Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 May 2024 · 1 min read

कविता के प्रेरणादायक शब्द ही सन्देश हैं।

कोशिश कर, हल निकलेगा ,
आज नहीं तो, कल निकलेगा.
अर्जुन के तीर सा सध जा,
मरूस्थल से भी जल निकलेगा |

मेहनत कर, पौधों को पानी दे,
बंजर जमीन से भी फल निकलेगा |
ताकत जुटा, हिम्मत को आग दे,
फ़ौलाद सा ही बल निकलेगा |

जिंदा रख, दिल में उम्मीदों को,
गरल के समंदर से भी गंगाजल निकलेगा |
कोशिशें जारी रख कुछ कर गुजरने की,
जो है आज थमा-थमा सा, चल निकलेगा |

गति प्रबल पैरों में भरी,फिर क्यों रहूं दर दर खड़ा,
जब आज मेरे सामने,है रास्ता इतना पड़ा |
जब तक मंजिल न पा सकूं,
तब तक मुझे न विराम है,
सतत चलना हमारा काम है |

Language: Hindi
40 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
View all
You may also like:
*चलती का नाम गाड़ी* 【 _कुंडलिया_ 】
*चलती का नाम गाड़ी* 【 _कुंडलिया_ 】
Ravi Prakash
शहीद की अंतिम यात्रा
शहीद की अंतिम यात्रा
Nishant Kumar Mishra
चीजें खुद से नहीं होती, उन्हें करना पड़ता है,
चीजें खुद से नहीं होती, उन्हें करना पड़ता है,
Sunil Maheshwari
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
राम कहने से तर जाएगा
राम कहने से तर जाएगा
Vishnu Prasad 'panchotiya'
जिद बापू की
जिद बापू की
Ghanshyam Poddar
16, खुश रहना चाहिए
16, खुश रहना चाहिए
Dr Shweta sood
तेरी हुसन ए कशिश  हमें जीने नहीं देती ,
तेरी हुसन ए कशिश हमें जीने नहीं देती ,
Umender kumar
बलबीर
बलबीर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
‘बेटी की विदाई’
‘बेटी की विदाई’
पंकज कुमार कर्ण
औरत की अभिलाषा
औरत की अभिलाषा
Rachana
शौक-ए-आदम
शौक-ए-आदम
AJAY AMITABH SUMAN
जिस दिन हम ज़मी पर आये ये आसमाँ भी खूब रोया था,
जिस दिन हम ज़मी पर आये ये आसमाँ भी खूब रोया था,
Ranjeet kumar patre
"अजब-गजब मोहब्बतें"
Dr. Kishan tandon kranti
हम ख़फ़ा हो
हम ख़फ़ा हो
Dr fauzia Naseem shad
रमेशराज के विरोधरस के गीत
रमेशराज के विरोधरस के गीत
कवि रमेशराज
फोन:-एक श्रृंगार
फोन:-एक श्रृंगार
पूर्वार्थ
आज  मेरा कल तेरा है
आज मेरा कल तेरा है
Harminder Kaur
#बड़ा_सच-
#बड़ा_सच-
*प्रणय प्रभात*
वर्तमान समय में संस्कार और सभ्यता मर चुकी है
वर्तमान समय में संस्कार और सभ्यता मर चुकी है
प्रेमदास वसु सुरेखा
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
संस्कार संस्कृति सभ्यता
संस्कार संस्कृति सभ्यता
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
भ्रष्टाचार
भ्रष्टाचार
Paras Nath Jha
झूम मस्ती में झूम
झूम मस्ती में झूम
gurudeenverma198
दर्द ....
दर्द ....
sushil sarna
हार पर प्रहार कर
हार पर प्रहार कर
Saransh Singh 'Priyam'
मैं सफ़र मे हूं
मैं सफ़र मे हूं
Shashank Mishra
3395⚘ *पूर्णिका* ⚘
3395⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
किताब कहीं खो गया
किताब कहीं खो गया
Shweta Soni
Finding alternative  is not as difficult as becoming alterna
Finding alternative is not as difficult as becoming alterna
Sakshi Tripathi
Loading...