिल’
9783597507
9950538424
anilk1604@gmail.com

3 Likes · 120 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार
View all
You may also like:
*लोग सारी जिंदगी, बीमारियॉं ढोते रहे (हिंदी गजल)*
*लोग सारी जिंदगी, बीमारियॉं ढोते रहे (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
मौत की हक़ीक़त है
मौत की हक़ीक़त है
Dr fauzia Naseem shad
बगावत की बात
बगावत की बात
AJAY PRASAD
सितारा कोई
सितारा कोई
shahab uddin shah kannauji
#जयहिंद
#जयहिंद
Rashmi Ranjan
एक हसीं ख्वाब
एक हसीं ख्वाब
Mamta Rani
🥀*अज्ञानीकी कलम*🥀
🥀*अज्ञानीकी कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
3170.*पूर्णिका*
3170.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*Near Not Afar*
*Near Not Afar*
Poonam Matia
किसान
किसान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रंगो ने दिलाई पहचान
रंगो ने दिलाई पहचान
Nasib Sabharwal
सबूत- ए- इश्क़
सबूत- ए- इश्क़
राहुल रायकवार जज़्बाती
"विचारणीय"
Dr. Kishan tandon kranti
बाबा साहब अंबेडकर का अधूरा न्याय
बाबा साहब अंबेडकर का अधूरा न्याय
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
सौगंध
सौगंध
Shriyansh Gupta
58....
58....
sushil yadav
चर्चित हो जाऊँ
चर्चित हो जाऊँ
संजय कुमार संजू
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
कहाँ है!
कहाँ है!
Neelam Sharma
धर्म ज्योतिष वास्तु अंतराष्ट्रीय सम्मेलन
धर्म ज्योतिष वास्तु अंतराष्ट्रीय सम्मेलन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
विषय मेरा आदर्श शिक्षक
विषय मेरा आदर्श शिक्षक
कार्तिक नितिन शर्मा
ନବଧା ଭକ୍ତି
ନବଧା ଭକ୍ତି
Bidyadhar Mantry
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
भारत ने रचा इतिहास।
भारत ने रचा इतिहास।
Anil Mishra Prahari
*नींद आँखों में  ख़ास आती नहीं*
*नींद आँखों में ख़ास आती नहीं*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बेख़ौफ़ क़लम
बेख़ौफ़ क़लम
Shekhar Chandra Mitra
दोहे
दोहे
Santosh Soni
अरे योगी तूने क्या किया ?
अरे योगी तूने क्या किया ?
Mukta Rashmi
मिताइ।
मिताइ।
Acharya Rama Nand Mandal
भाई घर की शान है, बहनों का अभिमान।
भाई घर की शान है, बहनों का अभिमान।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...