Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Feb 2024 · 1 min read

आहत हो कर बापू बोले

शांति वन से बापू बोले, होकर आहत हे राम रे
क्यों राम नाम मचा रहे हो, तुम इतना कोहराम रे
क्यों जन जन की भावनाओं को, बयानों से भड़काते हो
जो कण कण में वसते हैं, निमंत्रण उनका ठुकराते हो
हिन्दू मुस्लिम करते करते,देश को तुमने बांट दिया
राजनीति और वोट के खातिर, बहुत बड़ा अपराध किया
आज भी तुम वोटों के कारण, क्यों बांट रहे हे राम रे
जनता को भ्रमित करने का, करते हो क्यों काम रे
काश एक साथ मिलकर, तुम राम के मंदिर आते
जन-मन के तुम साथ बैठकर, खुशियां आनंद मनाते
रामराज्य की उत्कृष्ट नीतियां, दुनिया में फैलाते
सांप्रदायिक सदभाव और आपसी प्रेम बढ़ाते
क्यों बात अनर्गल करते हो, शर्म शर्म हे राम रे
क्यों राम के नाम पर तुम, मचा रहे कोहराम रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

Language: Hindi
1 Like · 92 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
*खिलौना आदमी है बस, समय के हाथ चाभी है (हिंदी गजल)*
*खिलौना आदमी है बस, समय के हाथ चाभी है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
लम्हों की तितलियाँ
लम्हों की तितलियाँ
Karishma Shah
*अजीब आदमी*
*अजीब आदमी*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्यारा सुंदर वह जमाना
प्यारा सुंदर वह जमाना
Vishnu Prasad 'panchotiya'
23/09.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/09.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मेरे प्यारे भैया
मेरे प्यारे भैया
Samar babu
“गुरुर मत करो”
“गुरुर मत करो”
Virendra kumar
समझदार व्यक्ति जब संबंध निभाना बंद कर दे
समझदार व्यक्ति जब संबंध निभाना बंद कर दे
शेखर सिंह
शायद शब्दों में भी
शायद शब्दों में भी
Dr Manju Saini
चोट शब्दों की ना सही जाए
चोट शब्दों की ना सही जाए
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जात-पांत और ब्राह्मण / डा. अम्बेडकर
जात-पांत और ब्राह्मण / डा. अम्बेडकर
Dr MusafiR BaithA
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Fuzail Sardhanvi
शेर
शेर
Monika Verma
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
कभी हैं भगवा कभी तिरंगा देश का मान बढाया हैं
कभी हैं भगवा कभी तिरंगा देश का मान बढाया हैं
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
तमाम लोग किस्मत से
तमाम लोग किस्मत से "चीफ़" होते हैं और फ़ितरत से "चीप।"
*Author प्रणय प्रभात*
कमाल करते हैं वो भी हमसे ये अनोखा रिश्ता जोड़ कर,
कमाल करते हैं वो भी हमसे ये अनोखा रिश्ता जोड़ कर,
Vishal babu (vishu)
मास्टरजी ज्ञानों का दाता
मास्टरजी ज्ञानों का दाता
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
शौक में नहीं उड़ता है वो, उड़ना उसकी फक्र पहचान है,
शौक में नहीं उड़ता है वो, उड़ना उसकी फक्र पहचान है,
manjula chauhan
ईद मुबारक
ईद मुबारक
Satish Srijan
"मैं सोच रहा था कि तुम्हें पाकर खुश हूं_
Rajesh vyas
"वाह नारी तेरी जात"
Dr. Kishan tandon kranti
फितरत
फितरत
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
इक दिन तो जाना है
इक दिन तो जाना है
नन्दलाल सुथार "राही"
पता ही नहीं चलता यार
पता ही नहीं चलता यार
पूर्वार्थ
चली पुजारन...
चली पुजारन...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मैंने खुद को जाना, सुना, समझा बहुत है
मैंने खुद को जाना, सुना, समझा बहुत है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
तेवरी का सौन्दर्य-बोध +रमेशराज
तेवरी का सौन्दर्य-बोध +रमेशराज
कवि रमेशराज
फ़ितरत-ए-साँप
फ़ितरत-ए-साँप
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...