Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Apr 2024 · 1 min read

“काला पानी”

“काला पानी”
कइयों को तोप से उड़ाया गया
कइयों को फाँसी पर लटकाया गया
हजारों यहाँ गर मर गए
‘काला पानी’ शब्द मुहावरा बन गए।

1 Like · 1 Comment · 41 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
दिन  तो  कभी  एक  से  नहीं  होते
दिन तो कभी एक से नहीं होते
shabina. Naaz
" तुम से नज़र मिलीं "
Aarti sirsat
*दीवाली मनाएंगे*
*दीवाली मनाएंगे*
Seema gupta,Alwar
*📌 पिन सारे कागज़ को*
*📌 पिन सारे कागज़ को*
Santosh Shrivastava
नयन प्रेम के बीज हैं,नयन प्रेम -विस्तार ।
नयन प्रेम के बीज हैं,नयन प्रेम -विस्तार ।
डॉक्टर रागिनी
"सुप्रभात "
Yogendra Chaturwedi
माई कहाँ बा
माई कहाँ बा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बेवकूफ
बेवकूफ
Tarkeshwari 'sudhi'
■ चाची 42प का उस्ताद।
■ चाची 42प का उस्ताद।
*Author प्रणय प्रभात*
आज मैं एक नया गीत लिखता हूँ।
आज मैं एक नया गीत लिखता हूँ।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
दे ऐसी स्वर हमें मैया
दे ऐसी स्वर हमें मैया
Basant Bhagawan Roy
अपने साथ तो सब अपना है
अपने साथ तो सब अपना है
Dheerja Sharma
"रंग और पतंग"
Dr. Kishan tandon kranti
मिली पात्रता से अधिक, पचे नहीं सौगात।
मिली पात्रता से अधिक, पचे नहीं सौगात।
डॉ.सीमा अग्रवाल
श्रीराम का पता
श्रीराम का पता
नन्दलाल सुथार "राही"
The life of an ambivert is the toughest. You know why? I'll
The life of an ambivert is the toughest. You know why? I'll
Sukoon
बारिश की बूंदों ने।
बारिश की बूंदों ने।
Taj Mohammad
*अगर आपको चिंता दूर करनी है तो इसका सबसे आसान तरीका है कि लो
*अगर आपको चिंता दूर करनी है तो इसका सबसे आसान तरीका है कि लो
Shashi kala vyas
पत्र गया जीमेल से,
पत्र गया जीमेल से,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आ अब लौट चले
आ अब लौट चले
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
अजी क्षमा हम तो अत्याधुनिक हो गये है
अजी क्षमा हम तो अत्याधुनिक हो गये है
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
हम वो फूल नहीं जो खिले और मुरझा जाएं।
हम वो फूल नहीं जो खिले और मुरझा जाएं।
Phool gufran
घर के आंगन में
घर के आंगन में
Shivkumar Bilagrami
कोई खुशबू
कोई खुशबू
Surinder blackpen
गरीब हैं लापरवाह नहीं
गरीब हैं लापरवाह नहीं
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आज बाजार बन्द है
आज बाजार बन्द है
gurudeenverma198
नवगीत
नवगीत
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
नहीं भुला पाएंगे मां तुमको, जब तक तन में प्राण
नहीं भुला पाएंगे मां तुमको, जब तक तन में प्राण
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हम तुम्हें लिखना
हम तुम्हें लिखना
Dr fauzia Naseem shad
"प्यार के दीप" गजल-संग्रह और उसके रचयिता ओंकार सिंह ओंकार
Ravi Prakash
Loading...