Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 May 2023 · 1 min read

क्यूं हो शामिल ,प्यासों मैं हम भी //

बहुत तरस लिए,अब ,
मिले खुलकर दूर कही बारिशों मैं हम भी //

क्या और सोचना अब ,
क्यों फंसे,दुनिया की साजिशो मैं हम भी //

थोडा सा जी ले अब,
भर दें रंग,अपनी ख्वाबहिशो मैं हम भी //

आराम चाहिए दिल,को अब,
गुज़रे है बहुत ,मुहब्बत के हादसों से हम भी//

चाहता है, दिल नजदीकियां अब ,
तरसे है बहुत, इन दूरियों मैं हम भी //

कैसी तिश्नगी है,ये अब ,
क्यूं हो शामिल ,प्यासों मैं हम भी //

बहुत तरस लिए अब,
खुलकर मिले,दूर कहीं बारिशो मैं हम भी…………..

बात दिल की,कह दे अब,
बेकरारी क्यूँ?कब तक रहेंगे खामोश हम भी//

लोग सब देख रहे है अब,
बन न जाएँ इक,दुनियां के और तमाशों मैं हम भी //

1 Like · 109 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गुप्तरत्न
View all
You may also like:
विध्वंस का शैतान
विध्वंस का शैतान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
2941.*पूर्णिका*
2941.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
एहसास
एहसास
Vandna thakur
गुरू द्वारा प्राप्त ज्ञान के अनुसार जीना ही वास्तविक गुरू दक
गुरू द्वारा प्राप्त ज्ञान के अनुसार जीना ही वास्तविक गुरू दक
SHASHANK TRIVEDI
मौसम कैसा आ गया, चहुँ दिश छाई धूल ।
मौसम कैसा आ गया, चहुँ दिश छाई धूल ।
Arvind trivedi
🚩अमर कोंच-इतिहास
🚩अमर कोंच-इतिहास
Pt. Brajesh Kumar Nayak
■ आज की सलाह। धूर्तों के लिए।।
■ आज की सलाह। धूर्तों के लिए।।
*Author प्रणय प्रभात*
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
डॉ भीमराव अम्बेडकर
डॉ भीमराव अम्बेडकर
नूरफातिमा खातून नूरी
उड़ानों का नहीं मतलब, गगन का नूर हो जाना।
उड़ानों का नहीं मतलब, गगन का नूर हो जाना।
डॉ.सीमा अग्रवाल
आप वो नहीं है जो आप खुद को समझते है बल्कि आप वही जो दुनिया आ
आप वो नहीं है जो आप खुद को समझते है बल्कि आप वही जो दुनिया आ
Rj Anand Prajapati
धैर्य.....….....सब्र
धैर्य.....….....सब्र
Neeraj Agarwal
नदी का किनारा ।
नदी का किनारा ।
Kuldeep mishra (KD)
Don't Give Up..
Don't Give Up..
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
एक नासूर हो ही रहा दूसरा ज़ख्म फिर खा लिया।
एक नासूर हो ही रहा दूसरा ज़ख्म फिर खा लिया।
ओसमणी साहू 'ओश'
कभी आना कभी जाना (हिंदी गजल/गीतिका)
कभी आना कभी जाना (हिंदी गजल/गीतिका)
Ravi Prakash
मौन संवाद
मौन संवाद
Ramswaroop Dinkar
*माँ दुर्गा का प्रथम स्वरूप - शैलपुत्री*
*माँ दुर्गा का प्रथम स्वरूप - शैलपुत्री*
Shashi kala vyas
बेटी उड़ान पर बाप ढलान पर👰👸🙋👭🕊️🕊️
बेटी उड़ान पर बाप ढलान पर👰👸🙋👭🕊️🕊️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बेशर्मी से रात भर,
बेशर्मी से रात भर,
sushil sarna
Scattered existence,
Scattered existence,
पूर्वार्थ
बचपन
बचपन
Vedha Singh
खत पढ़कर तू अपने वतन का
खत पढ़कर तू अपने वतन का
gurudeenverma198
मुहब्बत  फूल  होती  है
मुहब्बत फूल होती है
shabina. Naaz
फितरत
फितरत
Sidhartha Mishra
इस गुज़रते साल में...कितने मनसूबे दबाये बैठे हो...!!
इस गुज़रते साल में...कितने मनसूबे दबाये बैठे हो...!!
Ravi Betulwala
माना सांसों के लिए,
माना सांसों के लिए,
शेखर सिंह
शिक्षक की भूमिका
शिक्षक की भूमिका
Rajni kapoor
पल पल रंग बदलती है दुनिया
पल पल रंग बदलती है दुनिया
Ranjeet kumar patre
पितृ दिवस134
पितृ दिवस134
Dr Archana Gupta
Loading...