Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Apr 2024 · 1 min read

“अपनी माँ की कोख”

“अपनी माँ की कोख”
गलत कर्मों से खुद को
रोक सके तो रोक,
ऐ मानव तुम लजाना मत
अपनी माँ की कोख।

1 Like · 1 Comment · 44 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
गांव की गौरी
गांव की गौरी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*कृष्ण की दीवानी*
*कृष्ण की दीवानी*
Shashi kala vyas
*कर्मों का लेखा रखते हैं, चित्रगुप्त महाराज (गीत)*
*कर्मों का लेखा रखते हैं, चित्रगुप्त महाराज (गीत)*
Ravi Prakash
प्यार का उपहार तुमको मिल गया है।
प्यार का उपहार तुमको मिल गया है।
surenderpal vaidya
जीवन सुंदर गात
जीवन सुंदर गात
Kaushlendra Singh Lodhi Kaushal
सादगी
सादगी
राजेंद्र तिवारी
ज्यों ही धरती हो जाती है माता
ज्यों ही धरती हो जाती है माता
ruby kumari
अमूक दोस्त ।
अमूक दोस्त ।
SATPAL CHAUHAN
कुछ पंक्तियाँ
कुछ पंक्तियाँ
आकांक्षा राय
"सपना"
Dr. Kishan tandon kranti
नववर्ष
नववर्ष
Neeraj Agarwal
कौतूहल एवं जिज्ञासा
कौतूहल एवं जिज्ञासा
Shyam Sundar Subramanian
‘ चन्द्रशेखर आज़ाद ‘ अन्त तक आज़ाद रहे
‘ चन्द्रशेखर आज़ाद ‘ अन्त तक आज़ाद रहे
कवि रमेशराज
"बिलखती मातृभाषा "
DrLakshman Jha Parimal
साया
साया
Harminder Kaur
भारत की देख शक्ति, दुश्मन भी अब घबराते है।
भारत की देख शक्ति, दुश्मन भी अब घबराते है।
Anil chobisa
24/254. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/254. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*संवेदनाओं का अन्तर्घट*
*संवेदनाओं का अन्तर्घट*
Manishi Sinha
जब तक हो तन में प्राण
जब तक हो तन में प्राण
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
~~~~~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~~~~~
Hanuman Ramawat
"सुनो एक सैर पर चलते है"
Lohit Tamta
मैं भी तुम्हारी परवाह, अब क्यों करुँ
मैं भी तुम्हारी परवाह, अब क्यों करुँ
gurudeenverma198
नये साल में
नये साल में
Mahetaru madhukar
निगाह  मिला  के , सूरज  पे  ऐतबार  तो  कर ,
निगाह मिला के , सूरज पे ऐतबार तो कर ,
Neelofar Khan
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*प्रणय प्रभात*
ढूंढें .....!
ढूंढें .....!
Sangeeta Beniwal
जिस्म से जान जैसे जुदा हो रही है...
जिस्म से जान जैसे जुदा हो रही है...
Sunil Suman
*मिट्टी की वेदना*
*मिट्टी की वेदना*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
धीरे धीरे  निकल  रहे  हो तुम दिल से.....
धीरे धीरे निकल रहे हो तुम दिल से.....
Rakesh Singh
आलस्य का शिकार
आलस्य का शिकार
Paras Nath Jha
Loading...