Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Feb 2024 · 1 min read

*आए जब से राम हैं, चारों ओर वसंत (कुंडलिया)*

आए जब से राम हैं, चारों ओर वसंत (कुंडलिया)
_________________________
आए जब से राम हैं, चारों ओर वसंत
पूजन-वंदन चल रहे, प्रमुदित दिखते संत
प्रमुदित दिखते संत, सनातन भाव जगाया
प्रखर आत्म का बोध, सभी के मन में आया
कहते रवि कविराय, जगत ने प्रभु-गुण गाए
हुआ अयोध्या धन्य, तीर्थ में यात्री आए
————————————–
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615451

77 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
जिन्दगी की पाठशाला
जिन्दगी की पाठशाला
Ashokatv
जहां पर जन्म पाया है वो मां के गोद जैसा है।
जहां पर जन्म पाया है वो मां के गोद जैसा है।
सत्य कुमार प्रेमी
*अपने अपनों से हुए, कोरोना में दूर【कुंडलिया】*
*अपने अपनों से हुए, कोरोना में दूर【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
कब तक चाहोगे?
कब तक चाहोगे?
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
दौर ऐसा हैं
दौर ऐसा हैं
SHAMA PARVEEN
पैर, चरण, पग, पंजा और जड़
पैर, चरण, पग, पंजा और जड़
डॉ० रोहित कौशिक
किस्से हो गए
किस्से हो गए
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मजबूरी
मजबूरी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*मुहब्बत के मोती*
*मुहब्बत के मोती*
आर.एस. 'प्रीतम'
जीवन की विफलता
जीवन की विफलता
Dr fauzia Naseem shad
हे राम !
हे राम !
Ghanshyam Poddar
साहिल पर खड़े खड़े हमने शाम कर दी।
साहिल पर खड़े खड़े हमने शाम कर दी।
Sahil Ahmad
रणचंडी बन जाओ तुम
रणचंडी बन जाओ तुम
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
"चापलूसी"
Dr. Kishan tandon kranti
ख्वाहिशों की ना तमन्ना कर
ख्वाहिशों की ना तमन्ना कर
Harminder Kaur
2569.पूर्णिका
2569.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हॅंसी
हॅंसी
Paras Nath Jha
कवित्व प्रतिभा के आप क्यों ना धनी हों ,पर आप में यदि व्यावहा
कवित्व प्रतिभा के आप क्यों ना धनी हों ,पर आप में यदि व्यावहा
DrLakshman Jha Parimal
तथाकथित धार्मिक बोलबाला झूठ पर आधारित है
तथाकथित धार्मिक बोलबाला झूठ पर आधारित है
Mahender Singh
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
कर रहे हैं वंदना
कर रहे हैं वंदना
surenderpal vaidya
चाहो जिसे चाहो तो बेलौस होके चाहो
चाहो जिसे चाहो तो बेलौस होके चाहो
shabina. Naaz
काल का स्वरूप🙏
काल का स्वरूप🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आप और हम
आप और हम
Neeraj Agarwal
कल कई मित्रों ने बताया कि कल चंद्रयान के समाचार से आंखों से
कल कई मित्रों ने बताया कि कल चंद्रयान के समाचार से आंखों से
Sanjay ' शून्य'
मैं
मैं "आदित्य" सुबह की धूप लेकर चल रहा हूं।
Dr. ADITYA BHARTI
*श्रमिक मजदूर*
*श्रमिक मजदूर*
Shashi kala vyas
देखो भालू आया
देखो भालू आया
अनिल "आदर्श"
#आदरांजलि
#आदरांजलि
*Author प्रणय प्रभात*
इस जमाने जंग को,
इस जमाने जंग को,
Dr. Man Mohan Krishna
Loading...