Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2017 · 1 min read

किराये की कोख़

एक कोख़ किराये की
जिसमें पलता है भ्रूण किसी और का
मज़बूरी किसी की भी हो
पालती है नौ महीने तक
सींचती है अपने खून से
भरतीं है उसमें अपनी मज्जा
हर एक पीड़े के साथ
साथ में एक और पीड़ा
जुदाई का बिछड़ने का
कौन समझेगा उसका दर्द
समय के चक्रव्हू मे फँसी
बस नाम की है माँ वो
यह पेट की आग ही थी
जिसकी मार से वह नौ महीने
अपने उदर में दूसरे की आग पालती रही
जलती रही गलती रही और भटकती रही
अज्ञात भय के जंगल में
जिसका वर्णन शब्दातीत है
इस वेदना को समझे कौन?
समय है मौन, समय है मौन
डॉ मनोज कुमार
मोहन नगर गाजियाबाद

Language: Hindi
325 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इम्तहान ना ले मेरी मोहब्बत का,
इम्तहान ना ले मेरी मोहब्बत का,
Radha jha
मौसम का मिजाज़ अलबेला
मौसम का मिजाज़ अलबेला
Buddha Prakash
"कुछ रिश्ते"
Dr. Kishan tandon kranti
सावन भादो
सावन भादो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
न जाने शोख हवाओं ने कैसी
न जाने शोख हवाओं ने कैसी
Anil Mishra Prahari
अनन्त तक चलना होगा...!!!!
अनन्त तक चलना होगा...!!!!
Jyoti Khari
एक शेर
एक शेर
Ravi Prakash
आग लगाते लोग
आग लगाते लोग
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
ख्वाहिशों ठहरो जरा
ख्वाहिशों ठहरो जरा
Satish Srijan
ਰੁੱਤ ਵਸਲ ਮੈਂ ਵੇਖੀ ਨਾ
ਰੁੱਤ ਵਸਲ ਮੈਂ ਵੇਖੀ ਨਾ
Surinder blackpen
रसीले आम
रसीले आम
नूरफातिमा खातून नूरी
भावक की नीयत भी किसी रचना को छोटी बड़ी तो करती ही है, कविता
भावक की नीयत भी किसी रचना को छोटी बड़ी तो करती ही है, कविता
Dr MusafiR BaithA
किसने कहा, ज़िन्दगी आंसुओं में हीं कट जायेगी।
किसने कहा, ज़िन्दगी आंसुओं में हीं कट जायेगी।
Manisha Manjari
The World at a Crossroad: Navigating the Shadows of Violence and Contemplated World War
The World at a Crossroad: Navigating the Shadows of Violence and Contemplated World War
Shyam Sundar Subramanian
मुझको बे'चैनियाँ जगा बैठी
मुझको बे'चैनियाँ जगा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
Loneliness in holi
Loneliness in holi
Ankita Patel
तुम्हें प्यार करते हैं
तुम्हें प्यार करते हैं
Mukesh Kumar Sonkar
भाव तब होता प्रखर है
भाव तब होता प्रखर है
Dr. Meenakshi Sharma
शिव स्तुति
शिव स्तुति
Shivkumar Bilagrami
(साक्षात्कार) प्रमुख तेवरीकार रमेशराज से प्रसिद्ध ग़ज़लकार मधुर नज़्मी की अनौपचारिक बातचीत
(साक्षात्कार) प्रमुख तेवरीकार रमेशराज से प्रसिद्ध ग़ज़लकार मधुर नज़्मी की अनौपचारिक बातचीत
कवि रमेशराज
भीगी फिर थीं भारी रतियाॅं!
भीगी फिर थीं भारी रतियाॅं!
Rashmi Sanjay
■ पांचजन्य के डुप्लीकेट।
■ पांचजन्य के डुप्लीकेट।
*Author प्रणय प्रभात*
मरना बड़ी बात नही जीना बड़ी बात है....
मरना बड़ी बात नही जीना बड़ी बात है....
_सुलेखा.
New light emerges from the depths of experiences, - Desert Fellow Rakesh Yadav
New light emerges from the depths of experiences, - Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
2385.पूर्णिका
2385.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
इम्तिहान
इम्तिहान
AJAY AMITABH SUMAN
दिलों की बात करता है जमाना पर मोहब्बत आज भी चेहरे से शुरू होती है
दिलों की बात करता है जमाना पर मोहब्बत आज भी चेहरे से शुरू होती है"
Vivek Pandey
दुनिया को बचाइए
दुनिया को बचाइए
Shekhar Chandra Mitra
Loading...