Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Nov 2016 · 1 min read

काव्य से अमृत झरे,वेदका वह सार दें:- जितेंद्र कमल आनंद ( पो १३०)

सरस्वती — वंदना
———————–
काव्यसे अमृत झरे, वेद का वह सार दें!
मॉ मेरी वरदायिनी साधकों को प्यार दें ।

ऑधियों से लड़ सके , भोर तक जो जल सके,
वर्तिका ऐसी सरस दीप को उपहार दें !

काव्य ऐसा रच सकें,तथ्य,लय,रस,छंदमय ,
खिल सके जिससे सुमन, वह सुधा- रसधार दें !

धार से, मँझधार से, पार जाने के लिए,
हो रहीं जर्जर मेरी , नॉव को पतवार दें !

हर समय ह्रदय रहे, यों सुगंधित पुष्प — सा ,
जो कमल मुरझे नहीं, वह सुधारस – धार दें ।
— जितेंद्रकमलआनंद
२-११-१६

Language: Hindi
1 Comment · 332 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कटघरे में कौन?
कटघरे में कौन?
Dr. Kishan tandon kranti
सबके हाथ में तराजू है ।
सबके हाथ में तराजू है ।
Ashwini sharma
***
*** " मनोवृत्ति...!!! ***
VEDANTA PATEL
जब जब तेरा मजाक बनाया जाएगा।
जब जब तेरा मजाक बनाया जाएगा।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
क्या कहें?
क्या कहें?
Srishty Bansal
- दिल का दर्द किसे करे बयां -
- दिल का दर्द किसे करे बयां -
bharat gehlot
औरत और मां
औरत और मां
Surinder blackpen
चंदा मामा (बाल कविता)
चंदा मामा (बाल कविता)
Dr. Kishan Karigar
■ आज का विचार...
■ आज का विचार...
*Author प्रणय प्रभात*
" लोग "
Chunnu Lal Gupta
When you think it's worst
When you think it's worst
Ankita Patel
बाल कविता: जंगल का बाज़ार
बाल कविता: जंगल का बाज़ार
Rajesh Kumar Arjun
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
इक्कीसवीं सदी के सपने... / MUSAFIR BAITHA
इक्कीसवीं सदी के सपने... / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
"निक्कू खरगोश"
Dr Meenu Poonia
घना अंधेरा
घना अंधेरा
Shekhar Chandra Mitra
“SAUDI ARABIA HAS TWO SETS OF TEETH-ONE TO SHOW OFF AND THE OTHER TO CHEW WITH “
“SAUDI ARABIA HAS TWO SETS OF TEETH-ONE TO SHOW OFF AND THE OTHER TO CHEW WITH “
DrLakshman Jha Parimal
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
3024.*पूर्णिका*
3024.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरा देश एक अलग ही रसते पे बढ़ रहा है,
मेरा देश एक अलग ही रसते पे बढ़ रहा है,
नेताम आर सी
इश्क़ इबादत
इश्क़ इबादत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
साहित्य सृजन .....
साहित्य सृजन .....
Awadhesh Kumar Singh
नैनों की भाषा
नैनों की भाषा
Surya Barman
जिस्म से जान निकालूँ कैसे ?
जिस्म से जान निकालूँ कैसे ?
Manju sagar
उनकी ख्यालों की बारिश का भी,
उनकी ख्यालों की बारिश का भी,
manjula chauhan
गुमनाम रहने दो मुझे।
गुमनाम रहने दो मुझे।
Satish Srijan
यदि आप अपनी असफलता से संतुष्ट हैं
यदि आप अपनी असफलता से संतुष्ट हैं
Paras Nath Jha
जो तुम्हारी ख़ामोशी से तुम्हारी तकलीफ का अंदाजा न कर सके उसक
जो तुम्हारी ख़ामोशी से तुम्हारी तकलीफ का अंदाजा न कर सके उसक
ख़ान इशरत परवेज़
गुरुकुल स्थापित हों अगर,
गुरुकुल स्थापित हों अगर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*मुख काला हो गया समूचा, मरण-पाश से लड़ने में (हिंदी गजल)*
*मुख काला हो गया समूचा, मरण-पाश से लड़ने में (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
Loading...