Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2016 · 1 min read

ग़ज़ल :– दिलों का दर्द है ऐसा !!

ग़ज़ल :– दिलों का दर्द है ऐसा !!
गजलकार :– अनुज तिवारी “इन्दवार”

दिलों का दर्द है ऐसा जताने मे मजा आता ।
छिपाने का मजा अपना बताने मे मजा आता ।

भरे इन जख्म मे अपना कोई मरहम लगा जाये !
ऐसे जख्म की पीडा उठाने मे मजा आता ।

दिलों के दर्द को अपना समझे वही हमदम ।
दिलवर उसे अपना बनाने मे मजा आता ।

कहीं जब भूल वस अपनी अपना रूठ जाए तो ।
लुभाने का मजा अपना रिझाने मे मजा आता ।

लगे अब प्यार करने मे तराने दर्द के मीठे ।
जब गम हों जुदाई के महखाने मे मजा आता ।

1 Like · 1 Comment · 602 Views
You may also like:
भगत सिंह ; जेल डायरी
Gouri tiwari
*तिरंगा लहर-लहर लहराता (देशभक्ति गीत)*
Ravi Prakash
शादी से पहले और शादी के बाद
gurudeenverma198
जीवन मे कभी हार न मानों
Anamika Singh
हेमन्त दा पे दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अति का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
💐"गीता= व्यवहारे परमार्थ च तत्वप्राप्ति: च"💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मुकम्मल ना होते है।
Taj Mohammad
जैसी करनी वैसी भरनी
Ashish Kumar
खैरियत का जवाब आया
Seema 'Tu hai na'
पिता
अवध किशोर 'अवधू'
//... मेरी भाषा हिंदी...//
Chinta netam " मन "
पसंदीदा व्यक्ति के लिए.........
Rahul Singh
💐 मेरी तलाश💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बुंदेली दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Aksharjeet shayari..अपनी गलतीयों से बहुत कूछ सिखा हैं मैने ...
AK Your Quote Shayari
“ खाइतो छी आ गुंगुअवैत छी “
DrLakshman Jha Parimal
किसी को भूल कर
Dr fauzia Naseem shad
वापस लौट नहीं आना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
दीप बनकर जलो तुम
surenderpal vaidya
इमोजी है तो सही यार...!
प्रणय प्रभात
✍️फिर भी लगाव✍️
'अशांत' शेखर
तुम गर्म चाय तंदूरी हो
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
तन्हाँ महफिल को सजाऊँ कैसे
VINOD KUMAR CHAUHAN
कर्म में कौशल लाना होगा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कहानी *"ममता"* पार्ट-5 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
मुकुट उतरेगा
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
सपनों की तुम बात करो
कवि दीपक बवेजा
विपक्ष से सवाल
Shekhar Chandra Mitra
" नोट "
Dr Meenu Poonia
Loading...