Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Mar 2024 · 1 min read

कौशल कविता का – कविता

शीर्षक – ” कौशल कविता का ”

शब्द शब्द ये अहसास का झरना है ।
कविता से मन के घावों को भरना है ।।
चोटिल होती भावनाएं, व्याकुल मन है ।
चिंता के चक्रव्यूह में घिरा ये जीवन है ।।

सृजन का अब नया अध्याय लिखेगी ।
कविता मेरी केवल न्याय लिखेगी ।।

अंतर्मन के भावों की पुकार है कविता ।
विश्वास का स्वरूप आकार है कविता ।।
सत्य, साहस, संयम की परिभाषा है ।
रश्मि ऊर्जा की, तृप्त अभिलाषा है ।।

प्रेम और पुण्य का पर्याय लिखेगी ।
कविता मेरी केवल न्याय लिखेगी ।।

©डॉ. वासिफ़ काज़ी , इंदौर
©काज़ी की क़लम

28/3/2 , अहिल्या पल्टन , इक़बाल कॉलोनी
इंदौर , मप्र -452006

Language: Hindi
1 Like · 360 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
श्रीराम गिलहरी संवाद अष्टपदी
श्रीराम गिलहरी संवाद अष्टपदी
SHAILESH MOHAN
नफ़्स
नफ़्स
निकेश कुमार ठाकुर
सावन आज फिर उमड़ आया है,
सावन आज फिर उमड़ आया है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
🐍भुजंगी छंद🐍 विधान~ [यगण यगण यगण+लघु गुरु] ( 122 122 122 12 11वर्ण,,4 चरण दो-दो चरण समतुकांत]
🐍भुजंगी छंद🐍 विधान~ [यगण यगण यगण+लघु गुरु] ( 122 122 122 12 11वर्ण,,4 चरण दो-दो चरण समतुकांत]
Neelam Sharma
कोई आदत नहीं
कोई आदत नहीं
Dr fauzia Naseem shad
चाय (Tea)
चाय (Tea)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
अमर्यादा
अमर्यादा
साहिल
"😢सियासी मंडी में😢
*प्रणय प्रभात*
मेरा दिन भी आएगा !
मेरा दिन भी आएगा !
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
वक्त (प्रेरणादायक कविता):- सलमान सूर्य
वक्त (प्रेरणादायक कविता):- सलमान सूर्य
Salman Surya
अधखिला फूल निहार रहा है
अधखिला फूल निहार रहा है
VINOD CHAUHAN
*विभाजित जगत-जन! यह सत्य है।*
*विभाजित जगत-जन! यह सत्य है।*
संजय कुमार संजू
पकड़ मजबूत रखना हौसलों की तुम
पकड़ मजबूत रखना हौसलों की तुम "नवल" हरदम ।
शेखर सिंह
अन्ना जी के प्रोडक्ट्स की चर्चा,अब हो रही है गली-गली
अन्ना जी के प्रोडक्ट्स की चर्चा,अब हो रही है गली-गली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सावन आया झूम के .....!!!
सावन आया झूम के .....!!!
Kanchan Khanna
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अवसरवादी, झूठे, मक्कार, मतलबी, बेईमान और चुगलखोर मित्र से अच
अवसरवादी, झूठे, मक्कार, मतलबी, बेईमान और चुगलखोर मित्र से अच
विमला महरिया मौज
मायड़ भौम रो सुख
मायड़ भौम रो सुख
लक्की सिंह चौहान
"फसलों के राग"
Dr. Kishan tandon kranti
जज्बे का तूफान
जज्बे का तूफान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
शक्तिहीनों का कोई संगठन नहीं होता।
शक्तिहीनों का कोई संगठन नहीं होता।
Sanjay ' शून्य'
22-दुनिया
22-दुनिया
Ajay Kumar Vimal
यादों के छांव
यादों के छांव
Nanki Patre
कुदरत के रंग.....एक सच
कुदरत के रंग.....एक सच
Neeraj Agarwal
फ़ितरत का रहस्य
फ़ितरत का रहस्य
Buddha Prakash
23/219. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/219. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ना कहीं के हैं हम - ना कहीं के हैं हम
ना कहीं के हैं हम - ना कहीं के हैं हम
Basant Bhagawan Roy
बचपन
बचपन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
मेला
मेला
Dr.Priya Soni Khare
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
Rj Anand Prajapati
Loading...