Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2023 · 1 min read

💐अज्ञात के प्रति-107💐

कितने पढ़े लिखे हैं लोग हैं हाँ कितने लिखे पढ़े,
उफ़! एतिबार पर भी एतिबार नहीं करते।।

©®अभिषेक: पाराशरः’आनन्द’

Language: Hindi
59 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रणय निवेदन
प्रणय निवेदन
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
कितना सकून है इन , इंसानों  की कब्र पर आकर
कितना सकून है इन , इंसानों की कब्र पर आकर
श्याम सिंह बिष्ट
■ सामयिक / ज्वलंत प्रश्न
■ सामयिक / ज्वलंत प्रश्न
*Author प्रणय प्रभात*
सुकून की चाबी
सुकून की चाबी
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
खो गई जो किर्ति भारत की उसे वापस दिला दो।
खो गई जो किर्ति भारत की उसे वापस दिला दो।
Prabhu Nath Chaturvedi
कलयुगी धृतराष्ट्र
कलयुगी धृतराष्ट्र
डॉ प्रवीण ठाकुर
अर्जुन धुरंधर न सही ...एकलव्य तो बनना सीख लें ..मौन आखिर कब
अर्जुन धुरंधर न सही ...एकलव्य तो बनना सीख लें ..मौन आखिर कब
DrLakshman Jha Parimal
वक्त से गुज़ारिश
वक्त से गुज़ारिश
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
2281.पूर्णिका
2281.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
राम हमारी आस्था, राम अमिट विश्वास।
राम हमारी आस्था, राम अमिट विश्वास।
डॉ.सीमा अग्रवाल
परिवार
परिवार
Sandeep Pande
रंग हरा सावन का
रंग हरा सावन का
श्री रमण 'श्रीपद्'
Mystery
Mystery
Shyam Sundar Subramanian
वो मेरे दर्द को
वो मेरे दर्द को
Dr fauzia Naseem shad
कद्रदान
कद्रदान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अवसाद का इलाज़
अवसाद का इलाज़
DR ARUN KUMAR SHASTRI
इन वादियों में फिज़ा फिर लौटकर आएगी,
इन वादियों में फिज़ा फिर लौटकर आएगी,
करन मीना ''केसरा''
तुम ये उम्मीद मत रखना मुझसे
तुम ये उम्मीद मत रखना मुझसे
Maroof aalam
प्यासा मन
प्यासा मन
नेताम आर सी
💐प्रेम कौतुक-240💐
💐प्रेम कौतुक-240💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"ऐ जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
छुपाती मीडिया भी है बहुत सरकार की बातें
छुपाती मीडिया भी है बहुत सरकार की बातें
Dr Archana Gupta
तुम्हारा चश्मा
तुम्हारा चश्मा
Dr. Seema Varma
दुनिया इश्क की दरिया में बह गई
दुनिया इश्क की दरिया में बह गई
प्रेमदास वसु सुरेखा
*बेचारे वरिष्ठ नागरिक (हास्य व्यंग्य)*
*बेचारे वरिष्ठ नागरिक (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
फागुन कि फुहार रफ्ता रफ्ता
फागुन कि फुहार रफ्ता रफ्ता
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Kalebs Banjo
Kalebs Banjo
shivanshi2011
हिंदी दिवस
हिंदी दिवस
Vandana Namdev
हिसाब
हिसाब
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
आज की प्रस्तुति - भाग #2
आज की प्रस्तुति - भाग #2
Rajeev Dutta
Loading...