Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jan 2024 · 1 min read

ओ अच्छा मुस्कराती है वो फिर से रोने के बाद /लवकुश यादव “अज़ल”

बड़ी मासूम सी लगती है हर रात सोने के बाद,
ओ अच्छा मुस्कराती है वो फिर से रोने के बाद।
आंखे ऐसी की समंदर खुद में समेट रखा हो जैसे,
देखेंगे कितने सोमवार करती है मेरा होने के बाद।।

रेशमी जुल्फों का पहरा बादलो की घटा जैसा है,
फूल खिल उठते हैं उसके सिर्फ मुस्कराने के बाद।
चहक उठता है बगीचा मेरा उसके दस्तक के साथ,
बसन्त आ जाता है हमारे शहर उसके हंसने के बाद।।

सभी पलकें बिछाएं रहते हैं प्रीत प्रेम के बाग में,
माली रखवाली करता है इस सुनहरे बाग में।
बड़ी मासूम सी लगती है हर रात सोने के बाद,
ओ अच्छा मुस्कराती है वो फिर से रोने के बाद।।

अज़ल ने किया है एक इशारा अपनी कलम से,
रहती है हमेशा जिगर धड़कन के कितने पास में।
चहक उठता है बगीचा मेरा उसके दस्तक के साथ,
बसन्त आ जाता है हमारे शहर उसके हंसने के बाद।।

लवकुश यादव “अज़ल”
अमेठी, उत्तर प्रदेश

1 Like · 127 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुझे इस दुनिया ने सिखाया अदाबत करना।
मुझे इस दुनिया ने सिखाया अदाबत करना।
Phool gufran
शिक्षक हूँ  शिक्षक ही रहूँगा
शिक्षक हूँ शिक्षक ही रहूँगा
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
-- आधे की हकदार पत्नी --
-- आधे की हकदार पत्नी --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
जो न कभी करते हैं क्रंदन, भले भोगते भोग
जो न कभी करते हैं क्रंदन, भले भोगते भोग
महेश चन्द्र त्रिपाठी
जैसे आँखों को
जैसे आँखों को
Shweta Soni
डर एवं डगर
डर एवं डगर
Astuti Kumari
"सपना"
Dr. Kishan tandon kranti
बघेली कविता -
बघेली कविता -
Priyanshu Kushwaha
Feeling of a Female
Feeling of a Female
Rachana
जरूरी नहीं की हर जख़्म खंजर ही दे
जरूरी नहीं की हर जख़्म खंजर ही दे
Gouri tiwari
मुख अटल मधुरता, श्रेष्ठ सृजनता, मुदित मधुर मुस्कान।
मुख अटल मधुरता, श्रेष्ठ सृजनता, मुदित मधुर मुस्कान।
रेखा कापसे
जिंदगी
जिंदगी
Neeraj Agarwal
ऐ भगतसिंह तुम जिंदा हो हर एक के लहु में
ऐ भगतसिंह तुम जिंदा हो हर एक के लहु में
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
अगर आपको किसी से कोई समस्या नहीं है तो इसमें कोई समस्या ही न
अगर आपको किसी से कोई समस्या नहीं है तो इसमें कोई समस्या ही न
Sonam Puneet Dubey
मास्टरजी ज्ञानों का दाता
मास्टरजी ज्ञानों का दाता
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आइन-ए-अल्फाज
आइन-ए-अल्फाज
AJAY AMITABH SUMAN
चुभती है रौशनी
चुभती है रौशनी
Dr fauzia Naseem shad
नाबालिक बच्चा पेट के लिए काम करे
नाबालिक बच्चा पेट के लिए काम करे
शेखर सिंह
गिरमिटिया मजदूर
गिरमिटिया मजदूर
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
चलो♥️
चलो♥️
Srishty Bansal
पते की बात - दीपक नीलपदम्
पते की बात - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
गज़ल सी कविता
गज़ल सी कविता
Kanchan Khanna
बाल कविता: तोता
बाल कविता: तोता
Rajesh Kumar Arjun
2509.पूर्णिका
2509.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
माँ
माँ
लक्ष्मी सिंह
ताश के महल अब हम बनाते नहीं
ताश के महल अब हम बनाते नहीं
इंजी. संजय श्रीवास्तव
खुश-आमदीद आपका, वल्लाह हुई दीद
खुश-आमदीद आपका, वल्लाह हुई दीद
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ग़ज़ल(नाम तेरा रेत पर लिखते लिखाते रह गये)
ग़ज़ल(नाम तेरा रेत पर लिखते लिखाते रह गये)
डॉक्टर रागिनी
स्मृति ओहिना हियमे-- विद्यानन्द सिंह
स्मृति ओहिना हियमे-- विद्यानन्द सिंह
श्रीहर्ष आचार्य
रंग जीवन के
रंग जीवन के
kumar Deepak "Mani"
Loading...