Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Sep 2016 · 1 min read

इश्क़ होता तो रुकता

हर बार वही झुकता
सही था
गलत बता के निकल लिया

इश्क़ होता तो रुकता
ज़रूरत थी
हादसा बता के निकल लिया !!!!!!

466 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Yashvardhan Goel
View all
You may also like:
आब त रावणक राज्य अछि  सबतरि ! गाम मे ,समाज मे ,देशक कोन - को
आब त रावणक राज्य अछि सबतरि ! गाम मे ,समाज मे ,देशक कोन - को
DrLakshman Jha Parimal
ज़िंदगी के सवाल का
ज़िंदगी के सवाल का
Dr fauzia Naseem shad
विश्वगुरु
विश्वगुरु
Shekhar Chandra Mitra
श्रम कम होने न देना _
श्रम कम होने न देना _
Rajesh vyas
गीत
गीत
Kanchan Khanna
💐प्रेम कौतुक-362💐
💐प्रेम कौतुक-362💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्रेम प्रणय मधुमास का पल
प्रेम प्रणय मधुमास का पल
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मुक्तक
मुक्तक
जगदीश शर्मा सहज
2879.*पूर्णिका*
2879.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
था जब सच्चा मीडिया,
था जब सच्चा मीडिया,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ग़ज़ल/नज़्म - उसका प्यार जब से कुछ-कुछ गहरा हुआ है
ग़ज़ल/नज़्म - उसका प्यार जब से कुछ-कुछ गहरा हुआ है
अनिल कुमार
Not only doctors but also cheater opens eyes.
Not only doctors but also cheater opens eyes.
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ऑफिसियल रिलेशन
ऑफिसियल रिलेशन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हत्या
हत्या
Kshma Urmila
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मिलो ना तुम अगर तो अश्रुधारा छूट जाती है ।
मिलो ना तुम अगर तो अश्रुधारा छूट जाती है ।
Arvind trivedi
कहते हैं,
कहते हैं,
Dhriti Mishra
मुरली कि धुन,
मुरली कि धुन,
Anil chobisa
*रोने वाली सूरत है, लेकिन मुस्काएँ होली में 【 हिंदी गजल/ गीत
*रोने वाली सूरत है, लेकिन मुस्काएँ होली में 【 हिंदी गजल/ गीत
Ravi Prakash
17- राष्ट्रध्वज हो सबसे ऊँचा
17- राष्ट्रध्वज हो सबसे ऊँचा
Ajay Kumar Vimal
आईना अब भी मुझसे
आईना अब भी मुझसे
Satish Srijan
आज के युग में नारीवाद
आज के युग में नारीवाद
Surinder blackpen
व्यंग्य क्षणिकाएं
व्यंग्य क्षणिकाएं
Suryakant Dwivedi
I want to collaborate with my  lost pen,
I want to collaborate with my lost pen,
Sakshi Tripathi
स्त्री का प्रेम ना किसी का गुलाम है और ना रहेगा
स्त्री का प्रेम ना किसी का गुलाम है और ना रहेगा
प्रेमदास वसु सुरेखा
#देसी_ग़ज़ल
#देसी_ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
मैं हर चीज अच्छी बुरी लिख रहा हूॅं।
मैं हर चीज अच्छी बुरी लिख रहा हूॅं।
सत्य कुमार प्रेमी
बलिदान
बलिदान
लक्ष्मी सिंह
निकलते हो अब तो तुम
निकलते हो अब तो तुम
gurudeenverma198
21वीं सदी और भारतीय युवा
21वीं सदी और भारतीय युवा
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
Loading...