Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 May 2023 · 1 min read

कृष्ण दामोदरं

दामोदरम
माधवं केश्ववम कृष्ण दामोदरम भगवतम भाव धन्य राधे राधितम!!

माधवम केशवम कृष्ण दामोदरम भगवतम भाव धन्य राधे राधितम!!

भाग्य भी है भगवान् भी है मिटाता भी है तो बनाता भी है!!

माधवम केशवम कृष्ण दामोदरम भगवतम भाव धन्य राधे राधितम!!

इच्छा भी है तू परीक्षा भी है भाव भक्ति में नाचता भी है तू, इशारों पे युग को नचाता है भी है तूं ही विधि विधान विधाता भी है!!

माधवम केशवम कृष्ण दामोदरम भगवतम भाव धन्य राधे राधितम!!

नंद नन्दन यशोदा का लाडला कर्म ग्यान कि ज्योति जलाता भी है बसु्‍धैव कुटुम्बकम का कृष्ण है मर्म सृष्टि कि दृष्टि का विश्वास है!!

माधवम केशवम कृष्ण दामोदरम भगवतम भाव धन्य राधे राधितम!

नर का नारायण पुरुष का पुरूषार्थ है जिसका कोई नही उसका संसार हैं सत्य का सारथी मित्र कि मित्रता का मर्म मर्यादा सम्मान है!!

माधवम केशवम कृष्ण दामोदरम भगवतम भाव धन्य राधे राधितम!!

रास रसिया रसिक महारास है गोपियों का गोपेश्वर नारी कि लाज़ है, है प्रेम जगत में सार और कछु सार नहीं का सार है!!

माधवम केशवम कृष्ण दामोदरम भगवतम भाव धन्य राधे राधितम धितम!!

जगत का गुरु योगियों का योगेश्वर परम ब्रह्म ब्रह्माण्ड का सत्य सत्यार्थ हैं!!
माधवम केशवम कृष्ण दामोदरम भगवतम भाव धन्य राधे राधितम!।

Language: Hindi
141 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
View all
You may also like:
मुझे दूसरे के अखाड़े में
मुझे दूसरे के अखाड़े में
*प्रणय प्रभात*
खिचे है लीक जल पर भी,कभी तुम खींचकर देखो ।
खिचे है लीक जल पर भी,कभी तुम खींचकर देखो ।
Ashok deep
मंजिल की अब दूरी नही
मंजिल की अब दूरी नही
देवराज यादव
गीतांश....
गीतांश....
Yogini kajol Pathak
तड़के जब आँखें खुलीं, उपजा एक विचार।
तड़के जब आँखें खुलीं, उपजा एक विचार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
" सुर्ख़ गुलाब "
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
ड़ माने कुछ नहीं
ड़ माने कुछ नहीं
Satish Srijan
"फासले उम्र के" ‌‌
Chunnu Lal Gupta
ये प्यार की है बातें, सुनलों जरा सुनाउँ !
ये प्यार की है बातें, सुनलों जरा सुनाउँ !
DrLakshman Jha Parimal
ग़ज़ल/नज़्म - हुस्न से तू तकरार ना कर
ग़ज़ल/नज़्म - हुस्न से तू तकरार ना कर
अनिल कुमार
छल और फ़रेब करने वालों की कोई जाति नहीं होती,उनका जाति बहिष्
छल और फ़रेब करने वालों की कोई जाति नहीं होती,उनका जाति बहिष्
Shweta Soni
गुलाब के काॅंटे
गुलाब के काॅंटे
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
बचपन और पचपन
बचपन और पचपन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
*फिल्म समीक्षक: रवि प्रकाश*
*फिल्म समीक्षक: रवि प्रकाश*
Ravi Prakash
"बेजुबान"
Dr. Kishan tandon kranti
पाप का भागी
पाप का भागी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
फिलहाल अंधभक्त धीरे धीरे अपनी संस्कृति ख़ो रहे है
फिलहाल अंधभक्त धीरे धीरे अपनी संस्कृति ख़ो रहे है
शेखर सिंह
!! एक ख्याल !!
!! एक ख्याल !!
Swara Kumari arya
हर बात पे ‘अच्छा’ कहना…
हर बात पे ‘अच्छा’ कहना…
Keshav kishor Kumar
खद्योत हैं
खद्योत हैं
Sanjay ' शून्य'
अपेक्षा किसी से उतनी ही रखें
अपेक्षा किसी से उतनी ही रखें
Paras Nath Jha
छोटी-छोटी बातों से, ऐ दिल परेशाँ न हुआ कर,
छोटी-छोटी बातों से, ऐ दिल परेशाँ न हुआ कर,
_सुलेखा.
धनतेरस और रात दिवाली🙏🎆🎇
धनतेरस और रात दिवाली🙏🎆🎇
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
क्या ?
क्या ?
Dinesh Kumar Gangwar
Heart Wishes For The Wave.
Heart Wishes For The Wave.
Manisha Manjari
आधार छन्द-
आधार छन्द- "सीता" (मापनीयुक्त वर्णिक) वर्णिक मापनी- गालगागा गालगागा गालगागा गालगा (15 वर्ण) पिंगल सूत्र- र त म य र
Neelam Sharma
जज़्बात
जज़्बात
Neeraj Agarwal
गुम है
गुम है
Punam Pande
देव उठनी
देव उठनी
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
एक गुलाब हो
एक गुलाब हो
हिमांशु Kulshrestha
Loading...