Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jun 2023 · 1 min read

“कारोबार”

“कारोबार”
दिन-ब-दिन खत्म हो रहा
फोटुओं का कारोबार,
अब हो चली हर जगह
मोबाइल की भरमार।
आज हर एंगल की फोटुएँ
सोशल मीडिया पर
लुभाते हुए दिख जाती है,
जो इंसानी जिस्म की
सारी हुलिया बता जाती है।

5 Likes · 5 Comments · 248 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
2517.पूर्णिका
2517.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
छोटी- छोटी प्रस्तुतियों को भी लोग पढ़ते नहीं हैं, फिर फेसबूक
छोटी- छोटी प्रस्तुतियों को भी लोग पढ़ते नहीं हैं, फिर फेसबूक
DrLakshman Jha Parimal
*लोग क्या थे देखते ही, देखते क्या हो गए( हिंदी गजल/गीतिका
*लोग क्या थे देखते ही, देखते क्या हो गए( हिंदी गजल/गीतिका
Ravi Prakash
Dad's Tales of Yore
Dad's Tales of Yore
Natasha Stephen
रणक्षेत्र बना अब, युवा उबाल
रणक्षेत्र बना अब, युवा उबाल
प्रेमदास वसु सुरेखा
* मन में कोई बात न रखना *
* मन में कोई बात न रखना *
surenderpal vaidya
" परदेशी पिया "
Pushpraj Anant
बता तुम ही सांवरिया मेरे,
बता तुम ही सांवरिया मेरे,
Radha jha
#मसखरी...
#मसखरी...
*Author प्रणय प्रभात*
क्या सोचूं मैं तेरे बारे में
क्या सोचूं मैं तेरे बारे में
gurudeenverma198
प्रमेय
प्रमेय
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मौसम जब भी बहुत सर्द होता है
मौसम जब भी बहुत सर्द होता है
Ajay Mishra
सकारात्मक सोच
सकारात्मक सोच
Dr fauzia Naseem shad
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
कभी उन बहनों को ना सताना जिनके माँ पिता साथ छोड़ गये हो।
कभी उन बहनों को ना सताना जिनके माँ पिता साथ छोड़ गये हो।
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
🪷पुष्प🪷
🪷पुष्प🪷
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
मुक्तक-विन्यास में एक तेवरी
मुक्तक-विन्यास में एक तेवरी
कवि रमेशराज
मै शहर में गाँव खोजता रह गया   ।
मै शहर में गाँव खोजता रह गया ।
CA Amit Kumar
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
दिये को रोशननाने में रात लग गई
दिये को रोशननाने में रात लग गई
कवि दीपक बवेजा
व्यथा दिल की
व्यथा दिल की
Devesh Bharadwaj
तुम्हारे दीदार की तमन्ना
तुम्हारे दीदार की तमन्ना
Anis Shah
वाराणसी की गलियां
वाराणसी की गलियां
PRATIK JANGID
साजिशन दुश्मन की हर बात मान लेता है
साजिशन दुश्मन की हर बात मान लेता है
Maroof aalam
धरती
धरती
manjula chauhan
लालची नेता बंटता समाज
लालची नेता बंटता समाज
विजय कुमार अग्रवाल
गांव में छुट्टियां
गांव में छुट्टियां
Manu Vashistha
मेरा नाम
मेरा नाम
Yash mehra
"सरकस"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...