Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Aug 2023 · 1 min read

किसान

किसान

पसीना बहाकर खेत जोतता
बीज बोकर अन्न उपजाता ।
भूखा रहकर लोगों की भूख मिटाता
तभी वह जग में अन्नदाता कहलाता ।
आंधी, तूफ़ान, गर्मी से वह न घबराता
परिश्रम से कभी न जी चुराता ।
धरती माँ की सदा सेवा करता
मेहनत पर ही विश्वास करता ।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

123 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
I love you
I love you
Otteri Selvakumar
*** आशा ही वो जहाज है....!!! ***
*** आशा ही वो जहाज है....!!! ***
VEDANTA PATEL
जब किसी कार्य के लिए कदम आगे बढ़ाने से पूर्व ही आप अपने पक्ष
जब किसी कार्य के लिए कदम आगे बढ़ाने से पूर्व ही आप अपने पक्ष
Paras Nath Jha
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-143के दोहे
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-143के दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
न हँस रहे हो ,ना हीं जता रहे हो दुःख
न हँस रहे हो ,ना हीं जता रहे हो दुःख
Shweta Soni
💐अज्ञात के प्रति-101💐
💐अज्ञात के प्रति-101💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"इस्तिफ़सार" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
त्याग करने वाला
त्याग करने वाला
Buddha Prakash
बाँकी अछि हमर दूधक कर्ज / मातृभाषा दिवश पर हमर एक गाेट कविता
बाँकी अछि हमर दूधक कर्ज / मातृभाषा दिवश पर हमर एक गाेट कविता
Binit Thakur (विनीत ठाकुर)
ये दूरियां मजबूरी नही,
ये दूरियां मजबूरी नही,
goutam shaw
प्यार करने के लिए हो एक छोटी जिंदगी।
प्यार करने के लिए हो एक छोटी जिंदगी।
सत्य कुमार प्रेमी
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
नमस्ते! रीति भारत की,
नमस्ते! रीति भारत की,
Neelam Sharma
मेरी जिंदगी
मेरी जिंदगी
ओनिका सेतिया 'अनु '
नफरतों के शहर में प्रीत लुटाते रहना।
नफरतों के शहर में प्रीत लुटाते रहना।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
हमारी सोच
हमारी सोच
Neeraj Agarwal
लोककवि रामचरन गुप्त के लोकगीतों में आनुप्रासिक सौंदर्य +ज्ञानेन्द्र साज़
लोककवि रामचरन गुप्त के लोकगीतों में आनुप्रासिक सौंदर्य +ज्ञानेन्द्र साज़
कवि रमेशराज
" आज़ का आदमी "
Chunnu Lal Gupta
मुद्दतों बाद खुद की बात अपने दिल से की है
मुद्दतों बाद खुद की बात अपने दिल से की है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
अहंकार
अहंकार
लक्ष्मी सिंह
असली चमचा जानिए, हाँ जी में उस्ताद ( हास्य कुंडलिया )
असली चमचा जानिए, हाँ जी में उस्ताद ( हास्य कुंडलिया )
Ravi Prakash
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
आशिकी
आशिकी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ऐ भाई - दीपक नीलपदम्
ऐ भाई - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
इंतजार
इंतजार
Pratibha Pandey
आत्मा शरीर और मन
आत्मा शरीर और मन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चाँदनी
चाँदनी
नन्दलाल सुथार "राही"
खामोशी ने मार दिया।
खामोशी ने मार दिया।
Anil chobisa
राधे राधे happy Holi
राधे राधे happy Holi
साहित्य गौरव
"इतिहास गवाह है"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...