Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jan 2024 · 1 min read

कहाँ है मुझको किसी से प्यार

मैंने कमाई है यह दौलत,
ताकि मुझको कभी नहीं हो कमी,
किसी चीज की अपने लिए,
और खरीद संकू हर चीज जरूरत की।

यह महल जो बनाया है मैंने
सिर्फ अपने आराम के लिए,
ताकि कोई मुझको कह नहीं सके,
कभी भी मुफ़लिस और तुच्छ,
और जी सकूं जिंदगी अमीरों सी।

किया है मैंने यहाँ प्यार भी,
लेकिन किसी एक से ही नहीं,
और निभाई नहीं वफ़ा किसी से भी,
बदली है मैंने अपनी जुबां बार बार,
बुझाने को अपने तन की प्यास को।

लिखता रहा हूँ अब तक मैं,
अपने वतन और चमन की तारीफ,
देता रहा हूँ सभी को नसीहत,
अपने वतन के लिए कुर्बान होने की,
लेकिन बांटी नहीं मैंने कभी भी,
अपनी ख़ुशी और दौलत किसी को,
की है कोशिश हमेशा खुद को बचाने की,
कहाँ है मुझको प्यार किसी से।

शिक्षक एवं साहित्यकार
गुरूदीन वर्मा उर्फ़ जी. आज़ाद
तहसील एवं जिला – बारां (राजस्थान)

Language: Hindi
141 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Sadiyo purani aas thi tujhe pane ki ,
Sadiyo purani aas thi tujhe pane ki ,
Sakshi Tripathi
पत्थर
पत्थर
manjula chauhan
👌
👌
*Author प्रणय प्रभात*
अपनी क्षमता का पूर्ण प्रयोग नहीं कर पाना ही इस दुनिया में सब
अपनी क्षमता का पूर्ण प्रयोग नहीं कर पाना ही इस दुनिया में सब
Paras Nath Jha
योग
योग
लक्ष्मी सिंह
हिन्दी दोहा-पत्नी
हिन्दी दोहा-पत्नी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मै हिन्दी का शब्द हूं, तू गणित का सवाल प्रिये.
मै हिन्दी का शब्द हूं, तू गणित का सवाल प्रिये.
Vishal babu (vishu)
जिस के नज़र में पूरी दुनिया गलत है ?
जिस के नज़र में पूरी दुनिया गलत है ?
Sandeep Mishra
तंग गलियों में मेरे सामने, तू आये ना कभी।
तंग गलियों में मेरे सामने, तू आये ना कभी।
Manisha Manjari
मै भटकता ही रहा दश्त ए शनासाई में
मै भटकता ही रहा दश्त ए शनासाई में
Anis Shah
🌹🌹🌹शुभ दिवाली🌹🌹🌹
🌹🌹🌹शुभ दिवाली🌹🌹🌹
umesh mehra
हरे भरे खेत
हरे भरे खेत
जगदीश लववंशी
शहीदों के लिए (कविता)
शहीदों के लिए (कविता)
दुष्यन्त 'बाबा'
सकारात्मक पुष्टि
सकारात्मक पुष्टि
पूर्वार्थ
राम समर्पित रहे अवध में,
राम समर्पित रहे अवध में,
Sanjay ' शून्य'
गुम लफ्ज़
गुम लफ्ज़
Akib Javed
शिक्षा
शिक्षा
Neeraj Agarwal
23/96.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/96.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
राधे राधे happy Holi
राधे राधे happy Holi
साहित्य गौरव
भय भव भंजक
भय भव भंजक
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ओमप्रकाश वाल्मीकि : व्यक्तित्व एवं कृतित्व
ओमप्रकाश वाल्मीकि : व्यक्तित्व एवं कृतित्व
Dr. Narendra Valmiki
बेशक ! बसंत आने की, खुशी मनाया जाए
बेशक ! बसंत आने की, खुशी मनाया जाए
Keshav kishor Kumar
माँ जब भी दुआएं देती है
माँ जब भी दुआएं देती है
Bhupendra Rawat
सुरक्षा कवच
सुरक्षा कवच
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वन उपवन हरित खेत क्यारी में
वन उपवन हरित खेत क्यारी में
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
छोड दो उनको उन के हाल पे.......अब
छोड दो उनको उन के हाल पे.......अब
shabina. Naaz
*धारा सत्तर तीन सौ, अब अतीत का काल (कुंडलिया)*
*धारा सत्तर तीन सौ, अब अतीत का काल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
वो दो साल जिंदगी के (2010-2012)
वो दो साल जिंदगी के (2010-2012)
Shyam Pandey
बीज और विचित्रताओं पर कुछ बात
बीज और विचित्रताओं पर कुछ बात
Dr MusafiR BaithA
कविता
कविता
Rambali Mishra
Loading...