Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Oct 2016 · 1 min read

कविता – जलायें दिये पर रहे ध्यान इतना

जलायें दिये पर रहे ध्यान इतना ,
हरकोई मिट्टी वाले दीपक जलाये ।
भगाये अंधेरा सम्पूर्ण धरा का ,
मगर दिलों में अंधेरा रहने न पाये ।। जलायें……
खरीदें न सामन एक भी विदेशी ,
समृद्ध करें देश खरीदकर स्वदेशी ।
जिससे मने गरीब की भी दिवाली ,
देश का धन न लेजा पाये परदेशी ।
देश का धन देश के काम आये ।। जलायें ……..
चलायें पटाखे बड़े ध्यान से हम ,
मनायें दिवाली स्वाभिमान से हम ।
मिठाई खील खिलौने सब खूब खायें ,
माँ लक्ष्मी जी को पूजें सम्मान से हम ।
करें कुछ ऐसा खुशियाँ हर कोई मनाये ।। जलायें……….. *दीपावली की सभी को अग्रिम बधाईयाँ *
निवेदक :- डाँ तेज स्वरूप भारद्वाज

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 342 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
समस्या
समस्या
Paras Nath Jha
नींद की कुंजी / MUSAFIR BAITHA
नींद की कुंजी / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
दिल्ली चलें सब साथ
दिल्ली चलें सब साथ
नूरफातिमा खातून नूरी
लोधी क्षत्रिय वंश
लोधी क्षत्रिय वंश
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
"सुनो तो"
Dr. Kishan tandon kranti
ज्ञानमय
ज्ञानमय
Pt. Brajesh Kumar Nayak
आफ़ताब
आफ़ताब
Atul "Krishn"
Tum bina bole hi sab kah gye ,
Tum bina bole hi sab kah gye ,
Sakshi Tripathi
"रात का मिलन"
Ekta chitrangini
गौरी।
गौरी।
Acharya Rama Nand Mandal
अकेलापन
अकेलापन
Neeraj Agarwal
3049.*पूर्णिका*
3049.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
!! रे, मन !!
!! रे, मन !!
Chunnu Lal Gupta
हम मुहब्बत कर रहे थे........
हम मुहब्बत कर रहे थे........
shabina. Naaz
दिल जानता है दिल की व्यथा क्या है
दिल जानता है दिल की व्यथा क्या है
कवि दीपक बवेजा
जुते की पुकार
जुते की पुकार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
*
*"गुरू पूर्णिमा"*
Shashi kala vyas
व्यंग्य कविता-
व्यंग्य कविता- "गणतंत्र समारोह।" आनंद शर्मा
Anand Sharma
शुभम दुष्यंत राणा Shubham Dushyant Rana जिनका जीवन समर्पित है जनसेवा के लिए आखिर कौन है शुभम दुष्यंत राणा Shubham Dushyant Rana ?
शुभम दुष्यंत राणा Shubham Dushyant Rana जिनका जीवन समर्पित है जनसेवा के लिए आखिर कौन है शुभम दुष्यंत राणा Shubham Dushyant Rana ?
Bramhastra sahityapedia
लाखों रावण पहुंच गए हैं,
लाखों रावण पहुंच गए हैं,
Pramila sultan
बाजार से सब कुछ मिल जाता है,
बाजार से सब कुछ मिल जाता है,
Shubham Pandey (S P)
I
I
Ranjeet kumar patre
दोहा
दोहा
sushil sarna
* बुढ़ापा आ गया वरना, कभी स्वर्णिम जवानी थी【मुक्तक】*
* बुढ़ापा आ गया वरना, कभी स्वर्णिम जवानी थी【मुक्तक】*
Ravi Prakash
* विजयदशमी मनाएं हम *
* विजयदशमी मनाएं हम *
surenderpal vaidya
आलोचना - अधिकार या कर्तव्य ? - शिवकुमार बिलगरामी
आलोचना - अधिकार या कर्तव्य ? - शिवकुमार बिलगरामी
Shivkumar Bilagrami
Irritable Bowel Syndrome
Irritable Bowel Syndrome
Tushar Jagawat
मोहे हिंदी भाये
मोहे हिंदी भाये
Satish Srijan
शुभ_रात्रि
शुभ_रात्रि
*Author प्रणय प्रभात*
अटल-अवलोकन
अटल-अवलोकन
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
Loading...