Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Apr 2024 · 1 min read

“किताबों में उतारो”

“किताबों में उतारो”
कब्रों में नहीं हमें किताबों में उतारो
सातों दिन चौबीसों घण्टे
हम मोहब्बत की कहानी लिखे हैं..

2 Likes · 2 Comments · 37 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
हारिये न हिम्मत तब तक....
हारिये न हिम्मत तब तक....
कृष्ण मलिक अम्बाला
जैसे एकसे दिखने वाले नमक और चीनी का स्वाद अलग अलग होता है...
जैसे एकसे दिखने वाले नमक और चीनी का स्वाद अलग अलग होता है...
Radhakishan R. Mundhra
एक लम्हा है ज़िन्दगी,
एक लम्हा है ज़िन्दगी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
वृक्ष धरा की धरोहर है
वृक्ष धरा की धरोहर है
Neeraj Agarwal
नज़र चुरा कर
नज़र चुरा कर
Surinder blackpen
दोहा छन्द
दोहा छन्द
नाथ सोनांचली
సమాచార వికాస సమితి
సమాచార వికాస సమితి
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
प्रकृति को जो समझे अपना
प्रकृति को जो समझे अपना
Buddha Prakash
" हवाएं तेज़ चलीं , और घर गिरा के थमी ,
Neelofar Khan
-  मिलकर उससे
- मिलकर उससे
Seema gupta,Alwar
इंसानियत का कोई मजहब नहीं होता।
इंसानियत का कोई मजहब नहीं होता।
Rj Anand Prajapati
"चाँद चलता रहे"
Dr. Kishan tandon kranti
दूरी जरूरी
दूरी जरूरी
Sanjay ' शून्य'
बेचारे नेता
बेचारे नेता
गुमनाम 'बाबा'
कृष्ण कुमार अनंत
कृष्ण कुमार अनंत
Krishna Kumar ANANT
व्यथा पेड़ की
व्यथा पेड़ की
विजय कुमार अग्रवाल
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अहिल्या
अहिल्या
अनूप अम्बर
■आज का सवाल■
■आज का सवाल■
*प्रणय प्रभात*
मोबाइल फोन
मोबाइल फोन
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
छिपकली
छिपकली
Dr Archana Gupta
ज़िंदगी है,
ज़िंदगी है,
पूर्वार्थ
यक्ष प्रश्न
यक्ष प्रश्न
Shyam Sundar Subramanian
*मन राह निहारे हारा*
*मन राह निहारे हारा*
Poonam Matia
आजकल सबसे जल्दी कोई चीज टूटती है!
आजकल सबसे जल्दी कोई चीज टूटती है!
उमेश बैरवा
मैं सोच रही थी...!!
मैं सोच रही थी...!!
Rachana
बाल विवाह
बाल विवाह
Mamta Rani
23/167.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/167.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
श्री राम का अन्तर्द्वन्द
श्री राम का अन्तर्द्वन्द
Paras Nath Jha
यादों को याद करें कितना ?
यादों को याद करें कितना ?
The_dk_poetry
Loading...