Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Mar 2024 · 1 min read

एहसास

मौसम भी दो तरह
का होता है
बाहर का मौसम
भीतर का मौसम

बाहर का मौसम
यानि –
हवा, पानी, बादल
बरसात, पंछी
और बहुत कुछ

भीतर का मौसम
यानि
भावनाएँ, विचार,
सपने, सोच
और ऐसा ही सब कुछ

मगर एक चीज जो
दोनों को जोड़ती है
वह है एहसास

बिना एहसास के
कोई मौसम खुशी नहीं देता
न बाहर का
न भीतर का

रचनाकार :- कंचन खन्ना,
मुरादाबाद, (उ०प्र०, भारत) ।

Language: Hindi
64 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kanchan Khanna
View all
You may also like:
दरख़्त और व्यक्तित्व
दरख़्त और व्यक्तित्व
Dr Parveen Thakur
पर दारू तुम ना छोड़े
पर दारू तुम ना छोड़े
Mukesh Srivastava
शायद मेरी क़िस्मत में ही लिक्खा था ठोकर खाना
शायद मेरी क़िस्मत में ही लिक्खा था ठोकर खाना
Shweta Soni
समस्या
समस्या
Paras Nath Jha
Childhood is rich and adulthood is poor.
Childhood is rich and adulthood is poor.
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जीवन एक संगीत है | इसे जीने की धुन जितनी मधुर होगी , जिन्दगी
जीवन एक संगीत है | इसे जीने की धुन जितनी मधुर होगी , जिन्दगी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अनसोई कविता............
अनसोई कविता............
sushil sarna
छाती पर पत्थर /
छाती पर पत्थर /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
झंझा झकोरती पेड़ों को, पर्वत निष्कम्प बने रहते।
झंझा झकोरती पेड़ों को, पर्वत निष्कम्प बने रहते।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
रस्म ए उल्फत भी बार -बार शिद्दत से
रस्म ए उल्फत भी बार -बार शिद्दत से
AmanTv Editor In Chief
महामोदकारी छंद (क्रीड़ाचक्र छंद ) (18 वर्ण)
महामोदकारी छंद (क्रीड़ाचक्र छंद ) (18 वर्ण)
Subhash Singhai
चिराग़ ए अलादीन
चिराग़ ए अलादीन
Sandeep Pande
21वीं सदी और भारतीय युवा
21वीं सदी और भारतीय युवा
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
बैठाया था जब अपने आंचल में उसने।
बैठाया था जब अपने आंचल में उसने।
Phool gufran
परमेश्वर का प्यार
परमेश्वर का प्यार
ओंकार मिश्र
हजारों मील चल करके मैं अपना घर पाया।
हजारों मील चल करके मैं अपना घर पाया।
Sanjay ' शून्य'
आया तीजो का त्यौहार
आया तीजो का त्यौहार
Ram Krishan Rastogi
क्या....
क्या....
हिमांशु Kulshrestha
चुभे  खार  सोना  गँवारा किया
चुभे खार सोना गँवारा किया
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
महिला दिवस
महिला दिवस
Dr.Pratibha Prakash
हिंदी में सबसे बड़ा , बिंदी का है खेल (कुंडलिया)
हिंदी में सबसे बड़ा , बिंदी का है खेल (कुंडलिया)
Ravi Prakash
पुजारी शांति के हम, जंग को भी हमने जाना है।
पुजारी शांति के हम, जंग को भी हमने जाना है।
सत्य कुमार प्रेमी
बाक़ी है..!
बाक़ी है..!
Srishty Bansal
दिल का दर्द💔🥺
दिल का दर्द💔🥺
$úDhÁ MãÚ₹Yá
23/125.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/125.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
(दम)
(दम)
महेश कुमार (हरियाणवी)
समाज मे अविवाहित स्त्रियों को शिक्षा की आवश्यकता है ना कि उप
समाज मे अविवाहित स्त्रियों को शिक्षा की आवश्यकता है ना कि उप
शेखर सिंह
दिल आइना
दिल आइना
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
क्या वैसी हो सच में तुम
क्या वैसी हो सच में तुम
gurudeenverma198
प्यार का इम्तेहान
प्यार का इम्तेहान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...