Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jan 2017 · 1 min read

अभिनय…….

बचपन में परियों की कहानी सुनते थे…
जब भी बच्चे को सुलाते थे…
बोलते थे की सो जा ….
सपने में परी देश से परी आएगी…
सुन्दर सुन्दर खिलोने लाएगी…
सुन्दर से पंखों पे हो सवार….
तुमको भी उडा ले जायेगी….
परी देश से परी आएगी….

पर वो सपने में सपने की तरह परी का आना…
सच में सुन्दर सा सपना ही था…
परी तो आज भी आती है….
पर किसी को अपनाना नहीं आता…
कुछ तो जन्म से पहले ही मार दी जाती हैं…
किसी के पंखों को काटके लहूलुहान किया जाता है…
सब के सामने….
पता नहीं परी की सुंदरता दोषी है या सपना दोषी…
या हमारा विकृत होता मन…
या कि वो दौर और ही था…जब परियों का आना सुखद रहा होगा…
सब के सब चिंतन…मंथन में व्यस्त हो जाते हैं…
कुछ देर को सब मौन हो जाते हैं….
शान्ति के लिए…

फिर एक परी लहूलुहान होती है…
फिर सब नाटक होता है…
फिर हम सब नाटक में पात्र बन…
अपना अपना अभिनय करते हैं….
और फिर अभिनय पर पुरूस्कार मिलते हैं…

परी….खो जाती है…
अभिनय नहीं है न वो…
जो याद रखी जाए….
और स्वागत किया जाए…
है ना….
\
/सी.एम्. शर्मा

Language: Hindi
567 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from CM Sharma
View all
You may also like:
घुंटन जीवन का🙏
घुंटन जीवन का🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बगैर पैमाने के
बगैर पैमाने के
Satish Srijan
रुकना हमारा काम नहीं...
रुकना हमारा काम नहीं...
AMRESH KUMAR VERMA
आज मैं एक नया गीत लिखता हूँ।
आज मैं एक नया गीत लिखता हूँ।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
मजदूर दिवस पर
मजदूर दिवस पर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सियासत
सियासत
हिमांशु Kulshrestha
जब दिल से दिल ही मिला नहीं,
जब दिल से दिल ही मिला नहीं,
manjula chauhan
मैं तुम्हारे ख्वाबों खयालों में, मद मस्त शाम ओ सहर में हूॅं।
मैं तुम्हारे ख्वाबों खयालों में, मद मस्त शाम ओ सहर में हूॅं।
सत्य कुमार प्रेमी
बचपन खो गया....
बचपन खो गया....
Ashish shukla
खुश रहने की कोशिश में
खुश रहने की कोशिश में
Surinder blackpen
सुदामा कृष्ण के द्वार (1)
सुदामा कृष्ण के द्वार (1)
Vivek Ahuja
प्रतिबद्ध मन
प्रतिबद्ध मन
लक्ष्मी सिंह
मसला ये हैं कि ज़िंदगी उलझनों से घिरी हैं।
मसला ये हैं कि ज़िंदगी उलझनों से घिरी हैं।
ओसमणी साहू 'ओश'
💐प्रेम कौतुक-521💐
💐प्रेम कौतुक-521💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जो बिकता है!
जो बिकता है!
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
वो साँसों की गर्मियाँ,
वो साँसों की गर्मियाँ,
sushil sarna
" आशा "
Dr. Kishan tandon kranti
राम नाम  हिय राख के, लायें मन विश्वास।
राम नाम हिय राख के, लायें मन विश्वास।
Vijay kumar Pandey
■ विडंबना-
■ विडंबना-
*Author प्रणय प्रभात*
देश की हिन्दी
देश की हिन्दी
surenderpal vaidya
यह मौसम और कुदरत के नज़ारे हैं।
यह मौसम और कुदरत के नज़ारे हैं।
Neeraj Agarwal
बरक्कत
बरक्कत
Awadhesh Singh
मैं असफल और नाकाम रहा!
मैं असफल और नाकाम रहा!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
भारत कभी रहा होगा कृषि प्रधान देश
भारत कभी रहा होगा कृषि प्रधान देश
शेखर सिंह
बाल कविता :गर्दभ जी
बाल कविता :गर्दभ जी
Ravi Prakash
संकल्प
संकल्प
Bodhisatva kastooriya
मिट्टी
मिट्टी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कमरा उदास था
कमरा उदास था
Shweta Soni
दिखा दूंगा जहाँ को जो मेरी आँखों ने देखा है!!
दिखा दूंगा जहाँ को जो मेरी आँखों ने देखा है!!
पूर्वार्थ
kab miloge piya - Desert Fellow Rakesh Yadav ( कब मिलोगे पिया )
kab miloge piya - Desert Fellow Rakesh Yadav ( कब मिलोगे पिया )
Desert fellow Rakesh
Loading...