Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2024 · 1 min read

आराधना

माँ अम्बे करूँ तेरी आराधना,
तेरी भक्ति मिले है मेरी कामना।
माँ अम्बे….!
अपने चरणों में मुझको जगह देना माँ,
ज्ञानज्योति हृदय में जला देना माँ।
मन में श्रद्धा हो, भक्ति हो, विश्वास हो,
मैं जहाँ भी रहूँ तुम मेरे साथ हो।
और तेरे सिवा मन में हो कोई न।
तेरी भक्ति मिले…!
मुझपे कर देना मैया तुम इतनी कृपा,
मुस्करा कर बिताऊँ मैं जीवन सदा।
बसी मेरे हृदय में मैया तेरी तस्वीर है,
सौंप दी तुझको अपनी यह तकदीर है।
छोड़ कर दर तेरा अब मैं जाऊँ कहाँ?
तेरी भक्ति मिले…!
चंद शब्दों की माला पिरोई है माँ,
पास मेरे न भेंट और कोई है माँ।
दुनिया की रीत से मैया अन्जान हूँ,
एक बेटी मैया तेरी मैं नादान हूँ।
सिर पे आशीष का हाथ रखना सदा।
तेरी भक्ति मिले…!

रचनाकार :- कंचन खन्ना, मुरादाबाद,
(उ०प्र०, भारत) ।
सर्वाधिकार, सुरक्षित (रचनाकार) ।
वर्ष : २०१३.

66 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kanchan Khanna
View all
You may also like:
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
अब कभी तुमको खत,हम नहीं लिखेंगे
अब कभी तुमको खत,हम नहीं लिखेंगे
gurudeenverma198
Nothing grand to wish for, but I pray that I am not yet pass
Nothing grand to wish for, but I pray that I am not yet pass
पूर्वार्थ
हिन्दी पर हाइकू .....
हिन्दी पर हाइकू .....
sushil sarna
"वैसा ही है"
Dr. Kishan tandon kranti
व्यस्तता जीवन में होता है,
व्यस्तता जीवन में होता है,
Buddha Prakash
खारिज़ करने के तर्क / मुसाफ़िर बैठा
खारिज़ करने के तर्क / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
गलतियां सुधारी जा सकती है,
गलतियां सुधारी जा सकती है,
Tarun Singh Pawar
गैस कांड की बरसी
गैस कांड की बरसी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
टिक टिक टिक
टिक टिक टिक
Ghanshyam Poddar
रम्भा की मी टू
रम्भा की मी टू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
त्याग
त्याग
Punam Pande
*उर्मिला (कुंडलिया)*
*उर्मिला (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
अगर आप हमारी मोहब्बत की कीमत लगाने जाएंगे,
अगर आप हमारी मोहब्बत की कीमत लगाने जाएंगे,
Kanchan Alok Malu
पहचान
पहचान
Seema gupta,Alwar
मेरा हाल कैसे किसी को बताउगा, हर महीने रोटी घर बदल बदल कर खा
मेरा हाल कैसे किसी को बताउगा, हर महीने रोटी घर बदल बदल कर खा
Anil chobisa
देखी देखा कवि बन गया।
देखी देखा कवि बन गया।
Satish Srijan
कुटुंब के नसीब
कुटुंब के नसीब
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
तोंदू भाई, तोंदू भाई..!!
तोंदू भाई, तोंदू भाई..!!
Kanchan Khanna
रिश्ते वही अनमोल
रिश्ते वही अनमोल
Dr fauzia Naseem shad
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
ज़िन्दगी एक बार मिलती हैं, लिख दें अपने मन के अल्फाज़
ज़िन्दगी एक बार मिलती हैं, लिख दें अपने मन के अल्फाज़
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
☄️ चयन प्रकिर्या ☄️
☄️ चयन प्रकिर्या ☄️
Dr Manju Saini
रमेशराज के 7 मुक्तक
रमेशराज के 7 मुक्तक
कवि रमेशराज
*श्रमिक मजदूर*
*श्रमिक मजदूर*
Shashi kala vyas
चिट्ठी   तेरे   नाम   की, पढ लेना करतार।
चिट्ठी तेरे नाम की, पढ लेना करतार।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
लम्हे
लम्हे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
अज़ीब था
अज़ीब था
Mahendra Narayan
2618.पूर्णिका
2618.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
💐प्रेम कौतुक-455💐
💐प्रेम कौतुक-455💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...