Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 1 min read

किसने कहा, ज़िन्दगी आंसुओं में हीं कट जायेगी।

किसने कहा, ज़िन्दगी आंसुओं में हीं कट जायेगी,
खुशी की लहर, कभी तो मुस्कुराती हुई चली आएगी।
बंजर ये धरती, कब तक दरारें हीं दिखाएगी,
लहलहाती फ़सलें, कभी इसकी गोद भी भर जायेगी।
भटके हुए पंछियों को, ये दुनिया कब तक लुभाएगी,
एक न एक दिन यादें, इनकी भी घर वापसी कराएगी।
भ्रम और धोख़े की स्याही, कभी तक झूठ फैलाएगी,
एक दिन सत्य की कलम, स्वयं हीं खुद को चलाएगी।
मंजिल तेरी राहों से, कब तक मिलने से कतराएगी,
मुक़म्मल वो जहां, एक दिन तेरे पैरों से लिपट जायेगी।
बंद दरवाजे कब तक, तेरी आस को तुड़वाएगी,
नए आयामों के द्वार, तेरी शिद्दत हीं खुलवाएगी।
अवसाद के अंधेरों में, तेरी ग़र्दिशें तुझे भटकायेंगी,
पर सितारों की दुआएं, एक दिन तुझे ढूंढ लाएगी।
ज़िन्दगी के दुखों का बोझ, तू कब तक उठाएगी,
क्षमा बनेगा अस्त्र एक दिन, और उन्मुक्त हो तू गुंगुनायेगी।
परछाइयाँ कब तक, तेरे अक्स को छुपाएगी,
एक दिन सूरज की किरणें, तेरे अस्तित्व को चमकायेगी।
किनारों से टकराकर, कब तक तू मौत में समायेगी,
बवंडर बनकर एक दिन, तू सबको डुबाएगी।
अतीत से मिले घावों को, कब तक तू सहलाएगी,
पराकाष्ठा उस पीड़ा की, मरहम बनकर तुझे दिखाएगी।

3 Likes · 180 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
मानवता और जातिगत भेद
मानवता और जातिगत भेद
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
कभी कभी किसी व्यक्ति(( इंसान))से इतना लगाव हो जाता है
कभी कभी किसी व्यक्ति(( इंसान))से इतना लगाव हो जाता है
Rituraj shivem verma
एक समय बेकार पड़ा था
एक समय बेकार पड़ा था
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मानवता का शत्रु आतंकवाद हैं
मानवता का शत्रु आतंकवाद हैं
Raju Gajbhiye
बेटी
बेटी
Neeraj Agarwal
कैसा विकास और किसका विकास !
कैसा विकास और किसका विकास !
ओनिका सेतिया 'अनु '
जिन्दगी की यात्रा में हम सब का,
जिन्दगी की यात्रा में हम सब का,
नेताम आर सी
बारिशों में कुछ पतंगें भी उड़ा लिया करो दोस्तों,
बारिशों में कुछ पतंगें भी उड़ा लिया करो दोस्तों,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
तुम और बिंदी
तुम और बिंदी
Awadhesh Singh
*हर मरीज के भीतर समझो, बसे हुए भगवान हैं (गीत)*
*हर मरीज के भीतर समझो, बसे हुए भगवान हैं (गीत)*
Ravi Prakash
लकवा
लकवा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अ ज़िन्दगी तू ही बता..!!
अ ज़िन्दगी तू ही बता..!!
Rachana
तर्कश से बिना तीर निकाले ही मार दूं
तर्कश से बिना तीर निकाले ही मार दूं
Manoj Mahato
*** चोर ***
*** चोर ***
Chunnu Lal Gupta
2568.पूर्णिका
2568.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
किस दौड़ का हिस्सा बनाना चाहते हो।
किस दौड़ का हिस्सा बनाना चाहते हो।
Sanjay ' शून्य'
* कुण्डलिया *
* कुण्डलिया *
surenderpal vaidya
#संशोधित_बाल_कविता
#संशोधित_बाल_कविता
*प्रणय प्रभात*
तुमसे इश्क करके हमने
तुमसे इश्क करके हमने
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
सत्य साधना
सत्य साधना
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
ज़िंदादिली
ज़िंदादिली
Dr.S.P. Gautam
आज दिवस है  इश्क का, जी भर कर लो प्यार ।
आज दिवस है इश्क का, जी भर कर लो प्यार ।
sushil sarna
हीर मात्रिक छंद
हीर मात्रिक छंद
Subhash Singhai
तुमने दिल का कहां
तुमने दिल का कहां
Dr fauzia Naseem shad
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
हिन्दी दोहे- इतिहास
हिन्दी दोहे- इतिहास
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ना बातें करो,ना मुलाकातें करो,
ना बातें करो,ना मुलाकातें करो,
Dr. Man Mohan Krishna
पास तो आना- तो बहाना था
पास तो आना- तो बहाना था"
भरत कुमार सोलंकी
कुछ खामोशियाँ तुम ले आना।
कुछ खामोशियाँ तुम ले आना।
Manisha Manjari
बह्र ## 2122 2122 2122 212 फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन काफिया ## आते रदीफ़ ## रहे
बह्र ## 2122 2122 2122 212 फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन काफिया ## आते रदीफ़ ## रहे
Neelam Sharma
Loading...