Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

न जाने कब तेरे…

न जाने कब तेरे जलवों में रवानी आयी,
न जाने कब तेरी सैलाब पर जवानी आयी,

हमें तो होश ही कब था तेरे होंठों से पीने का बाद,
न जाने कब हमारी सुधियों में वो कहानी आयी|

कभी तो शाहजहां – मुमताज के किस्से सुना करते,
न जाने कब मुझे भी याद वो राजा की रानी आयी,

कभी सबकुछ लुटा डाला था हमने इश्क में तेरे,
न जाने कब लुटा दी आज वो निशानी आयी|

न वो सदियां पुरानी हैं न वो यौवन पुराना है,
न जाने कब क्यों धोखे से वो बात पुरानी आयी |

– पुष्पराज यादव
09760557187

182 Views
You may also like:
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
दर्द की हम दवा
Dr fauzia Naseem shad
इज़हार-ए-इश्क 2
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कैसा हो सरपंच हमारा / (समसामयिक गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
वरिष्ठ गीतकार स्व.शिवकुमार अर्चन को समर्पित श्रद्धांजलि नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तू तो नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
पहचान...
मनोज कर्ण
इस तरह
Dr fauzia Naseem shad
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
दिल में रब का अगर
Dr fauzia Naseem shad
भोजपुरी के संवैधानिक दर्जा बदे सरकार से अपील
आकाश महेशपुरी
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
✍️फिर बच्चे बन जाते ✍️
Vaishnavi Gupta
पवनपुत्र, हे ! अंजनि नंदन ....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गुमनाम ही सही....
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
"अष्टांग योग"
पंकज कुमार कर्ण
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
🙏माॅं सिद्धिदात्री🙏
पंकज कुमार कर्ण
हो मन में लगन
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अपनी आदत में
Dr fauzia Naseem shad
बेटी को जन्मदिन की बधाई
लक्ष्मी सिंह
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
महँगाई
आकाश महेशपुरी
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD KUMAR CHAUHAN
लकड़ी में लड़की / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
Loading...