Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 May 2024 · 1 min read

खामोशी : काश इसे भी पढ़ लेता….!

” बहुत पढ़ा-लिखा है मैंने…
घर की दीवार पर…
डिग्रियां बहुत सारे संजो रखा है मैंने…!
घर-परिवार, रिश्ते-नातेदार, दोस्त-यार…
आस-पास अपने, बहुत पूछ-परख है मेरे…!
इसी अहंकार से…
आलिशान महल बना रखा है मैंने…!
बहुत लोगों को,काफी अनुभवी…
और समझदार-किरदार बताया है मैंने…!
मगर कभी वह नहीं पढ़ सका…
जो अपनों ने शामोशी में कहा…!
उसके आंखों से बहते आंसू ने कहा..!
दोस्तों-रिश्तेदार के गुमसुम नजर ने कहा…!

बहुत पढ़ा-लिखा है मैंने…
मेल-मिलाप, रिश्तेदारी निभाने को…
रद्दी अखबार का हिस्सा समझ रखा है मैंने..!
संग-साथ, अपनों के प्रेम-पुचकार को..
स्वार्थ से सजा ईस्तहार समझ रखा है मैंने…!
काश इसे पढ़ लेता, समझ लेता…
तो अपनों के बीच अनजान न होता…!
जिंदगी में दर्द का ईलाज समझ लेता…
तो आज मनोरोग का शिकार न होता…! ”

**************∆∆∆*************

Language: Hindi
1 Like · 35 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VEDANTA PATEL
View all
You may also like:
प्रेम भरे कभी खत लिखते थे
प्रेम भरे कभी खत लिखते थे
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
इन दरख्तों को ना उखाड़ो
इन दरख्तों को ना उखाड़ो
VINOD CHAUHAN
*माहेश्वर तिवारी जी से संपर्क*
*माहेश्वर तिवारी जी से संपर्क*
Ravi Prakash
प्रलयंकारी कोरोना
प्रलयंकारी कोरोना
Shriyansh Gupta
2433.पूर्णिका
2433.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मंजिल-ए-मोहब्बत
मंजिल-ए-मोहब्बत
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
हरे! उन्मादिनी कोई हृदय में तान भर देना।
हरे! उन्मादिनी कोई हृदय में तान भर देना।
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
A Dream In The Oceanfront
A Dream In The Oceanfront
Natasha Stephen
प्रेम
प्रेम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
She was the Mother - an ode to Mother Teresa
She was the Mother - an ode to Mother Teresa
Dhriti Mishra
जिंदगी को बोझ मान
जिंदगी को बोझ मान
भरत कुमार सोलंकी
मीठे बोल या मीठा जहर
मीठे बोल या मीठा जहर
विजय कुमार अग्रवाल
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ११)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ११)
Kanchan Khanna
सफलता
सफलता
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ज़िंदगी को दर्द
ज़िंदगी को दर्द
Dr fauzia Naseem shad
जब कोई आपसे बहुत बोलने वाला व्यक्ति
जब कोई आपसे बहुत बोलने वाला व्यक्ति
पूर्वार्थ
■ कोई तो हो...।।
■ कोई तो हो...।।
*प्रणय प्रभात*
Nothing is easier in life than
Nothing is easier in life than "easy words"
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मौन हूँ, अनभिज्ञ नही
मौन हूँ, अनभिज्ञ नही
संजय कुमार संजू
अपने अपने कटघरे हैं
अपने अपने कटघरे हैं
Shivkumar Bilagrami
चाय में इलायची सा है आपकी
चाय में इलायची सा है आपकी
शेखर सिंह
__सुविचार__
__सुविचार__
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
अपने तो अपने होते हैं
अपने तो अपने होते हैं
Harminder Kaur
प्रकृति पर कविता
प्रकृति पर कविता
कवि अनिल कुमार पँचोली
गुमनाम राही
गुमनाम राही
AMRESH KUMAR VERMA
गंगा मैया
गंगा मैया
Kumud Srivastava
*......इम्तहान बाकी है.....*
*......इम्तहान बाकी है.....*
Naushaba Suriya
श्री राम जय राम।
श्री राम जय राम।
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
मेरी प्यारी हिंदी
मेरी प्यारी हिंदी
रेखा कापसे
"परिपक्वता"
Dr Meenu Poonia
Loading...