Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#11 Trending Author

एक मुर्गी की दर्द भरी दास्तां

खुदा करे तुम भी उसी खौफ से जिओ,
जिस खौफ से दिन रात मैं जीती हूं ।
एक पिंजरे में बंद अपने साथियों के साथ ,
ठूस ठूस के ऐसी बुरी तरह से जाती हूं ।
जैसे एक बोरे में राशन भर दिया जाता है ,
वैसे मैं तुम्हारी नज़र में राशन ही समझी जाती हूं ।
मैं तुम्हारी नज़र में भोजन के सिवा कुछ भी नहीं,
तुम समझते नहीं ,या समझना ही नही चाहते ,
मुझ में भी है जान , मैं भी एक प्राणी जीवित हूं ।
मगर तुम्हें क्या ! तुमने पिंजरे से निकाला ,
बेदर्दी से मेरी गर्दन पकड़ी और फिर खच्छ !!
कुछ इस खौफनाक तरीके से मैं मारी जाती हूं ।
यूं ही मौत के घाट मेरे साथियों को उतारा जाता है।
एक एक करके हमारा पार्थिव शरीर टुकड़ों में ,
तुम्हारे घर की रसोइयों में गोश्त रूप में पकता है ।
और थालियों में परोसकर स्वाद से खाया जाता है ।
खुदा करे तुम्हें भी ऐसी दर्द भरी मौत मिले ,
क्योंकि बेचने वाले से खरीदने वाला कम दोषी नहीं।
गर नहीं छोड़ा हमारे कत्ल के सिलसिले को ,
तो यह तुम पर एक दिन कयामत बनकर टूटेगा।
मैं मुर्गी एक बेजुबान ,कमजोर जीव ,बड़े दुखी मन से,
सिर्फ स्वाद के लिए हमारा खून करने वालों को ,
बद्दुआ देती हूं ।

1 Like · 2 Comments · 101 Views
You may also like:
बुलबुला
मनोज शर्मा
सुबह
AMRESH KUMAR VERMA
रेत समाधि : एक अध्ययन
Ravi Prakash
💐आत्म साक्षात्कार💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मुझे चाहत हैं तेरी.....
Dr. Alpa H. Amin
पाकीज़ा इश्क़
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️दरिया और समंदर✍️
"अशांत" शेखर
ग्रीष्म ऋतु भाग ३
Vishnu Prasad 'panchotiya'
माँ की महिमाँ
Dr. Alpa H. Amin
गंगा माँ
Anamika Singh
शासन वही करता है
gurudeenverma198
Sweet Chocolate
Buddha Prakash
'आप नहीं आएंगे अब पापा'
alkaagarwal.ag
महापंडित ठाकुर टीकाराम
श्रीहर्ष आचार्य
बोलती आँखे...
मनोज कर्ण
नहीं बचेगी जल विन मीन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
छंदानुगामिनी( गीतिका संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
" सरोज "
Dr Meenu Poonia
💐ये मेरी आशिकी💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
धन-दौलत
AMRESH KUMAR VERMA
वक्त अब कलुआ के घर का ठौर है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
💐मनुष्यशरीरस्य शक्ति: सुष्ठु नियोजनं💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अजनबी
Dr. Alpa H. Amin
✍️मी परत शुन्य होणार नाही..!✍️
"अशांत" शेखर
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️हिटलर अभी जिंदा है...✍️
"अशांत" शेखर
शेर राजा
Buddha Prakash
हिन्दी थिएटर के प्रमुख हस्ताक्षर श्री पंकज एस. दयाल जी...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
छलके जो तेरी अखियाँ....
Dr. Alpa H. Amin
Loading...