Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 10, 2016 · 1 min read

ग़ज़ल :– दिलों का दर्द है ऐसा !!

ग़ज़ल :– दिलों का दर्द है ऐसा !!
गजलकार :– अनुज तिवारी “इन्दवार”

दिलों का दर्द है ऐसा जताने मे मजा आता ।
छिपाने का मजा अपना बताने मे मजा आता ।

भरे इन जख्म मे अपना कोई मरहम लगा जाये !
ऐसे जख्म की पीडा उठाने मे मजा आता ।

दिलों के दर्द को अपना समझे वही हमदम ।
दिलवर उसे अपना बनाने मे मजा आता ।

कहीं जब भूल वस अपनी अपना रूठ जाए तो ।
लुभाने का मजा अपना रिझाने मे मजा आता ।

लगे अब प्यार करने मे तराने दर्द के मीठे ।
जब गम हों जुदाई के महखाने मे मजा आता ।

1 Comment · 493 Views
You may also like:
दिवस नहीं मनाये जाते हैं...!!!
Kanchan Khanna
मन को मत हारने दो
जगदीश लववंशी
कितनी सुंदरता पहाड़ो में हैं भरी.....
Dr. Alpa H. Amin
साधु न भूखा जाय
श्री रमण
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
आलिंगन हो जानें दो।
Taj Mohammad
नर्सिंग दिवस विशेष
हरीश सुवासिया
ये सिर्फ मैं जानता हूँ
Swami Ganganiya
✍️✍️भोंगे✍️✍️
"अशांत" शेखर
धरती कहें पुकार के
Mahender Singh Hans
वो दिन भी बहुत खूबसूरत थे
Krishan Singh
"सुनो एक सैर पर चलते है"
Lohit Tamta
सुंदर बाग़
DESH RAJ
दहेज़
आकाश महेशपुरी
वैवाहिक वर्षगांठ मुक्तक
अभिनव मिश्र अदम्य
शांति....
Dr. Alpa H. Amin
ये दुनियां पूंछती है।
Taj Mohammad
Accept the mistake
Buddha Prakash
ख़ूब समझते हैं ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
#udhas#alone#aloneboy#brokenheart
Dalvir Singh
सौ प्रतिशत
Dr Archana Gupta
हमें तुम भुल गए
Anamika Singh
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
नई तकदीर
मनोज कर्ण
बुंदेली दोहा शब्द- थराई
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
खस्सीक दाम दस लाख
Ranjit Jha
बहुत कुछ अनकहा-सा रह गया है (कविता संग्रह)
Ravi Prakash
लिखता जा रहा है वह
gurudeenverma198
पिता पच्चीसी दोहावली
Subhash Singhai
ये मोहब्बत राज ना रहती है।
Taj Mohammad
Loading...