Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jul 2016 · 1 min read

न जाने कब तेरे…

न जाने कब तेरे जलवों में रवानी आयी,
न जाने कब तेरी सैलाब पर जवानी आयी,

हमें तो होश ही कब था तेरे होंठों से पीने का बाद,
न जाने कब हमारी सुधियों में वो कहानी आयी|

कभी तो शाहजहां – मुमताज के किस्से सुना करते,
न जाने कब मुझे भी याद वो राजा की रानी आयी,

कभी सबकुछ लुटा डाला था हमने इश्क में तेरे,
न जाने कब लुटा दी आज वो निशानी आयी|

न वो सदियां पुरानी हैं न वो यौवन पुराना है,
न जाने कब क्यों धोखे से वो बात पुरानी आयी |

– पुष्पराज यादव
09760557187

226 Views
You may also like:
तुम इतना सिला देना।
Taj Mohammad
हम है गरीब घर के बेटे
Swami Ganganiya
✍️चीते की रफ़्तार
'अशांत' शेखर
एक तू ही है जिसको
gurudeenverma198
नशा मुक्त अनमोल जीवन
Anamika Singh
💐💐वो न आकर भी कई बार चले गए💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अहा!नव सृजन की भोर है
नूरफातिमा खातून नूरी
कविता: सपना
Rajesh Kumar Arjun
स्वर्गीय सावन कुमार को समर्पित
RAFI ARUN GAUTAM
हम कलियुग के प्राणी हैं/Ham kaliyug ke prani Hain
Shivraj Anand
तेरी दहलीज पर झुकता हुआ सर लगता है
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
हास्य-व्यंग्य
Sadanand Kumar
ज़िन्दगी
Rj Anand Prajapati
तोड़ डालो ये परम्परा
VINOD KUMAR CHAUHAN
आजकल इश्क नही 21को शादी है
Anurag pandey
गज़ल
Krishna Tripathi
मेरी पत्रकारिता के साठ वर्ष (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
हमदर्द हो जो सबका मददगार चाहिए।
सत्य कुमार प्रेमी
किसी को क्या खबर है
shabina. Naaz
भूल कर
Dr fauzia Naseem shad
चुप कर पगली तुम्हें तो प्यार हुआ है
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
एक झूठा और ब्रह्म सत्य
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
तनिक पास आ तो सही...!
Dr. Pratibha Mahi
देर
पीयूष धामी
यादें
श्याम सिंह बिष्ट
लाज-लेहाज
Anil Jha
■ लघुकथा / विभीषण
*Author प्रणय प्रभात*
दोस्ती -ईश्वर का रूप
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
लाख सितारे ......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
गुरु मंत्र
Shekhar Chandra Mitra
Loading...