Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Nov 2016 · 1 min read

क्यूं दिखती खुशी में कमी-सी है ? क्यूं आँखों में भी थोड़ी नमी-सी है ?

” गजल ”
————
क्यूं दिखती खुशी में कमी-सी है ?
क्यूं आँखों में भी थोड़ी नमी-सी है ?
*
हँस लेते हैं अश्क पीकर, पर ये
जिंदगी तो लगती अनमनी-सी है।
*
दिल की बात दिल में दबी रहती
अपनों में तो गहमागहमी -सी है।
*
सीख लिया अब काँटों पर चलना
देखो फूलों पर तो गर्द जमी-सी है।
*
कोशिश रहता गमे दिल न बने पर
टटोलते नब्ज तो लगता थमी-सी है।
*
जीते हैं हम सभी,हँसते हैं हम सभी
पर अश्क भी आँखों में घुटी-सी है।
*
जुबां को भी रोक देता है दिल,क्यूं
दिल इतनी सहमी-सहमी -सी है ?
*
सवाल होता कभी खुद से तो कभी
खुदा से,कयूं ये जमीं हिल रही-सी है ।
*
मिल जाए जवाब तो बताना “पूनम”
को भी क्यूं हर जगह सनसनी-सी है।
#पूनम_झा । कोटा, राजस्थान। 16-11-16
######################

341 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from पूनम झा 'प्रथमा'
View all
You may also like:
हो रही बरसात झमाझम....
हो रही बरसात झमाझम....
डॉ. दीपक मेवाती
कृतघ्न व्यक्ति आप के सत्कर्म को अपकर्म में बदलता रहेगा और आप
कृतघ्न व्यक्ति आप के सत्कर्म को अपकर्म में बदलता रहेगा और आप
Sanjay ' शून्य'
फितरत
फितरत
Awadhesh Kumar Singh
ऊपर चढ़ता देख तुम्हें, मुमकिन मेरा खुश होना।
ऊपर चढ़ता देख तुम्हें, मुमकिन मेरा खुश होना।
सत्य कुमार प्रेमी
“बिरहनी की तड़प”
“बिरहनी की तड़प”
DrLakshman Jha Parimal
नयन
नयन
डॉक्टर रागिनी
वतन के लिए
वतन के लिए
नूरफातिमा खातून नूरी
जला रहा हूँ ख़ुद को
जला रहा हूँ ख़ुद को
Akash Yadav
*वो मेरी जान, मुझे बहुत याद आती है(जेल से)*
*वो मेरी जान, मुझे बहुत याद आती है(जेल से)*
Dushyant Kumar
आर्या कंपटीशन कोचिंग क्लासेज केदलीपुर ईरनी रोड ठेकमा आजमगढ़
आर्या कंपटीशन कोचिंग क्लासेज केदलीपुर ईरनी रोड ठेकमा आजमगढ़
Rj Anand Prajapati
हम छि मिथिला के बासी
हम छि मिथिला के बासी
Ram Babu Mandal
मैं तुलसी तेरे आँगन की
मैं तुलसी तेरे आँगन की
Shashi kala vyas
वो दिन भी क्या दिन थे
वो दिन भी क्या दिन थे
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
दीन-दयाल राम घर आये, सुर,नर-नारी परम सुख पाये।
दीन-दयाल राम घर आये, सुर,नर-नारी परम सुख पाये।
Anil Mishra Prahari
रामपुर में थियोसॉफिकल सोसायटी के पर्याय श्री हरिओम अग्रवाल जी
रामपुर में थियोसॉफिकल सोसायटी के पर्याय श्री हरिओम अग्रवाल जी
Ravi Prakash
आपकी यादों में
आपकी यादों में
Er.Navaneet R Shandily
वह देश हिंदुस्तान है
वह देश हिंदुस्तान है
gurudeenverma198
आंखों की भाषा
आंखों की भाषा
Mukesh Kumar Sonkar
मैं रात भर मैं बीमार थीऔर वो रातभर जागती रही
मैं रात भर मैं बीमार थीऔर वो रातभर जागती रही
Dr Manju Saini
"गेंम-वर्ल्ड"
*Author प्रणय प्रभात*
* मुस्कुराना *
* मुस्कुराना *
surenderpal vaidya
लम्हा-लम्हा
लम्हा-लम्हा
Surinder blackpen
"ईश्वर की गति"
Ashokatv
तेरी दुनिया में
तेरी दुनिया में
Dr fauzia Naseem shad
उस देश के वासी है 🙏
उस देश के वासी है 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
तू जो लुटाये मुझपे वफ़ा
तू जो लुटाये मुझपे वफ़ा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
2464.पूर्णिका
2464.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
" यही सब होगा "
Aarti sirsat
पर्यावरण दिवस
पर्यावरण दिवस
Satish Srijan
गुफ्तगू की अहमियत ,                                       अब क्या ख़ाक होगी ।
गुफ्तगू की अहमियत , अब क्या ख़ाक होगी ।
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
Loading...