Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2023 · 1 min read

💐अज्ञात के प्रति-107💐

कितने पढ़े लिखे हैं लोग हैं हाँ कितने लिखे पढ़े,
उफ़! एतिबार पर भी एतिबार नहीं करते।।

©®अभिषेक: पाराशरः’आनन्द’

Language: Hindi
139 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुस्कानों पर दिल भला,
मुस्कानों पर दिल भला,
sushil sarna
सच तो तस्वीर,
सच तो तस्वीर,
Neeraj Agarwal
■ विडम्बना
■ विडम्बना
*Author प्रणय प्रभात*
इस नदी की जवानी गिरवी है
इस नदी की जवानी गिरवी है
Sandeep Thakur
मैं पलट कर नही देखती अगर ऐसा कहूँगी तो झूठ कहूँगी
मैं पलट कर नही देखती अगर ऐसा कहूँगी तो झूठ कहूँगी
ruby kumari
ये ज़िंदगी.....
ये ज़िंदगी.....
Mamta Rajput
*देना इतना आसान नहीं है*
*देना इतना आसान नहीं है*
Seema Verma
मोहब्बत, हर किसी के साथ में नहीं होती
मोहब्बत, हर किसी के साथ में नहीं होती
Vishal babu (vishu)
चन्द्रमा
चन्द्रमा
Dinesh Kumar Gangwar
गलतियां सुधारी जा सकती है,
गलतियां सुधारी जा सकती है,
Tarun Singh Pawar
शिवाजी गुरु स्वामी समर्थ रामदास – भाग-01
शिवाजी गुरु स्वामी समर्थ रामदास – भाग-01
Sadhavi Sonarkar
जवानी
जवानी
Pratibha Pandey
*मतदान*
*मतदान*
Shashi kala vyas
तेरे हक़ में
तेरे हक़ में
Dr fauzia Naseem shad
तब मानोगे
तब मानोगे
विजय कुमार नामदेव
ठण्डी राख़ - दीपक नीलपदम्
ठण्डी राख़ - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
नीची निगाह से न यूँ नये फ़ित्ने जगाइए ।
नीची निगाह से न यूँ नये फ़ित्ने जगाइए ।
Neelam Sharma
घूँघट के पार
घूँघट के पार
लक्ष्मी सिंह
Y
Y
Rituraj shivem verma
अज़ल से इंतजार किसका है
अज़ल से इंतजार किसका है
Shweta Soni
तुम्हारी निगाहें
तुम्हारी निगाहें
Er. Sanjay Shrivastava
*तोता (बाल कविता)*
*तोता (बाल कविता)*
Ravi Prakash
23/58.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/58.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
छह दिसबंर / MUSAFIR BAITHA
छह दिसबंर / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
Sanjay ' शून्य'
सादगी तो हमारी जरा……देखिए
सादगी तो हमारी जरा……देखिए
shabina. Naaz
मृदुलता ,शालीनता ,शिष्टाचार और लोगों के हमदर्द बनकर हम सम्पू
मृदुलता ,शालीनता ,शिष्टाचार और लोगों के हमदर्द बनकर हम सम्पू
DrLakshman Jha Parimal
रिश्तों में वक्त नहीं है
रिश्तों में वक्त नहीं है
पूर्वार्थ
विश्वपर्यावरण दिवस पर -दोहे
विश्वपर्यावरण दिवस पर -दोहे
डॉक्टर रागिनी
अमृत मयी गंगा जलधारा
अमृत मयी गंगा जलधारा
Ritu Asooja
Loading...