Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Oct 2023 · 1 min read

खानदानी चाहत में राहत🌷

खानदानी चाहत में राहत🌷
💐☘️🌹🙏🌷☘️🍀🙏
गोद भरी पर सूनी आंगन
तितली उड़ रही वगिया मे

छन छन नाद नानी कीगोदी
बिन माली खाली फूलवाड़ी

खनदानी बोल है दादा की
वंश चाहत में पिड़ित दादी

ताना-बाना सुन द्विनयना
ऊपर नभ पग तल धरणी

सूखी वाणी सहज मधु नहीं
दबी हँसी पर ओढ़ न आनी

मान विधाता की बेईमानी
आस खड़़ी पड़ी खानदानी

मन्नत मांग रही नाना-नानी
बेचैनी में दबी है दादा दादी

सब्र कहाँ जो थाम सके ये
चिंता से घटा रहे निज काया

माया की चाल चले विधाता
मत सोच प्राणी चलता चल

समय पाय ही तरूवर फले
चाहे केतक सींचत नीर घड़ा

बोल रही प्रकृति की रानी माँ
धैर्य धर्म कर्म पर करो विश्वास

समय पर पूरी होगी तेरी आस
खिल उठेंगे नाना नानी दादा दादी

गोद भरेगी चाहत खानदानी
कर्म करो फल की चिंदा मत कर
हे इंसान ! ये है गीता का ज्ञान ?

🌷🌹🙏🙏🍀☘️🌷🌹🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरूण

Language: Hindi
1 Like · 105 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
View all
You may also like:
जोश,जूनून भरपूर है,
जोश,जूनून भरपूर है,
Vaishaligoel
वैसे किसी भगवान का दिया हुआ सब कुछ है
वैसे किसी भगवान का दिया हुआ सब कुछ है
शेखर सिंह
ढलती उम्र का जिक्र करते हैं
ढलती उम्र का जिक्र करते हैं
Harminder Kaur
*मूलत: आध्यात्मिक व्यक्तित्व श्री जितेंद्र कमल आनंद जी*
*मूलत: आध्यात्मिक व्यक्तित्व श्री जितेंद्र कमल आनंद जी*
Ravi Prakash
9-अधम वह आदमी की शक्ल में शैतान होता है
9-अधम वह आदमी की शक्ल में शैतान होता है
Ajay Kumar Vimal
जन-जन के आदर्श तुम, दशरथ नंदन ज्येष्ठ।
जन-जन के आदर्श तुम, दशरथ नंदन ज्येष्ठ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मैं तुलसी तेरे आँगन की
मैं तुलसी तेरे आँगन की
Shashi kala vyas
ऐ ज़िंदगी।
ऐ ज़िंदगी।
Taj Mohammad
3141.*पूर्णिका*
3141.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
क्या रखा है???
क्या रखा है???
Sûrëkhâ
मुस्तक़िल बेमिसाल हुआ करती हैं।
मुस्तक़िल बेमिसाल हुआ करती हैं।
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
भूख
भूख
RAKESH RAKESH
यदि आप अपनी असफलता से संतुष्ट हैं
यदि आप अपनी असफलता से संतुष्ट हैं
Paras Nath Jha
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
विश्व पुस्तक मेला
विश्व पुस्तक मेला
Dr. Kishan tandon kranti
भाई
भाई
Kanchan verma
किया आप Tea लवर हो?
किया आप Tea लवर हो?
Urmil Suman(श्री)
*क्रोध की गाज*
*क्रोध की गाज*
Buddha Prakash
होली कान्हा संग
होली कान्हा संग
Kanchan Khanna
एक सच ......
एक सच ......
sushil sarna
■ सब परिवर्तनशील हैं। संगी-साथी भी।।
■ सब परिवर्तनशील हैं। संगी-साथी भी।।
*Author प्रणय प्रभात*
" from 2024 will be the quietest era ever for me. I just wan
पूर्वार्थ
कस्तूरी इत्र
कस्तूरी इत्र
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
हैं राम आये अवध  में  पावन  हुआ  यह  देश  है
हैं राम आये अवध में पावन हुआ यह देश है
Anil Mishra Prahari
चाय की प्याली!
चाय की प्याली!
कविता झा ‘गीत’
जन पक्ष में लेखनी चले
जन पक्ष में लेखनी चले
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जीता जग सारा मैंने
जीता जग सारा मैंने
Suryakant Dwivedi
।। सुविचार ।।
।। सुविचार ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
वायरल होने का मतलब है सब जगह आप के ही चर्चे बिखरे पड़े हो।जो
वायरल होने का मतलब है सब जगह आप के ही चर्चे बिखरे पड़े हो।जो
Rj Anand Prajapati
बरसात (विरह)
बरसात (विरह)
लक्ष्मी सिंह
Loading...