Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Oct 2016 · 1 min read

*इस बार दिवाली सीमा पर*

इस बार दिवाली सीमा पर
…आनन्द विश्वास

इस बार दिवाली सीमा पर,
है खड़ा मवाली सीमा पर।

इसको अब सीधा करना है,
इसको अब नहीं सुधरना है।
इनके मुण्डों को काट-काट,
कचरे के संग फिर लगा आग।

गिन-गिन कर बदला लेना है,
हम कूँच करेंगे सीमा पर।

ये पाक नहीं, ना पाकी है,
चीनी, मिसरी-सा साथी है।
दोनों की नीयत साफ नहीं,
अब करना इनको माफ नहीं।

इनकी औकात बताने को,
हम, चलो चलेंगे सीमा पर।

दो-चार लकीरें नक्शे की,
बस हमको जरा बदलना है।
भूगोल बदलना है हमको,
इतिहास स्वयं लिख जाना है।

आतातायी का कर विनाश,
फिर धूम-धड़ाका सीमा पर।

…आनन्द विश्वास

Language: Hindi
256 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हिसाब रखियेगा जनाब,
हिसाब रखियेगा जनाब,
Buddha Prakash
अभी दिल भरा नही
अभी दिल भरा नही
Ram Krishan Rastogi
🦋🦋तुम रहनुमा बनो मेरे इश्क़ के🦋🦋
🦋🦋तुम रहनुमा बनो मेरे इश्क़ के🦋🦋
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तुम्हें रूठना आता है मैं मनाना सीख लूँगा,
तुम्हें रूठना आता है मैं मनाना सीख लूँगा,
pravin sharma
Mere hisse me ,
Mere hisse me ,
Sakshi Tripathi
मेरा जीवन बसर नहीं होता।
मेरा जीवन बसर नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
*क्रुद्ध हुए अध्यात्म-भूमि के, पर्वत प्रश्न उठाते (हिंदी गजल
*क्रुद्ध हुए अध्यात्म-भूमि के, पर्वत प्रश्न उठाते (हिंदी गजल
Ravi Prakash
दोष उनका कहां जो पढ़े कुछ नहीं,
दोष उनका कहां जो पढ़े कुछ नहीं,
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
■ विनम्र अपील...
■ विनम्र अपील...
*Author प्रणय प्रभात*
दोगला चेहरा
दोगला चेहरा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
रमेशराज के 2 मुक्तक
रमेशराज के 2 मुक्तक
कवि रमेशराज
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
भगवावस्त्र
भगवावस्त्र
Dr Parveen Thakur
लोगों के रंग
लोगों के रंग
Surinder blackpen
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
हे🙏जगदीश्वर आ घरती पर🌹
हे🙏जगदीश्वर आ घरती पर🌹
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हिंदी हाइकु- नवरात्रि विशेष
हिंदी हाइकु- नवरात्रि विशेष
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हथिनी की व्यथा
हथिनी की व्यथा
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
ज़िंदगी मायने बदल देगी
ज़िंदगी मायने बदल देगी
Dr fauzia Naseem shad
2234.
2234.
Dr.Khedu Bharti
न पूछो हुस्न की तारीफ़ हम से,
न पूछो हुस्न की तारीफ़ हम से,
Vishal babu (vishu)
कभी भूल से भी तुम आ जाओ
कभी भूल से भी तुम आ जाओ
Chunnu Lal Gupta
दुख मिल गया तो खुश हूँ मैं..
दुख मिल गया तो खुश हूँ मैं..
shabina. Naaz
* रेल हादसा *
* रेल हादसा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मुरली कि धुन
मुरली कि धुन
Anil chobisa
खुद पर यकीं
खुद पर यकीं
Satish Srijan
चल‌ मनवा चलें....!!!
चल‌ मनवा चलें....!!!
Kanchan Khanna
दोहे एकादश...
दोहे एकादश...
डॉ.सीमा अग्रवाल
"पतवार बन"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...