Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 May 2024 · 3 min read

एक दिन उसने यूं ही

एक दिन उसने यूं ही कहा था, मुझसे-

“देख एक वो भी वक्त था

और एक यह भी वक्त हैl

जब तुम मुझसे अनजान थे

और अब तुम मेरे सब कुछ हो।

मेरे मीत ऐसे ही बदलता है वक्त

कोई नहीं जानता इसे,

कोई नहीं पहचानता है इसकी चाल को।

तब तुम मुझसे अनजान थे

और आज तुम मेरे साथ हो।

मगर फर्क है तो बस इतना कि

तब हवाएं शान्त थी और

आज वह भी बहुत कुछ कहती हैं।

तब तुम्हारे कंधे पर मेरा अधिकार न था,

मगर आज वह सिर्फ मेरा है।

क्या खबर थी मुझे कि तुम ही मेरे हो।

नहीं तो सदियों से संजोकर रखा होता,

अपने इस खजाने को।

तुम कितने पास रहते थे

और मैं ढूंढता रहा

तुमको दुनिया के हर कोने में।

यकीन नहीं होता अभी भी

दिवास्वप्न लगता है,

तेरा मेरा मिलना।

कैसे कहूं कि तुम मेरे हो,

डर लगता है कहीं

मेरी ही नज़र ना लग जाए।

कैसे कहूं तुम मेरे ही हो

कहीं दिल खुशी से झूम ही न जाए।

क्या कहूं तुझे मेरी मंजिल की मालिक।

बस इतना बता दे

तूने मुझे ही क्यों अपनाया?

तेरे लिए इस जहां में

कमी नहीं फरिश्तों की।

पर शायद कोई तुमको

जान ही नहीं पाया होगा।

नहीं तो कैसे मुझे तुम मिल पाते।

तुम जो भी हो क्या कहूं तुमको,

क्या नाम दूं,

देखूं तुम्हें कि थाम लूं?

कि इतना मदहोश हुआ जाता हूं,

मैं बनकर

आफताब सी कली का हमसाया।

लगता है कि दुनिया का

बस मैं ही हूं शहंशाह।

अच्छा सुनो!

जो तुम आ ही गयी हो अब

तो कभी लौट के ना जाना वापस।

क्योंकि डर लगता है मुझे

उन अकेली रातों

और अंधेरी गलियों से।

पाया जो तुमको तो

रोशन हुआ है मेरा जग साराl

तेरे बिना सूरज में भी नहीं था

तेज़ इतना सारा।

लगता है कभी कभी

कि तू है तो मेरा वजू़द है

तू है तो यह जमाना है

मेरी जान मेरे लिए।

जो तू नहीं तो कुछ भी नहीं

जो तू है साथ,

तो जीने का मकसद है मेरे पास।

जाने क्या जादू है तेरे भीतर

कि आज मैं बहुत खुश हूं तुझे पाकर।

नहीं रहना मुझे तुझे खो कर

अब कभी।

बहुत सही है मैंने

जमाने की ठोकर।

तू मिल ही गयी फिर

नहीं तो और भी सहना होता,

तुम्हें पाने की खातिर।

कैसे शुक्रिया करूं मैं

उस रचनाकार का,

उस विधाता, परवरदिगार का,

जिसने तुमको बनाया।

इतना सुंदर, इतना पावन।

दशा दिशा की परवाह नहीं अब मुझे।

तुम साथ हो तो,

साहिल भी मिल ही जाएगा।

क्या कहूं तुमसे कि

कितना खाली था मैं तुम्हारे बिना

और सुकून से भरा भरा लगता है

अब दिल का हर कोना।

तब भी तुम मुस्कुराते थे

और अब भी तुम मुस्कुराते हो।

मगर फर्क इतना है कि

तब नैन सितारे शर्माते थे और

अब नैनों में सितारे झिलमिलाते हैं।

जब हम मिले,

मैं और तुम थे,

मगर इस वक्त हम हम हैं।

मेरी सांसों के साथी और क्या कहूं तुमसे।

दुनिया की सारी भाषाओं में भी कहूं,

तो भी तेरे बखान को शब्दों की कमी है।”

©️ रचना ‘मोहिनी’

2 Likes · 39 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गुरु महाराज के श्री चरणों में, कोटि कोटि प्रणाम है
गुरु महाराज के श्री चरणों में, कोटि कोटि प्रणाम है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हमारे तो पूजनीय भीमराव है
हमारे तो पूजनीय भीमराव है
gurudeenverma198
"वीर शिवाजी"
Dr. Kishan tandon kranti
राष्ट्र पिता महात्मा गाँधी
राष्ट्र पिता महात्मा गाँधी
लक्ष्मी सिंह
एक लम्हा है ज़िन्दगी,
एक लम्हा है ज़िन्दगी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
आज कल पढ़ा लिखा युवा क्यों मौन है,
आज कल पढ़ा लिखा युवा क्यों मौन है,
शेखर सिंह
अंधेरे में भी ढूंढ लेंगे तुम्हे।
अंधेरे में भी ढूंढ लेंगे तुम्हे।
Rj Anand Prajapati
*गधा (बाल कविता)*
*गधा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
नुकसान हो या मुनाफा हो
नुकसान हो या मुनाफा हो
Manoj Mahato
रमेशराज की ‘ गोदान ‘ के पात्रों विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की ‘ गोदान ‘ के पात्रों विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
तू नर नहीं नारायण है
तू नर नहीं नारायण है
Dr. Upasana Pandey
संवेदना (वृद्धावस्था)
संवेदना (वृद्धावस्था)
नवीन जोशी 'नवल'
उठ वक़्त के कपाल पर,
उठ वक़्त के कपाल पर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दिल जीत लेगी
दिल जीत लेगी
Dr fauzia Naseem shad
जीत से बातचीत
जीत से बातचीत
Sandeep Pande
जग अंधियारा मिट रहा, उम्मीदों के संग l
जग अंधियारा मिट रहा, उम्मीदों के संग l
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
मन मुकुर
मन मुकुर
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
"What comes easy won't last,
पूर्वार्थ
चेहरे क्रीम पाउडर से नहीं, बल्कि काबिलियत से चमकते है ।
चेहरे क्रीम पाउडर से नहीं, बल्कि काबिलियत से चमकते है ।
Ranjeet kumar patre
कृपया मेरी सहायता करो...
कृपया मेरी सहायता करो...
Srishty Bansal
आराधना
आराधना
Kanchan Khanna
*
*"माँ महागौरी"*
Shashi kala vyas
#लघु_कविता
#लघु_कविता
*प्रणय प्रभात*
"मौत से क्या डरना "
Yogendra Chaturwedi
सावन में घिर घिर घटाएं,
सावन में घिर घिर घटाएं,
Seema gupta,Alwar
84कोसीय नैमिष परिक्रमा
84कोसीय नैमिष परिक्रमा
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
Sanjay ' शून्य'
बह्र 2122 2122 212 फ़ाईलातुन फ़ाईलातुन फ़ाईलुन
बह्र 2122 2122 212 फ़ाईलातुन फ़ाईलातुन फ़ाईलुन
Neelam Sharma
साकार नहीं होता है
साकार नहीं होता है
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
रिश्तों में...
रिश्तों में...
Shubham Pandey (S P)
Loading...