Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Aug 2016 · 1 min read

कभी कोई कभी कोई

जलाता है बुझाता है कभी कोई कभी कोई।
मेरी हस्ती मिटाता है कभी कोई कभी कोई।।1

बुरा चाहा नहीं मैनें जहाँ में तो किसी का भी।
मुझे क्यूं आजमाता है कभी कोई कभी कोई।।2

नहीं भाता मुझे सँग झूठ का देना मगर मुझसे।
हकीकत को छुपाता है कभी कोई कभी कोई।।3

मेरा अपना नहीं कोई शहर सारा बे’गाना है।
मगर अपना बताता है कभी कोई कभी कोई।।4

सभी यह जानते हैं हूँ यहाँ निर्दोष मैं लेकिन।
सजा मुझको दिलाता है कभी कोई कभी कोई।।5

हजारों ख्वाब आंखों को दिखाकर एक ही पल में।
उन्हे फिर तोड़ जाता है कभी कोई कभी कोई।।6

नियम अच्छा नहीं लगता सियासत का यही मुझको।
यहाँ सच को दबाता है कभी कोई कभी कोई।।7

यही दस्तूर भारत का हमेशा से रहा यारो।
वतन पर जां लुटाता है कभी कोई कभी कोई।।8

बढे़ं जब पाप धरती पर चलें बस जुल्म की आंधी।
यहाँ अवतार आता है कभी कोई कभी कोई।।9

विवेकानंद स्वामी बन कभी बन बुद्ध के जैसा।
कि मानवता बचाता है कभी कोई कभी कोई।।10

प्रदीप कुमार “प्रदीप”

1 Comment · 486 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*झगड़े में पड़ी फिक्र तो, इंसान की पड़ी (हिंदी गजल/ गीतिका )*
*झगड़े में पड़ी फिक्र तो, इंसान की पड़ी (हिंदी गजल/ गीतिका )*
Ravi Prakash
कल सबको पता चल जाएगा
कल सबको पता चल जाएगा
MSW Sunil SainiCENA
इस जग में हैं हम सब साथी
इस जग में हैं हम सब साथी
Suryakant Dwivedi
कविता बाजार
कविता बाजार
साहित्य गौरव
प्रतिश्रुति
प्रतिश्रुति
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जाग री सखि
जाग री सखि
Arti Bhadauria
हिम्मत है तो मेरे साथ चलो!
हिम्मत है तो मेरे साथ चलो!
विमला महरिया मौज
एक रूपक ज़िन्दगी का,
एक रूपक ज़िन्दगी का,
Radha shukla
बेरूख़ी के मार से गुलिस्ताँ बंजर होते गए,
बेरूख़ी के मार से गुलिस्ताँ बंजर होते गए,
_सुलेखा.
भ्रात प्रेम का रूप है,
भ्रात प्रेम का रूप है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्यार नहीं दे पाऊँगा
प्यार नहीं दे पाऊँगा
Kaushal Kumar Pandey आस
💐अज्ञात के प्रति-36💐
💐अज्ञात के प्रति-36💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जो दिल दरिया था उसे पत्थर कर लिया।
जो दिल दरिया था उसे पत्थर कर लिया।
Neelam Sharma
# महुआ के फूल ......
# महुआ के फूल ......
Chinta netam " मन "
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
"गाली"
Dr. Kishan tandon kranti
तुम्हें आती नहीं क्या याद की  हिचकी..!
तुम्हें आती नहीं क्या याद की हिचकी..!
Ranjana Verma
"सुप्रभात"
Yogendra Chaturwedi
कैसे?
कैसे?
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
* राह चुनने का समय *
* राह चुनने का समय *
surenderpal vaidya
Bundeli Doha pratiyogita 142
Bundeli Doha pratiyogita 142
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
■ शर्म भी कर लो।
■ शर्म भी कर लो।
*Author प्रणय प्रभात*
तू भी तो
तू भी तो
gurudeenverma198
एक साहसी पत्रकार
एक साहसी पत्रकार
Shekhar Chandra Mitra
बँटवारा
बँटवारा
Shriyansh Gupta
पाकर तुझको हम जिन्दगी का हर गम भुला बैठे है।
पाकर तुझको हम जिन्दगी का हर गम भुला बैठे है।
Taj Mohammad
काले काले बादल आयें
काले काले बादल आयें
Chunnu Lal Gupta
पीड़ा की मूकता को
पीड़ा की मूकता को
Dr fauzia Naseem shad
पहले देखें, सोचें,पढ़ें और मनन करें,
पहले देखें, सोचें,पढ़ें और मनन करें,
DrLakshman Jha Parimal
परवाना ।
परवाना ।
Anil Mishra Prahari
Loading...