Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Apr 2024 · 1 min read

कन्या

कन्या शब्द नहीं,आधार है !
बिन जिस अपूर्ण परिवार है!!
सनातन संस्कृति में देवी है!
संपूर्ण परिवार की ये सेवी है!!
हंसते हंसते उत्तरदायित्व निर्वहन्
पर कभी शिकन नहीं देखी है!!
संपूर्ण परिवार की यही अस्मिता,
जो स्वयम् लक्ष्मी स्वरूपा देवी है!!
नौ रूप वर्णित है शlस्त्रों में जिस्के,
उनका स्मरन सौभाग्य के लेखी है!!

1 Like · 52 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Bodhisatva kastooriya
View all
You may also like:
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी।
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी।
सत्य कुमार प्रेमी
क्या पता...... ?
क्या पता...... ?
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
इश्क की पहली शर्त
इश्क की पहली शर्त
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
तन्हाई को तोड़ कर,
तन्हाई को तोड़ कर,
sushil sarna
प्रेम की साधना (एक सच्ची प्रेमकथा पर आधारित)
प्रेम की साधना (एक सच्ची प्रेमकथा पर आधारित)
दुष्यन्त 'बाबा'
पहला प्यार नहीं बदला...!!
पहला प्यार नहीं बदला...!!
Ravi Betulwala
प्यासी कली
प्यासी कली
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
छल
छल
गौरव बाबा
हर एक ईट से उम्मीद लगाई जाती है
हर एक ईट से उम्मीद लगाई जाती है
कवि दीपक बवेजा
जगमगाती चाँदनी है इस शहर में
जगमगाती चाँदनी है इस शहर में
Dr Archana Gupta
रफ़्ता -रफ़्ता पलटिए पन्ने तार्रुफ़ के,
रफ़्ता -रफ़्ता पलटिए पन्ने तार्रुफ़ के,
ओसमणी साहू 'ओश'
"मधुर स्मृतियों में"
Dr. Kishan tandon kranti
कंठ तक जल में गड़ा, पर मुस्कुराता है कमल ।
कंठ तक जल में गड़ा, पर मुस्कुराता है कमल ।
Satyaveer vaishnav
गुलाब दिवस ( रोज डे )🌹
गुलाब दिवस ( रोज डे )🌹
Surya Barman
जब काँटों में फूल उगा देखा
जब काँटों में फूल उगा देखा
VINOD CHAUHAN
ईश्वर से ...
ईश्वर से ...
Sangeeta Beniwal
1
1
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
*कैसे हम आज़ाद हैं?*
*कैसे हम आज़ाद हैं?*
Dushyant Kumar
#महसूस_करें...
#महसूस_करें...
*Author प्रणय प्रभात*
Jeevan ka saar
Jeevan ka saar
Tushar Jagawat
5 हिन्दी दोहा बिषय- विकार
5 हिन्दी दोहा बिषय- विकार
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*पार्क (बाल कविता)*
*पार्क (बाल कविता)*
Ravi Prakash
प्रकाश पर्व
प्रकाश पर्व
Shashi kala vyas
2687.*पूर्णिका*
2687.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
लाला अमरनाथ
लाला अमरनाथ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सम्बन्ध
सम्बन्ध
Shaily
#डॉ अरुण कुमार शास्त्री
#डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खुश रहने वाले गांव और गरीबी में खुश रह लेते हैं दुःख का रोना
खुश रहने वाले गांव और गरीबी में खुश रह लेते हैं दुःख का रोना
Ranjeet kumar patre
*शिवाजी का आह्वान*
*शिवाजी का आह्वान*
कवि अनिल कुमार पँचोली
शीर्षक-मिलती है जिन्दगी में मुहब्बत कभी-कभी
शीर्षक-मिलती है जिन्दगी में मुहब्बत कभी-कभी
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Loading...